Thursday, 30 May, 2024

सैलानियों को लुभायेगा देश का पहला हैरिटेज रिवर फ्रंट

कोटा पहनेगा पर्यटन नगरी का ताज, देश-विदेश के सैलानी सौंदर्य पर करेंगे नाज
न्यूजवेव@ कोटा
मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत मंगलवार को कोटा में चम्बल रिवर फ्रंट एवं बुधवार को गार्डन ऑफ जॉय, सिटी पार्क का लोकार्पण करेंगे। नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने बताया कि चम्बल रिवर फ्रन्ट भारत में विकसित प्रथम हैरिटेज रिवर फ्रन्ट है। इससे पर्यटन नगरी कोटा में देशी-विदेशी पर्यटकों का आवागमन बढेगा। शहर में कोटा बैराज से नयापुरा पुलिया तक 2.75 किमी की लम्बाई में चम्बल नदी के दोनों तटों पर 1400 करोड़ की लागत से चम्बल रिवर फ्रन्ट विकसित किया गया है। रिवर फ्रन्ट के दोनों तटों पर 27 खूबसूरत घाटों का निर्माण किया गया है।


मुख्यमंत्री मंगलवार को 27 घाटों का अवलोकन तथा लोकार्पण करेंगे, जिनमें चम्बल माता घाट, गणेश पोल, मरू घाट, जंतर-मंतर घाट, विश्व मैत्री घाट, हाड़ौती घाट, महात्मा गांधी सेतु, कनक महल, फव्वारा घाट, रंगमंच घाट, साहित्य घाट, उत्सव घाट शामिल हैं।

साथ ही, दर्शनीय सिंह घाट, नयापुरा गार्डन, जवाहर घाट, गीता घाट, शान्ति घाट, नन्दी घाट, वेदिक घाट, रोशन घाट, घंटी घाट, तिरंगा घाट, शौर्य घाट, राजपूताना घाट, जुगनु घाट, हाथी घाट और बालाजी घाट भी आम जनता व पर्यटकों के लिये खोल दिये जायेंगे।


चम्बल रिवर फ्रंट पर विकास के साथ पर्यटन, रोजगार, पर्यावरण संरक्षण के साथ रात्रि में चंबल नदी का नसैर्गिक सौंदर्य भी दिखाई देगा। यहां चम्बल माता की 225 फीट ऊंची संगमरमर की मूर्ति आकर्षण का केंद्र रहेगी। चम्बल रिवर फ्रंट के जवाहर घाट पर पं. जवाहर लाल नेहरू का विश्व का सबसे बड़ा गन मेटल का मुखौटा बनाया गया है। साथ ही, दुनिया का सबसे बड़ा नन्दी भी यहां बना है।


रिवर फ्रंट के एक गार्डन में 10 अवतारों की मूर्ति लगाई गई है तथा बुलन्द दरवाजे से ऊंचा दरवाजा बनाया गया है। राजपूताना घाट पर राजस्थान के 9 क्षेत्रों की वास्तुकला व संस्कृति को दर्शाया गया है।

मुकुट महल में 80 फीट ऊँची छत है तथा यहाँ पर सिलिकॉन वैली भी है। ब्रह्मा घाट पर विश्व की सबसे बड़ी घण्टी बनाई गई है जिसकी आवाज 8 किमी दूर तक सुनी जा सकेगी। साहित्यिक घाट पर पुस्तक, प्रसिद्ध लेखकों की प्रतिमाएं भी स्थापित की गई है। चम्बल की लहरों पर तैरती जगमगाहट पर्यटकों का दिल जीत लेगी।

 

(Visited 173 times, 2 visits today)

Check Also

डॉ. हेमलता गांधी ने जन्मदिवस पर देहदान का संकल्प लिया

देहदान-संकल्प : हमारे ऋषिमुनियों से सीखें दान का महत्व, इसी भाव ने देहदान-संकल्प के लिए …

error: Content is protected !!