Monday, 24 June, 2019
Home / Highlights / एक छोटी सी मुहिम ‘स्वच्छ कोटा’ के लिए बन गई मिसाल

एक छोटी सी मुहिम ‘स्वच्छ कोटा’ के लिए बन गई मिसाल

एलन स्वच्छता ब्रिगेड ने एक वर्ष में 2006 स्थानों पर जाकर सफाई की, नववर्ष में सरकारी अस्पतालों में चलेगा स्वच्छता अभियान

न्यूजवेव कोटा

वर्ष 2018 में कोटा शहर को साफ-सुथरा बनाने में एलन स्वच्छता ब्रिगेड ने अग्रणी भूमिका निभाई। टीम द्वारा ‘स्वच्छ कोटा-स्वच्छ भारत’ मिशन के साथ शहर में एक वर्ष में 2006 स्थानों पर निःशुल्क साफ-सफाई करके उनकी निरंतर मॉनिटरिंग करते हुए जन-जागरूकता पैदा की।

एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के निदेशक राजेश माहेश्वरी ने बताया कि कोचिंग विद्यार्थियों को स्वच्छ शहर में शांत शैक्षणिक वातावरण उपलब्ध करवाने के लिए संस्थान ने 26 दिसंबर,2017 को राजीव गांधी नगर में 10 श्रमिकों के साथ एलन स्वच्छता ब्रिग्रेड की शुरूआत की थी। इसके बाद शहर की विभिन्न कॉलोनियों से गंदगी दूर करवाने के लिए बड़ी संख्या में कॉल आने लगे तो इसका विस्तार करते हुए 150 सदस्यों की टीम बनाई। इसमें 127 श्रमिक, 15 सुपरवाइजर व 8 एरिया इंजार्च शामिल हैं।

20 से अधिक कॉलोनियों में आई जागरूकता


स्वच्छता टीम ने प्रतिदिन मौके पर पहुंचकर वर्षों से जमा गंदगी के ढेर को हटाया और प्रतिदिन औसत 7-8 शिकायतों का समाधान किया। 13 टीमों के सदस्यों ने शहर के विभिन्न क्षेत्रों इंद्रविहार, राजीव गांधी नगर, तलवंडी, जवाहर नगर, बसंत विहार, दादाबाडी, महावीर नगर-प्रथम, द्वितीय व तृतीय, इंद्रप्रस्थ औद्योगिक क्षेत्र रोड नंबर-1, कृष्णा नगर, कमला उद्यान, कुन्हाड़ी, बालिता, रिद्धि-सिद्धि नगर, लक्ष्मण विहार, आरके पुरम, कंसुआ में अफोर्डेबल हाउसिंग, डीसीएम रोड पर बॉम्बे योजना आदि क्षेत्रों में प्रतिमाह जाकर सफाई की, जिससे इन मौहल्लों में स्वच्छता दिखाई देने लगी। नागरिकों ने बताया कि यह छोटी सी टीम नगर-निगम के लंबे-चौडे़ सफाई महकमे के लिए एक मिसाल है।

एलन स्वच्छता ब्रिगेड के सदस्य एक स्थान को साफ करके प्रतिमाह शैड्यूल के अनुसार, वहां दोबारा सफाई करने पहुंचते हैं। इससे शहर की कॉलोनियों में लोगों में जागरूकता देखने को मिल रही है। आवासीय क्षेत्रों में महिलाएं व नागरिक प्लास्टिक की थैलियां व कचरे को खुले स्थानों पर नहीं फेंक रहे हैं।
आरके पुरम, श्रीनाथपुरम, प्रेमनगर व शिवपुरा के नालों में मलबा जमा होने से गंदगी की समस्या हल नहीं हो रही थी, स्वच्छता ब्रिगेड की टीम ने मशीनों से नालों की सफाई करके आसपास के वाशिंदों को राहत पंहुचाई। नागरिकों का कहना है कि पिछले 15 वर्षों से नगरनिगम ने इस नालों की सफाई नहीं की थी, जिससे मलेरिया, डेंगू व स्वाइन फ्लू का प्रकोप बना रहता था।

30 सरकारी स्कूल कैंपस स्वच्छ किये


शहर के 30 सरकारी स्कूलों व महिला पॉलिटेक्नीक कॉलेज में जाकर एलन स्वच्छता ब्रिगेड ने विद्यार्थियों को पढाई के साथ कोटा को स्वच्छ रखने का संदेश भी दिया। बिग्रेड के सुपरवाइजर ने बताया कि टीम सदस्य हर माह की पहली तारीख को फलमंडी व फूल मंडी में जाकर सफाई करते हैं। इसी तरह, भामाशाह मंडी में दुर्गंध फैलाने वाले क्षेत्र में भी स्वच्छता ब्रिगेड ने सफाई करके व्यापारियों को राहत पहुंचायी। कॉलोनियों में खाली प्लाट, पार्क व ग्रीन बेल्ट में नियमित निशुल्क सफाई करके शहरवासियों का दिल जीता। टीम सदस्यों ने शहर के धार्मिक स्थलों पर जाकर सफाई की। कोटा जंक्शन पर पहुंचकर पूरे क्षेत्र को स्वच्छ किया गया। प्रत्येक टीम में 11 श्रमिक चयनित स्थान पर सुबह से शाम तक सफाई करते हैं।

नये साल में नई पहल
एलन स्वच्छता ब्रिगेड नववर्ष में शहर के मेडिकल कॉलेज, एमबीएस व जेके लोन हॉस्पिटल व सभी डिस्पेंसरियों में सफाई करने का संकल्प लिया है। इसकी शुरूआत नए मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल से की जा रही है। अपने क्षेत्र में स्वच्छता के लिए हैल्पलाइन नबर-90010 99107 पर वाट्सअप मैसेज या कॉल करके शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। यह सुविधा एलन द्वारा सामाजिक सरोकार के तहत निःशुल्क चलाई जा रही है।

Check Also

खुशी एक पल नहीं बल्कि यात्रा है – के.एम.टंडन

ISTD कोटा चेप्टर द्वारा स्वर्ण जयंती वर्ष में ‘टेक्नोलॉजी ऑफ हैप्पीनेस’ पर हुई वर्कशॉप न्यूजवेव …

error: Content is protected !!