Monday, 8 July, 2019
Home / धर्म-समाज / महामंडल विधान के साथ जिनागम संस्कार शिक्षण शिविर का समापन

महामंडल विधान के साथ जिनागम संस्कार शिक्षण शिविर का समापन

न्यूजवेव कोटा
पूज्य आचार्य 108 श्री विद्यासागरजी महाराज के सान्निध्य एवं पूज्य मुनिश्री 108 सुधासागर जी महाराज की प्रेरणा से दादाबाड़ी स्थित पुण्योदय अतिशय क्षेत्र नसिया जी में चल रहे जिनागम संस्कार शिक्षण शिविर का रविवार को महामंडल विधान पूजन के साथ समापन हुआ। जिसकी स्थापना श्रेष्ठी परिवार राजेन्द्र जैन, हुकम जैन, प्रकाश जैन परिवार द्वारा की गई। विधान का शुभारंभ पंडित रतनलाल जी बेनाड़ा द्वारा किया गया।

नित्य अभिषेक एवं शांतिधारा के पश्चात शांतिनाथ भगवान के मोक्ष कल्याणक के अवसर पर विभिन्न वेदियों पर 31 शांतिधारा व 11 निर्वाण लाडू, पुण्यार्जकों द्वारा चढाये गए। मुख्य नियम की पूजा अर्चना के बाद विधान प्रारंभ हुआ। श्रमण संस्कृति पाठशाला परिवार के अध्यक्ष नरेश जैन वेद ने बताया कि पंडित रतनलाल बेनाड़ा द्वारा संगीतमय विधान का आयोजन हुआ। समाज की महिलाओं एवं पुरूषों ने श्रद्धापूर्वक विधान में भाग लेकर पुण्यार्जन किया।

इस अवसर पर पंडित रतनलाल बेनाड़ा ने कहा कि दान, पूजा, भक्ति द्वारा मनुष्य एक दिन मोक्ष को प्राप्त कर सकता है। नरेश वेद ने बताया कि जिनागम शिक्षण शिविर के बाद प्रशिक्षाणार्थियों की परीक्षा आयोजित की गई। परीक्षा में उत्कृष्ट परिणाम प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों एवं प्रशिक्षण दे रहे पंडित रतनलाल बेनाड़ा व अन्य शिक्षकों को सोमवार को समारोह में स्मृति चिन्ह एवं प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा।

समारोह में हुकुम जैन काका, अजय जैन सीए, राहुल जैन, धर्मचंद जैन, निशा जैन वेद, पारस जैन, जयप्रकाश सबदरा, जम्बू जैन सर्राफ, महेन्द्र कासलीवाल, मनीष मोहिवाल, इंजीनियर मनीष जेन, पवन सोगानी, जयप्रकाश जैन बबलू, मनोज जैन, मीनक्षी कंजोलिया, संजय निर्वाण, अरविंद जैन सहित सभी संयोजक एवं श्रद्धालुगण मौजूद रहे। पूजा के पुण्यार्जक डॉ. संतोष जैन व मनीष जैन रहे।

Check Also

खुशी एक पल नहीं बल्कि यात्रा है – के.एम.टंडन

ISTD कोटा चेप्टर द्वारा स्वर्ण जयंती वर्ष में ‘टेक्नोलॉजी ऑफ हैप्पीनेस’ पर हुई वर्कशॉप न्यूजवेव …

error: Content is protected !!