Friday, 27 September, 2019
Home / Featured / 12वीं बोर्ड इम्प्रूवमेंट के लिये प्रेक्टिकल परीक्षा अनिवार्य 

12वीं बोर्ड इम्प्रूवमेंट के लिये प्रेक्टिकल परीक्षा अनिवार्य 

CBSE ने सभी संबद्ध स्कूलों को जारी किये दिशानिर्देश, 30 सितंबर तक भेजनी होगी परीक्षार्थियों की सूची
न्यूजवेव कोटा
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 12वीं बोर्ड परीक्षाओं में इम्प्रूवमेंट करने वाले विद्यार्थियों के लिये थ्योरी पेपर के साथ प्रेक्टिकल परीक्षा को भी अनिवार्य करने के आदेश जारी किये हैं। पिछले वर्ष तक साइंस के ऐसे विद्यार्थी जो परफॉर्मेंस में सुधार के लिये दोबारा बोर्ड परीक्षा में शामिल होते थे, उनका प्रेक्टिकल परीक्षा देना अनिवार्य नहीं था।

एक्सपर्ट देव शर्मा ने बताया कि देश में जेईई-मेन, जेईई-एडवांस्ड तथा नीट व एम्स की प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थी 12वीं बोर्ड परीक्षा के अंकों में सुधार हेतु दोबारा यह परीक्षा देते हैं। ऐसे विद्यार्थी जो बोर्ड की टॉप-20 परसेंटाइल में शामिल नहीं हो पाते हैं वे जेईई-एडवांस्ड में चयनित होने के बावजूद आईआईटी में प्रवेश के लिये पात्र नहीं होते हैं। इसे देखते हुये अधिकांश विद्यार्थी बोर्ड में इम्प्रूवमेंट एग्जाम देते हैं। लेकिन इस सत्र से सीबीएसई ने थ्योरी पेपर के साथ प्रेक्टिकल परीक्षा को भी अनिवार्य कर विद्यार्थियों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।
देशभर में डमी स्कूलों पर शिकंजा

CBSE को बड़ी संख्या में यह शिकायतें मिल रही थी कि पिछले कुछ वर्षों से देशभर में सीबीएसई से मान्यता प्राप्त स्कूल विद्यार्थियों से वार्षिक फीस लेकर उन्हें डमी प्रवेश दे रहे हैं। स्कूल के निर्धारित समय में पंजीकृत विद्यार्थी कोचिंग संस्थानों के क्लासरूम में उपस्थिति दर्ज कराते हैं। जिससे सीबीएसई की साख में गिरावट आ रही थी। लेकिन अब थ्योरी व प्रेक्टिकल परीक्षाओं में विद्यार्थियों की उपस्थिति को अनिवार्य कर कक्षाओं में कुल उपस्थिति के रिकॉर्ड की भी बारीकी से जांच की जायेगी। सूत्रों ने बताया कि चूंकि प्रवेश परीक्षाओं के लिये नेशनल टेस्टिंग एजेंसी अधिकृत है, ऐसे में सीबीएसई द्वारा संबद्ध स्कूलों में पारदर्शिता एवं गुणवत्ता बढ़ाने पर विशेष कदम उठाये जा रहे हैं।
आवेदन की अंतिम तिथी 30 सितंबर
CBSE परीक्षा नियंत्रक के अनुसार, देश के प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग संस्थानों IIT, NIT तथा CFTI में प्रवेश के इच्छुक सीबीएसई विद्यार्थी जो 12जी बोर्ड प्रतिशत की पात्रता पूर्ण नहीं करते तथा बोर्ड प्रतिशत की पात्रता हेतु एक या एक से अधिक विषयों में परफॉर्मेंस इंप्रूवमेंट करना चाहते हैं। ऐसे विद्यार्थियों के लिए इंप्रूवमेंट आवेदन की समय सीमा बिना विलंब शुल्क के 30 सितंबर है। जबकि ₹2000 प्रति विद्यार्थी विलंब शुल्क के साथ आवेदन की अंतिम तारीख 15 अक्टूबर है।
बोर्ड ने संबद्ध सीबीएसई स्कूलों को निर्देश दिये कि शिक्षा सत्र 2019-20 के लिये बोर्ड परीक्षार्थियों की सूची निर्धारित तिथी 30 सितंबर तक भेजेें। 10वीं एवं 12वीं विद्यार्थियों की लिस्ट ऑफ कैंडिडेट्स (LOC) त्रुटिहीन होना आवश्यक है। विलंब शुल्क सहित 15 अक्टूबर तक यह सूची भेजनी होगी। आदेश में निर्देशित किया गया कि एलओसी की सूची भेजने की अंतिम तिथी में कोई परिवर्तन नहीं किया जाएगा।

Check Also

NEET-2019 में 50 फीसदी छात्रों को 19 प्रतिशत अंक भी नहीं मिले

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा नीट-2020 के पेपर पैटर्न में मामूली बदलाव के आसार, विदेशी विद्यार्थियों …

error: Content is protected !!