Sunday, 29 September, 2019
Home / Featured / राज्य में आयुष कोर्स के लिए नीट-2019 की पात्रता जरूरी नहीं

राज्य में आयुष कोर्स के लिए नीट-2019 की पात्रता जरूरी नहीं

राजस्थान के प्राइवेट आयुष कॉलेजों में 12वीं बोर्ड के आधार पर भी प्रवेश सम्भव
न्यूजवेव @ जयपुर
राजस्थान के निजी आयुष कॉलेजों में आयुर्वेद, यूनानी, होम्योपैथी तथा नेचुरोपैथी स्नातक कोर्स में प्रवेश के लिए नीट-2019 पात्रता समाप्त कर दी गई है।
एक्सपर्ट देव शर्मा ने बताया कि माननीय उच्च न्यायालय जोधपुर द्वारा 27 सितंबर को पारित अंतरिम आदेश के बाद चेयरमैन राजस्थान आयुष काउंसलिंग बोर्ड ने एक नोटिस जारी किया है। जिसके अनुसार 12वीं बोर्ड के प्रतिशत के आधार पर पात्र विद्यार्थियों को अंतिम प्राथमिकता देते हुए काउंसलिंग प्रक्रिया में भाग लेने की छूट दे दी गई है।
सत्र 2019-20 के लिए BAMS, BHMS, BNYS कोर्सेस में प्रवेश के लिए प्रस्तावित माप-अप काउंसलिंग हेतु पात्र विद्यार्थियों से ऑनलाइन आवेदन मांगे गए हैं। ऑनलाइन आवेदन की यह प्रक्रिया 28 सितंबर से प्रारंभ हुई तथा 29 सितंबर की रात्रि 11:50 पर समाप्त होगी। प्रवेश के लिए प्रथम प्राथमिकता नीट-2019 के पात्र विद्यार्थियों को तथा अंतिम प्राथमिकता 12वीं बोर्ड के पात्र विद्यार्थियों को दी जाएगी।

*12वीं बोर्ड के अंकों के आधार पर भी प्रवेश*

आयुष स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु नीट-2019 की पात्रता बाध्यता को समाप्त करते हुए 12वीं बोर्ड के प्राप्ताकों को भी आधार बना दिया गया है। जो विद्यार्थी नीट- 2019 के आधार पर पात्र नहीं है, वह रिक्त सीटों पर प्रवेश के लिए 30 सितंबर एवं 1 अक्टूबर को प्रस्तावित माप अप राउंड हेतु ऑनलाइन आवेदन कर सकता है। प्रवेश पात्रता के लिए 12वीं बोर्ड में सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों हेतु फिजिक्स,केमिस्ट्री तथा बायोलॉजी में एग्रीगेट न्यूनतम 50% अंक आवश्यक है। जबकि ओबीसी, एससी एवं एसटी वर्ग में न्यूनतम 40% अंकों की आवश्यकता है।
विद्यार्थी अधिकृत जानकारी के लिए चेयरमैन आयुष काउंसलिंग बोर्ड, राजस्थान की ऑफिशियल वेबसाइट से संपर्क में रहें।

Check Also

राजस्थान के तीन बिजलीघरों में कोयला संकट

कोयले की तत्काल आपूर्ति के लिए सीएम ने केंद्रीय कोयला मंत्री को लिखा पत्र न्यूजवेव@ …

error: Content is protected !!