Tuesday, 19 January, 2021

कोटा के 600 हॉस्टल ‘हैल्थ, हैप्पीनेस व हाइजीन’ से बाटेंगे खुशियां

हैप्पीनेस सिटी इनीशिएटिव: नये सत्र से कोटा में हॉस्टल्स में किराया घटेगा, सुविधाएं बढेंगी, हॉस्टल फूड क्वालिटी, कॅरिअर काउंसलिंग, गेम्स, एक्टिविटी, इंटरनेट, लाइब्रेरी व अन्य सुविधाएं देंगे

न्यूजवेव कोटा

हैप्पीनेस सिटी इनीशिएटिव ने शिक्षा नगरी में बाहरी कोचिंग विद्यार्थियों को स्वस्थ व सकारात्मक शैक्षणिक वातावरण मुहैया कराने के लिये क्वालिटी हॉस्टल लाइफ कैम्पेन शुरू किया है। हैप्पीनेस सिटी के को-कॉर्डिनेटर प्रणव मेहता ने बताया कि इस अभियान में एच थ्री मेट्रिक्स ‘हैल्थ, हैप्पीनेस व हाईजीन‘ पर आधारित कॅअरिंग, काउसंलिंग व एक्टिविटी आदि सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी।


पहले चरण में स्टार्टअप करने वाले युवा प्रोफेशनल्स ने जनवरी-फरवरी में कोचिंग क्षेत्रों में हॉस्टल में रहने वाले 1000 से अधिक विद्यार्थियों पर व्यापक सर्वे किया। प्रश्नावली के जरिये उनसे यह पता लगाया कि अलग-अलग राज्यों के विद्यार्थियों के खान-पान व रहन-सहन की समस्याएं और आवश्यकताएं क्या हैं। कोचिंग में 6 घंटे क्लास के बाद 18 घंटे हॉस्टल में रहते हुये वे कैसा महसूस करते हैं।


मेहता ने बताया कि एजुकेशन सिटी में कोई भी जागरूक नागरिक हैप्पीनेस सिटी एम्बेसेडर या हैप्पीनेस हॉस्टल मुहिम से मो. नंबर- 8094720707 पर कॉल करके जुड सकते हैं। इस मुहिम से शहर के कई बेरोजगारों को प्रत्यक्ष या पार्टटाइम जॉब के अवसर मिलेंगे। इस वर्ष कोटा में करीब 1500 हॉस्टल व 1200 पीजी हैं, जिनमें करीब 2 लाख से अधिक बच्चों के लिये सुविधायुक्त कमरे उपलब्ध हैं।
एक लाख विद्यार्थियों को मिली ‘हैप्पीनेस गाइड’


हैप्पीनेस सिटी इनीशिएटिव के कॉर्डिनेटर अमन माहेश्वरी ने बताया कि शहर में खुशहाली के लिये अब तक शहर के 1 लाख कोचिंग विद्यार्थियों को ‘हैप्पीनेस गाइड’ निःशुल्क वितरित की गई। इसमें विद्यार्थियों को रेस्तरां, मैस, स्टेशनरी, रेडिमेड, कॉफी, जूस, मोबाइल, साइकिल, गारमेंट्स, फूड सेंटर्स आदि पर विशेष छूट के निःशुल्क कूपन दिये गये हैं। इससे प्रत्येक विद्यार्थी को 20 हजार रू. से अधिक बचत होगी। कोटा से निकले आईआईटीयन, इंजीनियर्स व डॉक्टर्स हॉस्टल में आकर कोचिंग स्टूडेंट्स के साथ अपने अनुभव बांटेंगेऔर सही गाइडेंस देंगे।

जिला कलक्टर ने हैप्पीनेस मुहिम को सराहा

जिला कलक्टर मुक्तानंद अग्रवाल ने हैप्पीनेस सिटी इनीशिएटिव के इस प्रयास को सराहा। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी में कोचिंग विद्यार्थियों को स्वस्थ शैक्षणिक वातावरण देने के लिये जिला प्रशासन हर संभव सहयोग करेगा। बाहर के विद्यार्थियों को कोटा में घर जैसा वातावरण देने के लिये नागरिकों को पहल करनी होगी। एलन के निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने कहा कि हैप्पीनेस इनीशिएटिव टीम कोचिंग विद्यार्थियों को मुस्कान देने का अभिनव प्रयास कर रही है। हैप्पीेनेस के लिये पॉजिटिव कैंपेंन से कोटा अन्य शहरों की तुलना में अलग खड़ा दिखाई देता है।

(Visited 64 times, 1 visits today)

Check Also

20 माह की मासूम धनिष्ठा ने 5 लोगों को दी नई जिंदगी

बेटी की असमय मृत्यु होने पर माता-पिता ने उसके हार्ट, किडनी, लीवर व दोनो कॉर्निया …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: