Monday, 24 June, 2019
Home / एजुकेशन / CBSE ने 12वीं बोर्ड एग्जाम के पेपर पैटर्न में किया बदलाव

CBSE ने 12वीं बोर्ड एग्जाम के पेपर पैटर्न में किया बदलाव

नया पैटर्न : फिजिक्स के पेपर में कुल 27 प्रश्न। पहली बार 11 प्रश्नों में आंतरिक विकल्प चुनने की छूट मिली

न्यूजवेव @ कोटा

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा 12वीं बोर्ड परीक्षा में 5 मार्च को फिजिक्स पेपर नए पैटर्न के अनुसार स्तरीय रहा। विद्यार्थियों में परीक्षा तनाव कम करने के लिए बोर्ड ने विशेषज्ञों से सुझाव मांगे थे। विशेषज्ञों द्वारा दिए गए सुझावों के अनुसार पेपर पैटर्न में सकारात्मक परिवर्तन किए गए तथा वर्ष 2019 के लिए बिल्कुल नए रूप में तैयार किया गया।

एलन करिअर इंस्टिट्यूट के अकादमिक निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि फिजिक्स का पेपर पूरी तरह नये पैटर्न के अनुसार हुआ। नए पैटर्न के पेपर में कुल 27 प्रश्नों को चार सेक्शन में विभक्त किया गया। विद्यार्थियों में तनाव कम करने के लिए प्रत्येक सेक्शन के प्रश्नों के चयन में आंतरिक विकल्प दिए गए। सीबीसीई के इतिहास में पहली बार पेपर के सभी सेक्शन में प्रश्नों के चयन हेतु विकल्प दिए गए। 12 मार्च को केमिस्ट्री, 15 मार्च को बायोलॉजी व 18 मार्च को मैथ्स का पेपर होगा।

पेपर देकर निकले अमित गर्ग, कुणाल शाह, नमन साहू, श्रेयांश व सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि बोर्ड के इस कदम से उनको बहुत फायदा हुआ। ज्यादा विकल्प मिलने से फिजिक्स का डर खत्म हुआ। गत वर्ष पेपर पांच पार्ट में विभक्त था। वही इस वर्ष पेपर में कुल 4 पार्ट उपलब्ध थे। इसी तरह, 2018 में सिर्फ 5 प्रश्नों के चयन में विकल्पों की सुविधा उपलब्ध थी उसके स्थान पर इस वर्ष 11 प्रश्नों के चयन में विकल्पों की सुविधा थी। इस वर्ष फिजिक्स के पेपर में कुल 27 प्रश्नों थे।

करिअर पॉइंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट देव शर्मा के अनुसार, पेपर स्तरीय रहा,जिससे यह आगामी इंजीनियरिंग एवं मेडिकल प्रवेश की प्रवेश परीक्षाओं के लिए सहायक रहेगा। क्योंकि पेपर में उपलब्ध कई प्रश्न प्रतियोगी परीक्षाओ के स्तर के थे। सीबीएसई की ऑफिशल वेबसाइट पर 3 मार्च को जारी विशेष नोट में पेपर की विसंगतियों को दूर करने के लिए  कार्यप्रणाली को बताया गया है।

पेपर में विसंगति जांचने के लिए विशेष प्रक्रिया

सीबीआई द्वारा पेपर खत्म होने पर 24 घंटे में सभी स्कूलों से पेपर के बारे में फीडबैक लिया जाता है। अन्य स्रोतों द्वारा प्राप्त टिप्पणियों को भी संकलित किया जाता है। फिर विशेषज्ञ जांच करके विसंगतियों की पड़ताल करते पेपर में कोई विसंगति होने पर विषय विशेषज्ञों के सुझाव के आधार पर छात्रहित में निर्णय लेते है। सीबीएसई की 12वी बोर्ड परीक्षाएं भारत सहित अन्य देशों के 5000 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की जा रही है।

Check Also

नवोदय स्कूल,सीतापुरा के 100 में से 84 विद्यार्थी IIT में

रेजोनेंस-दक्षणा ‘सुपर-100 स्कॉलर’ बैच के 100 विद्यार्थियों को जेएनवी, बूंदी में कक्षा-11 व 12वीं में …

error: Content is protected !!