Tuesday, 23 April, 2019
Home / शहर / पहले हम खुद स्मार्ट सिटीजन बनें

पहले हम खुद स्मार्ट सिटीजन बनें

ISTD कोटा चेप्टर द्वारा ‘स्मार्ट सिटीजन फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट’ पर नेशनल सेमीनार

न्यूजवेव@ कोटा
ISTD कोटा चेप्टर, कोटा ज्ञानद्वार एजुकेशन सोसाईटी एवं रोटरी क्लब, कोटा के सँयुक्त तत्वावधान में ‘स्मार्ट सिटीजन फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट’ पर एक दिवसीय नेशनल सेमीनार आयोजित की गई। मुख्य अतिथि महापौर महेश विजय, विशिष्ट अतिथि एसएसआई के संस्थापक अध्यक्ष व वरिष्ठ उद्यमी गोविंदराम मित्तल, श्रीराम रेयन्स लिमिटेड के फेक्ट्री हेड एवं वाइस प्रेसीडेन्ट वीके जेटली व मुख्य वक्ता पूर्व महापौर डॉ. रत्ना जैन ने दीप प्रज्ज्वलित कर सेमिनार का शुभारंभ किया।

मुख्य अतिथि महापौर महेश विजय ने कहा कि कोटा में सतत विकास को साकार करने के लिए नगर निगम ने कोटा को स्मार्ट सिटी बनाने का संकल्प लिया है। इसमे शहर में घर-घर से कचरा संग्रहण, पानी का शुद्धिकरण, हरियाली एवं अन्य आयामो पर कार्य किया जा रहा है। कोटा जंक्शन पर स्वच्छता से देश के श्रेष्ठ रेलवे स्टेशनो में से एक है। कोटा में डेढ लाख कोचिंग विद्यार्थियों एवं नागरिको की सुरक्षा हेतु सीसी टीवी कैमरे लगाये गए हैं।
मुख्य वक्ता पूर्व महापौर डॉ रत्ना जैन ने नगर निगम के कार्यो जानकारी देते हुऐ विदेशो में इसी स्तर पर किये जा रहे कार्यो का तुलनात्मक अध्ययन प्रस्तुत किया। पीपीटी प्रजेन्टेशन से उन्होंने स्मार्ट सिटी कंसेप्ट के विभिन्न पहलुओ पर प्रकाश डाला। कुमारप्पा नेशनल हेंडमेड पेपर इंस्टीट्यूट,जयपुर की वैज्ञानिक डॉ सुनीता चौहान ने ग्रीन सिटी के बारे में उपयोगी जानकारी दी। उन्होने बताया कि दैनिक जीवन में उपयोग होने वाले कागज को उद्योग लगाकर पुनःचक्रित कर उपयोगी कागज में परिवर्तित किया जाये तो दोहरे लाभ होगे। इससे एक ओर पेडो को कटने से बचाया जा सकेगा, दूसरी ओर रोजगार के अवसर सृजित होगे। इस क्षेत्र में उनकी संस्था कुमारप्पा नेशनल हेंडमेड पेपर इंस्टीट्यूट, सांगानेर, जयपुर निरन्तर प्रयासरत है।  के.एम. टंडन ने कहा कि कोटा को स्मार्ट सिटी बनाने हेतु आमजनता भी पहल कर अपनी भागीदारी निभाएं। इस हेतु सभी को ईमानदारी से प्रयास करने होगे।कर्नल आर एम जैन ने कहा कि प्राकृतिक संसाधनो का अंधाधुन्ध दोहन रोकना आवश्यक है।
इस अवसर पर वीके जेटली ने कहा कि उन्होने संकल्प किया था कि ’जब तक स्वयं स्मार्ट सिटीजन नही बनूंगा तब तक इस विषय पर किसी कार्यक्रम में सहभागी नही बनूंगा।’ इसके लिये उन्होने स्वयं को ही स्मार्ट सिटीजन बनाने के साथ ही अपने संस्थान श्रीराम रेयॉन्स एवं कर्मचारियो को भी स्मार्ट बनाने हेतु प्रयास किये। इसके लिये उन्होने पानी की बर्बादी रोकने हेतु घर में आधा ग्लास पानी लेने के साथ रेयंस में भी ग्लास का आकार छोटा किया।

सेमिनार में डीएससीएल के पूर्व उच्चाधिकारी के. एम. टंडन, कुमारप्पा नेशनल हेंडमेड पेपर इंस्टीट्यूट,जयपुर की वैज्ञानिक डॉ सुनीता चौहान, कर्नल आर.एम. जैन, रोटरी क्लब,कोटा की अध्यक्ष प्रज्ञा मेहता, ISTD कोटा चेप्टर की चेयरपर्सन अनिता चौहान, सचिव डॉ.अमित सिंह राठौड़, प्रो. पी.के. शर्मा, रोटरी क्लब,कोटा के सचिव दर्पण जैन, हिंदुस्तान कॉपर, खेतडी एवं श्रीराम रेयॉन्स के प्रतिभागियों सहित कोटा के प्रबुद्ध नागरिक उपस्थित रहे।
सेमिनार में शंका-समाधान एवं वैचारिक मंथन हेतु ओपन फोरम का आयोजन किय। इसमें हिंदुस्तान कॉपर, खेतडी, श्रीराम रेयॉन्स लिमिटेड, कोटा के प्रतिभागियों एवं प्रबुद्ध नागरीको ने भाग लिया। कार्यक्रम के अन्त में प्रमाण पत्र वितरित किये गये। संचालन आईएसटीडी, कोटा चेप्टर के सचिव डॉ.अमित सिंह राठौड एवं रोटरी क्लब, कोटा के सचिव दर्पण जैन ने किया। सभी सदस्यों ने लोकसभा चुनावो में 29 अप्रेल को मतदान अवश्य करने की शपथ ली। प्रोफेसर पी.के. शर्मा ने आभार जताया। समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ।

Check Also

लक्ष्य वोटर नहीं लेकिन वोट की अलख जगाएगा

कक्षा-10वीं का छात्र लक्ष्य 240 किमी साइकिल यात्रा कर मतदान प्रतिशत बढाने की अपील करेगा …

error: Content is protected !!