Sunday, 8 December, 2019
Home / Featured / कोटा में पहला निःशुल्क बर्तन बैंक शुरू

कोटा में पहला निःशुल्क बर्तन बैंक शुरू

– स्वच्छ भारत अभियान में बड़ा सहयोग साबित होगी छोटी पहलः संदीप शर्मा
– सब फाउण्डेशन द्वारा 200 बर्तन सेट निशुल्क उपलब्ध करवाए जाएंगे
न्यूजवेव कोटा

देश में प्लास्टिक मुक्ति को समर्थन देने और शहरवासियों को प्लास्टिक का उपयोग नहीं करने को लेकर प्रेरित करने हेतु कोटा में निशुल्क बर्तन बैंक की शुरुआत की गई। आयुर्वेदिक चिकित्सक स्वर्गीय अवध बिहारी श्रीवास्तव की 7वीं पुण्यतिथि पर महावीर नगर तृतीय में सब फाउण्डेशन द्वारा एक समारोह में यह शुरुआत हुई। एनजीओ सब फाउंडेशन फॉर एजुकेशन मेडिकल एंड रिसर्च ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्ति के आह्वान के बाद यह शुरुआत की। कोटा शहर का यह प्रथम निःशुल्क बर्तन बैंक है। कार्यक्रम के दौरान कई समाजसेवी भी आगे आए और अपनी ओर से पांच-पांच बर्तन सेट के लिए राशि प्रदान की

मुख्य अतिथि कोटा दक्षिण विधायक संदीप शर्मा ने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त कोटा के लिए यह बड़ी पहल साबित होगी। इस तरह के छोटे-छोटे प्रयास ही हमें दूसरे शहरों से अलग बनाएंगे। इस तरह के कार्यों से शहरवासियों को भी सरोकार रखना चाहिए और सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नहीं करना चाहिए।विशिष्ट अतिथि राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आर.ए.गुप्ता ने कहा कि हमें जितना जरूरी हो उतना ही संग्रहण करना चाहिए, अपनी आवश्यकताओं को सीमित करें। ये संस्कार आने वाली पीढ़ी को भी दें, हमने विश्वविद्यालय स्तर पर भी इंडक्शन प्रोग्राम शुरू कर संस्कारों के संवहन का प्रयास किया है। राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय शिक्षा के साथ संस्कारों के लिए भी पहचाना जाएगा।

विशिष्ट अतिथि विधायक मदन दिलावर ने कहा कि प्लास्टिक बहुत ही खतरनाक है। इससे न केवल कचरा फैलता है वरन इस कचरे का निस्तारण भी बहुत मुश्किल है। यह प्रदूषण का बड़ा कारण है। पशुओं की मौत का कारण है। सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्ति के लिए हम सभी को आगे आना चाहिए। समाजसेवी जी डी पटेल ने कहा कि इस पहल को गायत्री परिवार पूरी तरह से मदद करेगा। जल्द ही 1200 बर्तनों का सेट सब फाउण्डेशन के साथ ही उपलब्ध करवाया जाएगा, ताकि बड़े तथा विभिन्न कार्यक्रमों में बर्तनों की उपलब्धता सुनिश्चित करवाई जा सके। पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष डॉ.प्राची दीक्षित ने कहा कि सब फाउण्डेशन की यह पहल बहुत सार्थक सिद्ध होगी। प्लास्टिक मुक्त शहर बनने के लिए यह एक उदाहरण होगा।

24 घंटे पहले बुकिग

सब फॉउंडेशन की अध्यक्ष राधा श्रीवास्तव ने बताया कि सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध के बाद जन्मदिवस, वैवाहिक वर्षगांठ, किटी पार्टीज, भंडारा एवं सामाजिक कार्यक्रम करने वाले लोगों को दिक्कत न हो, वहां प्लास्टिक व थर्माकोल की प्लेट प्रयोग में न लाई जाए। इसके लिए सब फॉउंडेशन बर्तन बैंक की शुरूआत कर रहा है। बर्तन बैंक में लोगों को निशुल्क बर्तन उपलब्ध कराए जाएंगे। बर्तन बैंक से बर्तन लेने व वापस जमा करने के नियम हैं। बर्तन बैंक से बर्तन ले जाने एवं वापस पहुंचाने की पूर्ण जिम्मेदारी शहरवासी की होगी।
सब फॉउंडेशन की उपाध्यक्ष दीप्ति श्रीवास्तव के अनुसार यह प्रोजेक्ट हमने पूरे शहर को डिस्पोजल मुक्त बनाने के लिए शुरू किया है। सब फॉउंडेशन द्वारा अभी 200 बर्तन सेट खरीदे गए हैं। इसमें करीब 10 जग, 200 गिलास, 200 स्टील के चम्मच, 200 नाश्ते की प्लेट, 200 खाने की खंड वाली थालियां शामिल हैं। आयोजनकर्ता को बर्तन साफ कर सब फॉउंडेशन को लौटाने होंगे। आने वाले समय में बर्तन सेटों की संख्या बढाकर 1000 कर दी जाएगी। बर्तन लेने के लिए उपभोक्ता को 24 घंटे पहले बुकिग करानी होगी।

ये होंगे बर्तन लेने के नियम
बर्तन लेने के लिए उपभोक्ता को अपने दो फोटो पहचान पत्र जिसे आधार कार्ड, पैन कार्ड एवं वोटर आइडी दे सकता है। दोनों पहचान पत्रों की फोटो कापी जमा करनी होगी। बर्तन बैंक से बर्तन के लिए 100 रूपये प्रति सेट के हिसाब से सिक्योरिटी राशि जमा करना होगा। बर्तन बैंक को बर्तन पूर्ण रूप से साफ करके यथा स्थिति में 24 घंटे में वापस लौटाने होंगे। बर्तन की सफाई संतोषजनक न होने पर बर्तन स्वीकार नहीं किए जाएंगे। देरी करने पर प्रति सैट पांच रुपये प्रतिदिन जुर्माना लगाया जाएगा। तीन दिन के बाद जुर्माना राशि दस रुपये प्रतिदिन व एक सप्ताह के बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी। बर्तन टूट-फूट अथवा खोने पर बर्तन राशि की पूर्ण वसूली उपभोक्ता से की जाएगी। बुकिग के लिए सब फॉउंडेशन के कोषाध्यक्ष से  9414186032/9785240656, एवं व्हाट्सप्प नंबर (9462580628/ 8209502140) पर संपर्क करना होगा। ये बर्तन सब फॉउंडेशन के महावीर नगर तृतीय सेक्टर 8 स्थित कार्यालय पर उपलब्ध रहेंगे।
जनसहयोग से बढ़ाएंगे संख्या
बर्तनों का इस्तेमाल करने वालों को दूसरों को भी इस व्यवस्था के लिए प्रेरित करना होगा। हर आयोजक की रजिस्टर में एंट्री होगी और उनका फीडबैक भी नोट किया जाएगा। हर महीने इस फीडबैक रजिस्टर से पूरी व्यवस्था का एनालिसिस होगा। भविष्य में बर्तनों की सुगम उपलब्धता के लिए टोल फ्री नंबर एवं एप तैयार कराया जाएगा। जिससे लोग घर बैठे बर्तन बैंक से बुकिग कर सकेंगे।

Check Also

कोटा में 548 करोड की लागत से सीवरेज कार्य शुरू

RUIDP के तीसरे चरण में आधा दर्जन कॉलोनियों की बदलेगी दशा न्यूजवेव@कोटा  कोटा शहर में …

error: Content is protected !!