Wednesday, 27 March, 2019
Home / खास खबर / 16 साल बाद निराश्रित आफरीन के कानों में गूंजेगी आवाज

16 साल बाद निराश्रित आफरीन के कानों में गूंजेगी आवाज

महावीर ईएनटी अस्पताल ने वृद्धाश्रम ‘श्रद्धा’ के निःशुल्क कैम्प में 40 रोगियों की जांच की। श्रुति प्रोजेक्ट के तहत ऑफरीन के दोनों कानों का होगा मुफ्त ऑपरेशन।

न्यूजवेव कोटा

महावीर ईएनटी हॉस्पिटल,कोटा की टीम ने शनिवार को श्रीकरणी नगर विकास समिति के झालावाड रोड स्थित वृद्धाश्रम ‘श्रद्धा’ में श्रुति प्रोग्राम के तहत निःशुल्क कान जांच शिविर आयोजित किया। जिसमें 40 बुजुर्गों सहित निराश्रित बच्चों के कानों की एंडोस्कॉप व अत्याधुनिक उपकरणों से जांच की।

महावीर ईएनटी हॉस्पिटल के निदेशक ईएनटी सर्जन डॉ. विनीत जैन ने बताया कि 16 वर्षीया आफरीन को बचपन से सुनाई नहीं देता है। गहराई से जांच करने पर पता चला कि उसकी नाक की हड्डी में गलाव की बीमारी है, जो धीरे-धीरे बढती जा रही है। भविष्य में इसका असर मस्तिष्क तक पहुंच सकता है। सरकारी अस्पताल में उसे ऑपरेशन करवाने की सलाह दी गई थी लेकिन दोनों कानों के ऑपरेशन में 40 हजार से अधिक खर्च होने से उसका इलाज रूका हुआ था।

वरिष्ठ ईएनटी सर्जन डॉ. जैन ने भरोसा दिलाया कि वे अनाथ आफरीन के दोनों कानों का महावीर ईएनटी अस्पताल में निःशुल्क ऑपरेशन करेंगे। तीन-तीन माह के अंतराल में नई तकनीक से दोनों ऑपरेशन करके उसकी सुनने की क्षमता को फिर से लौटाएंगे।

8 बुजुर्गों को सुनने की मशीनें मुफ्त


वृद्धाश्रम ‘श्रद्धा’ में रहने वाले 60 से 85 वर्ष की उम्र वाले बुजुर्गों को कम सुनाई देता है। उनके कानों की जांच करके निःशुल्क दवाइयां वितरित की गई। शिविर में 8 रोगियों में से प्रत्येक बुजुर्ग को 4 हजार रू. की सुनने की मशीन निःशुल्क दी जाएगी। फिलहाल वे अपने परिजनों से मोबाइल पर बात भी नहीं कर पाते हैं। भविष्य में भी इन बुजुगों के लिए इलाज सुविधा मुफ्त रहेगी।

श्रीकरणी नगर विकास समिति की संचालिका समाजसेविका प्रसन्ना भंडारी ने कहा कि एक निराश्रित बेटी के कानों में आवाज गूंजने से उसका मनोबल बढ़ेगा। उन्होंने इसे अनुकरणीय पहल बताया। शिविर में पूर्व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरेंद्र कासट, पूर्व बैंक प्रबंधक केबी गर्ग सहित समाजसेवी मौजूद रहे।
महावीर ईएनटी हॉस्पिटल की कम्यूनिटी विंग के प्रमुख सुशील याज्ञनिक ने बताया कि नए वर्ष में श्रुति प्रोग्राम के तहत शहर में जरूरतमंद लोगों के नाक, कान व गला की निशुल्क जांच व उपचार के लिए नियमित शिविर आयोजित किये जाएंगे। अगला शिविर ‘अपना घर’ में विमंदित महिलाओं के लिए आयोजित किया जाएगा।

Check Also

ग्लूकोमा से बचाव के लिये 6 माह में आंखों का प्रेशर चेक कराएं

वर्ल्ड ग्लूकोमा वीक – मोतियाबिंद के बाद कालापानी अधंता का दूसरा बडा कारण, 50 प्रतिशत …

error: Content is protected !!