Friday, 3 April, 2020

जे.के.लक्ष्मीपत यूनिवर्सिटी में कोटा के स्टूडेंट्स को 25 प्रतिशत स्कॉलरशिप मिलेगी

17 विभिन्न इंजीनियरिंग कोर्स में 1.5 करोड़ रु. की स्कॉशलरशिप दी जाएगी

न्यूजवेव @ कोटा
जे.के. लक्ष्मीमपत यूनिवर्सिटी (JKLU) जयपुर द्वारा कुल स्कॉलरशिप की 25 प्रतिशत राशि विश्वविद्यालय में इंजीनियरिंग पाठयक्रमों में आवेदन करने वाले कोटा के विद्यार्थियों के लिए आरक्षित करने की घोषणा की है।
कुलपति डा. आर.एल. रैना ने बताया कि यह छात्रवृत्ति न केवल अकादमिक क्षेत्र में बल्कि विश्वविद्यालय में होस्टल सहित अन्य सुविधाओं के मामले में भी प्रतिभावान और योग्य विद्यार्थियों को सहायता देने की परिकल्पना करती है। अगले अकादमिक वर्ष के लिए कुल छात्रवृत्ति के लिए लगभग 1.5 करोड़ रु. चिन्हित किए हैं। ये छात्रवृत्ति विद्यार्थियों को उनके सम्पूर्ण स्कोर और अच्छे प्रदर्शन की क्षमता के आधार पर उपलब्ध कराई जांऐगी।
डॉ. रैना ने बताया कि विद्यार्थियों को किसी एक सेमेस्टेर में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) और अंतिम सेमेस्टटर को यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा (USA) में पूरा करने का सीधा अवसर प्राप्त होगा। उन्होंने बताया कि ऐसी भागीदारियों ने सुनिश्चित किया है कि विश्वविद्यालय ऐसे पाठ्यक्रम विकसित करे जो प्रभावी हों और उद्योग की आवश्कताओं के अनुरूप हों। जेकेएलयू इंजीनियरिंग स्ट्रीम में कुल 17 कोर्स उपलब्ध कराता है जो स्टूडेंट्स को विशेषज्ञता के नए अवसर उपलब्ध कराते हैं। इन विशेषज्ञताओं में आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस, आईओटीज, रोबोटिक प्रोसेस ऑटोमेशन और ऐसी ही अन्य विशेषताएं शामिल हैं।
उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय ने प्रत्येक वर्ष कैंपस में आने वाली कंपनियों की संख्या में बहुुुत वृद्धि दर्ज की है। यूनिवर्सिटी में आईबीएम, टीसीएस, इन्फोकसिस, जेके ग्रुप ऑफ कंपनीज जैसी परंपरागत कंपनियों के साथ रोबोटिक्स, एआई, डीप लर्निंग, एनालाइटिक्स जैसे उत्साह जनक क्षेत्रों में न्यू -एज स्टार्टअप कंपनियां तथा अन्य क्षेत्रों में गोल्डमैन सैश, एचएसबीसी एवं एसएंडपी जैसी अग्रणी कंपनियां प्लैसमैन्ट के लिए आती हैं।
डॉ. रैना नेे बताया कि व्याख्यानों,अतिथि लेक्चर्स, उद्योग के अनुभव और श्रेष्ठ इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के साथ एमओयू करके विद्यार्थियों को श्रेष्ठ परिणाम के साथ बाहरी दुनिया की चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार किया जाता है। उन्होंने बताया कि जे.के. लक्ष्मीपत विश्वविद्यालय की 2011 में जयपुर में स्थापना की गई थी। 30 एकड़ में स्वस्थ पर्यावरण से भरपूर कैम्पस है जो विद्यार्थी-केंद्रित वातावरण में जीने, काम करने और खेलने में सहायता करने के लिए डिजाइन किया गया है।

(Visited 50 times, 1 visits today)

Check Also

इंजीनियरिंग में दो बड़ी चुनौतियां-बेरोजगारी व छंटनी

न्यूजवेव@कोटा देश के इंजीनियरिंग काॅलेजों में प्रतिवर्ष 8 लाख ग्रेजुएट इंजीनियर्स की फौज तैयार हो …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: