Wednesday, 25 November, 2020

मां जैसा भाग्यशाली टीचर कोई ओर नहीं – गोविंदा

फिल्म अभिनेता गोविंदा द्वारा ‘हैप्पीनेस सिटी’ इनीशिएटिव का भव्य आगाज, 5 हजार कोचिंग विद्यार्थियों में झलका तूफानी उत्साह

न्यूजवेव @ कोटा

हिंदी फिल्मों में मिलियन वॉट हंसी बिखरने वाले बॉलीवुड स्टार गोविंदा गुरूवार को जैसे ही कोटा में कोचिंग विद्यार्थियों के बीच आए तो हजारों चेहरे खिल उठे। उन्होंने कहा कि यदि आप खुश रहना चाहते हैं तो दिन की शुरूआत ‘मातृ देवो भवः’ से करें क्योंकि माता-पिता की सेवा करने वाले कभी दुखी नहीं हो सकते। मां जैसा भाग्यशाली और शक्तिशाली टीचर कोई ओर नहीं हो सकता।

‘हैप्पीनेस सिटी’ इनीशिएटिव के बैनर पर रंगारंग कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि जीवन में ‘अवस्था’ चाहे जैसी हो, उसकी सही ‘व्यवस्था’ माता-पिता, गुरू और ईश्वर ही करते हैं। जिंदगी में जो हम कहें या जो हम करें, उसमें वास्तु, शब्द या व्यवस्था का दोष न लगे, इसके लिए मां का आशीर्वाद हमेशा साथ लेकर चलें। आप थोड़ा भी अच्छा करते हैं तो मां खुश हो जाती है।
खचाखच भरे सभागार में उन्होंने कोचिंग विद्यार्थियों से कहा कि जो इंसान हंसता रहता है, सहज है, सरल है, वह अपने आप में हीरो है। हम बालीवुड में हीरो ढूंढते हैं लेकिन जो अच्छी शिक्षा देकर जिंदगी में सफल इंसान बना दे, ऐसे शिक्षक हीरो नंबर-1 हैं।
राजस्थान की धरती मे गायत्री और सावित्री दोनों देवियां हैं। जहां देवियों का वास हो, वहां खुशियां अवश्य मिलती है। उन्होने चुटकी लेते हुए कहा कि आप बैंक में जमा धन को निकालकर खुश हो जाते हो, वैसे ही अपने भीतर जो खुशियों का खजाना छिपा है, उसे बाहर निकालकर देखो।
गोविंदा जैसे ही इंद्रविहार स्थित एलन सद्भाव सभागार पहुंचे तो हजारों विद्यार्थी उनकी झलक देखने और सेल्फी लेने के लिए उमड़ पडे़। सभागार हाउसफुल हो जाने से 2 हजार विद्यार्थी बाहर खडे़ होकर कॉमेडी किंग गोविंदा को सुनते रहे।

…गोविंदा कैसे मशहूर हुआ
अभिनेता गोविंदा ने बताया कि 3 साल की उम्र में मुझे बीमारियों ने घेर लिया। हाथ-पैर काम नहीं करते थे, हर 3-4 माह में बुखार आता था। सोचता था कैसे बीमारी से बाहर निकलूं। तब मां ने एक बाबा को बुलाया और मुझसे उनकी सेवा करने को कहा। मैं रोज उनके हाथ-पैर दबाता रहा। एक दिन उन्होंने कोई बूटी दी और कहा कि रोज आसन पर बैठकर गायत्री मंत्र का जाप करो। मैने वही किया, जिससे आज तक कभी बीमार नहीं हुआ। यकीन मानिये, मां की शक्ति से ही मैं बॉलीवुड में गोविंदा बन गया।

हैप्पीनेस पोस्टर व कार्ड का विमोचन

Photo : Rafiq Pathanकन्वीनर अमन माहेश्वरी ने राजस्थानी साफा पहनाकर सिने स्टार गोविंदा का स्वागत किया। उन्होंने केक काटकर हैप्पीनेस सिटी का शुभारंभ किया। साथ ही हैप्पीनेस पोस्टर व हैप्पीनेस कार्ड का विमोचन भी किया। इस मौके पर मेडिकल कॉलेज कोटा के प्रिसिंपल डॉ गिरीश वर्मा, एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के निदेशक राजेश माहेश्वरी, नवीन माहेश्वरी, बृजेश माहेश्वरी, पीबी सक्सेना व डॉ केजी वार्ष्णेय सहित अन्य अतिथि मौजूद रहे। इससे पहले निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने प्रार्थना ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो ना..’ प्रस्तुत की।
‘किसी डिस्को में जाएं…’ धुन पर थिरके गोविंदा

विद्यार्थियों को हैप्पीनेस से जोड़ते हुए उन्होंने अमन माहेश्वरी के साथ ‘किसी डिस्को में जाएं…’ गाने पर ठुमके लगाए तो तालियां गूंज उठी। हंसी के अंदाज में उन्होंने कहा कि डांस वही है जो डांस नही है। आप मुंबई की ट्रेन में सफर करके देख लें डांस करना सीख जाएंगे। अंत में अपनी एक फिल्म का डायलॉग सुनाया-‘ इतनी खुशी मुझे आज तक कभी नहीं हुई..।’

ओवरऑल डेवलपमेंट के लिए हैप्पीनेस

कन्वीनर अमन माहेश्वरी ने कहा कि ‘माय सिटी-हैप्पीनेस सिटी’ कैम्पेन का उद्देश्य है बदलते दौर में कोचिंग विद्यार्थियों का ओवरऑल डेवलपमेंट हो। जो स्टूडेंट्स इससे जुडते जाएंगे, उनका हैप्पीनेस कार्ड दिए जाएंगे। कोटा में हर माह हर फील्ड के सेलिब्रिटी आपके बीच आकर आपसे मन की बात करेंगे,खुशियां बांटेंगे। ताकि स्मार्ट सिटी कोटा हैप्पीनेस इंडेक्स में भी आगे रहे।

‘बारिश नहीं ये खुशियों की बौछारें हैं..’

 

दूसरे सत्र में लैंडमार्क सिटी में अभिनेता गोविंदा हजारों कोचिंग विद्यार्थियो से मिलकर बहुत खुश हुए। बरसात में भीगते बच्चों को देखकर उन्होंने कहा कि बारिश नहीं ये खुशियों की बौछारें हैं। इस मौके पर पीसीसी महासचिव पंकज मेहता, युवा उद्यमी दीपक राजवंशी, मेडकॉर्ड्स के सीईओ श्रेयांस मेहता, हैप्पीनेस टीम सदस्यों सहित गणमान्य नागरिक मौजूद रहे। कार्यक्रम संयोजक सिद्धार्थ जैन ने बताया कि दोनों स्थानों पर 5 हजार से अधिक विद्यार्थियों को हैप्पीनेस बैज वितरित किए गए।

(Visited 74 times, 1 visits today)

Check Also

‘रिफॉर्म, परफॉर्म व ट्रांसफॉर्म’ पर फोकस है नया श्रम कानून

श्रमेव जयते के मंत्र पर संसद ने पारित किया नया श्रम कानून देश के 50 …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: