Wednesday, 2 October, 2019
Home / शहर / बुजुर्ग देश के अनमोल रत्न – निर्भीक

बुजुर्ग देश के अनमोल रत्न – निर्भीक

बालाजी इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन ने बुजुर्गों को किया सम्मानित
न्यूजवेव@कोटा
बालाजी इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशनएवं मधु स्मृति संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में रंगबाड़ी स्थित परिसर में अन्तरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस मनाया गया। समारोह में बुजर्गों को विभिन्न क्षेत्रों में उनके योगदान के लिये सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि सेवानिवृत उपाचार्य प्रो.अरविन्द सक्सेना थे कहा कि आज की पीढ़ी परिवार में बुजर्ग सदस्यों को सम्मान देने की जगह उनका उपहास उड़ाती है। बुजुर्ग हमारे समाज की रीढ़ और संस्कार व ज्ञान की खान हैं। वर्तमान पीढ़ी को उनके जीवन एवं कार्यों से सीख लेकर उन्हें सम्मान देना चाहिए।

विशिष्ट अतिथि मधु स्मृति संस्थान की संचालिका बृजबाला निर्भीक ने कहा कि आज बुजुर्ग को पूरी तरह सम्मान व इज्जत नहीं मिल पा रही है। ऐसे में हमारा कर्त्तव्य है कि हमेशा बुजुर्गों को सम्मान दिया जाए। उनकी जरुरतों का ध्यान रखा जाए। समाज को प्रत्येक बुजुर्ग के प्रति सकारात्मक रवैया हो। महाविद्यालय के निदेशक हरगोविन्द निर्भीक ने कहा कि बुजुर्ग इस देश के अनमोल रत्न है एवं इनके अनुभव आज की पीढ़ी का मार्ग प्रशस्त करते हैं।

समारोह में अतिथियों ने उर्मिला देवी, मोहन बाई शर्मा, दुर्गाबाई पारेता एवं महाविद्यालय की सबसे बुजुर्ग महिला सोसर बाई को शॉल, श्रीफल और प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस मौके पर बीएड द्वितीय वर्ष की छात्राओं ने मनोहारी नाट्य प्रस्तुति दी। महाविद्यालय प्राचार्य डॉ सुजाया बिजवे ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम संचालन बीएड द्वितीय वर्ष छात्रा अर्पिता पंचोली एवं भारती गोमे ने किया।

Check Also

बाढ़ पीडितों के लिये चम्बल हॉस्टल एसोसिएशन ने दिये 200 राहत किट

न्यूजवेव @ कोटा चम्बल हॉस्टल एसोसिएशन ने कोटा में चंबल नदी से हुये जलभराव से प्रभावित …

error: Content is protected !!