Friday, 12 July, 2019
Home / हैल्थ / डॉ. विजय सरदाना कोटा मेडिकल कॉलेज के नए प्रिंसीपल

डॉ. विजय सरदाना कोटा मेडिकल कॉलेज के नए प्रिंसीपल

14 जूून को संभालेंगे कार्यभार, मेडिकल कॉलेज की व्यवस्थाओं में होगा सुधार 

न्यूजवेव कोटा

वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट डॉ.विजय सरदाना मेडिकल कॉलेज, कोटा में नये प्रिंसिपल बनाये गये हैं। राज्य सरकार द्वारा चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग के शासन उप सचिव मोहनलाल वर्मा ने सोमवार को आदेश जारी कर डॉ.सरदाना को प्रिंसिपल नियुक्त किया है। वर्तमान प्रिंसिपल डॉ.गिरीश वर्मा 14 जून को सेवानिवृत हो रहे हैं, उनका पदभार अनुभवी परम विशेषज्ञ डॉ. विजय सरदाना संभालेंगे। आदेश के अनुसार, चयन समिति द्वारा पात्र प्राचार्य की नियुक्ति होने तक डॉ. सरदाना कोटा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य एवं नियंत्रक होंगे। सोमवार को यह खबर मिलते ही कोटा शहर के चिकित्सकों, नागरिक संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं व प्रबुद्ध नागरिकों में खुशी की लहर दौड़ गई।

याद दिला दें कि लंबे समय से कोटा के एमबीएस हॉस्पिटल में न्यूरोलॉजी डिपार्टमेंट प्रमुख की सेवाएं देते हुये डॉ. सरदाना ने नागरिकों की मदद से अत्याधुनिक न्यूरो वार्ड एवं रियायती जांच सुविधाएं उपलब्ध करवाकर हजारों गरीब रोगियों को स्वास्थ्य लाभ पहुंचाया है। शहर के कई सेमिनार व वर्कशॉप आयोजित कर उन्होंने मस्तिष्क रोगों के इलाज को सुलभ व सस्ता करवाने में अहम भूमिका निभाई है। न्यूरोलॉजी विभाग के डॉ. करनेश गोयल, डॉ. सुशील सोनी, अखिल राजस्थान सेवारत चिकित्सक संघ के अध्यक्ष डॉ. अमित गोयल सहित वरिष्ठ चिकित्सकों ने डॉ. सरदाना को बधाई दी।
टीचिंग व ट्रीटमेंट दोनों में सुधार करेंगे

Dr.Vijay Sardana

डॉ. विजय सरदाना ने बताया कि पदभार संभालने के बाद वे मेडिकल कॉलेज में मरीजों के ट्रीटमेंट एवं विद्यार्थियों के टीचिंग सिस्टम दोनों में सुझाव लेकर प्राथमिकता से सुधार करेंगे। इमरजेंसी वार्ड में रोगियों व परिजनों को लंबी कतारों में खडे़ रहने से निजात दिलाएंगे। डॉक्टर्स व नर्सिंग स्टॉफ की ड्यूटी, कॉल, व रेफरल सिस्टम को दक्ष बनाया जाएगा, जिससे जनता को समय पर सरल व सहज इलाज मिल सके। सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक को जनउपयोगी बनाया जाएगा, जिससे कोटा संभाग के रोगियों को सरकारी अस्पताल में ही सही उपचार मिल सके। उन्होंने बताया कि एमसीआई ने एमबीबीएस के कॅरिकुलम में बदलाव किये हैं। मेडिकल कॉलेज में 250 मेडिकल स्टूडेंट्स पढाई कर रहे हैं। उनका अकादमिक स्तर पर अत्याधुनिक सुविधाओं से जोड़ा जाएगा।

Check Also

घाव भरने के लिए विकसित किया दही आधारित जैल

डॉ.अदिति जैन न्यूजवेव @ नईदिल्ली बैक्टीरिया की बढ़ती प्रतिरोधक क्षमता के कारण घावों को भरने के …

error: Content is protected !!