Monday, 8 July, 2019
Home / Highlights / यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा-2017 में डी.अनुदीप टॉपर

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा-2017 में डी.अनुदीप टॉपर

न्यूजवेव @ नईदिल्ली

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने शुक्रवार को सिविल सर्विस परीक्षा-2017 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया। इसमें डुरीशेट्टी अनुदीप ने देश में प्रथम स्थान हासिल किया है। वहीं, अनु कुमारी को इस महत्वपूर्ण परीक्षा में दूसरा और सचिन गुप्ता को तीसरा स्थान हासिल हुआ। इस परीक्षा में 180 आईएएस, 42 आईएफएस (विदेश सेवा) और 150 आईपीएस अधिकारियों का चयन हुआ।

हैदराबाद के डी.अनुदीप फिलहाल भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) के अधिकारी हैं। 2013 में आईआरएस बने अनुदीप को उस वर्ष एआईआर-790 हासिल हुई थी। पिछडे़ वर्ग से ताल्लुक रखने वाले अनुदीप ने बिट्स पिलानी से बीटेक किया है।

कोटा से अनुपम सिंघल आईएएस बने

Anupam Singhal with Family

यूपीएससी.2017 के रिजल्ट में कोटा के अनुपम सिंघल ने एआईआर-227 पर सफलता हासिल की। महावीर नगर विस्तार में रहने वाले डीएवी स्कूल के छात्र अनुपम सिंघल एक वर्ष बंसल क्लासेस से कोचिंग लेकर 2008 में आईआईटी-जेईई में चयनित हुए। उन्हें जेईई में एआईआर-2848 मिली थी।

उन्होने आईआईटी, गोेवाहाटी से 2012 में मेकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक किया। कैम्पस प्लेसमेंट में उन्हें टाटा स्टील जमेशेदपुर में मैकेनिकल इंजीनियर के पद पर डेढ़ साल जाॅब किया।

इस बीच आईएएस बनने का ख्वाब पूरा करने के लिए जाॅब छोडकर दिल्ली आ गए। 2015 में पहले प्रयास में इंटरव्यू में रह गए। फिर, 2016 में दूसरे प्रयास में इंडियन काॅपोर्रेट लाॅ सर्विसेस में चयनित होकर मनसर, गुरूग्राम में ट्रैनिंग लेते रहे। लेकिन तीसरे प्रयास में वे अच्छी रैंक के साथ इंटरव्यू में भी सफल रहे।

अनुपम के पापा अश्विनी सिंघल, अल्जीरिया में फर्टीलाइजर प्लांट में मैनेजर हैं और मां अंजू सिंघल हाउस वाइफ हैं।

सक्सेस मंत्र- कॅरिअर में अपना गोल क्लियर रखो। सही दिशा में किए गए प्रयास कभी विफल नहीं होते। काॅम्पिटिशन हर फील्ड में रहता है। सेल्फ काॅन्फिडेंस के साथ कडी मेहनत और लगन आपको मंजिल तक पहुंचाती है।

Check Also

आर्यिका 105 विशुद्धमति माताजी ने सर्वाधिक 36 दीक्षाएं दी

जैन महाकुंभ : तीन दिवसीय स्वर्णिम संयम दीक्षा महोत्सव में आस्था का सैलाब न्यूजवेव @ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!