Thursday, 2 July, 2020

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ट्रेक्टर पर सवार होकर बाढ़ पीडितों से मिले

प्रभावित क्षेत्रों में तेजी से राहत कार्य एवं आवास-भोजन सुविधाऐं मुहैया कराने के निर्देश दिये
न्यूजवेव कोटा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला शुक्रवार 16 अगस्त को कोटा जिले के कैथून कस्बे में ट्रेक्टर पर सवार होकर बाढ़ से प्रभावित लोगों के बीच पहुंचे और मौका मुआयना कर प्रशासनिक अधिकारियों को तुरंत राहत व आपदा प्रबंधन कार्य तेज करने के निर्देश दिये। पिछले दो दिनों में हुई अतिवृष्टि से जिले के कई कस्बों में जल प्लावन जैसे हालात पैदा हो गये हैं।

बतौर कोटा-बूंदी सांसद ओम बिरला लोकसभा अध्यक्ष का प्रोटोकॉल तोडते हुये प्रभावित लोगों से सीधे रूबरू हुये। उन्होंने कहा कि बरसात के बाद कस्बे में हालात चिंताजनक है। लोगों के घरों में पानी घुस जाने से वे भोजन के लिये तरस रहे हैं। बिरला ने गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के बाबा लक्खासिंह से फोन पर बात कर कैथून में लंगर सेवा शुरू करने की अपील की। उन्होंने कहा कि संकट की घड़ी में भामाशाह आगे आयें और बाढ़ पीड़ित लोगों के लिये अस्थायी आवास व भोजन आदि की मदद करें।

वे कैथून के बीच से होकर गुजर रही नदी में पानी भराव को देखते हुए पहले कोटा रोड़ की तरफ बसे हुए लोगों के बीच पहुंचे तथा कोटा कलक्टर मुक्तानंद अग्रवाल से ट्रेक्टर पर बैठे हुये बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा भी लिया। इसके बाद बिरला सड़क मार्ग से ताथेड होते हुए सांगोद रोड की ओर बसे आबादी क्षेत्र में पहुंचे तथा बाढ़ प्रभावित परिवारों के लिए की जा रही व्यवस्थाओं की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि अतिवर्षा से प्रभावित क्षेत्रों में पानी की निकासी त्वरित की जाये। उन्होंने पानी भराव के कारण मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए अतिरिक्त चिकित्सा दल तथा दवाइयां उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

जनहानि का सर्वे करें

ट्रेक्टर पर लोकसभा अध्यक्ष के साथ क्षेत्रीय भाजपा विधायक कल्पना देवी, जिला कलक्टर एवं पुलिस अधीक्षक मौजूद रहे। उन्होंने निर्देश दिये कि क्षेत्र में पानी निकासी के साथ बिजली आपूर्ति एवं पेयजल सप्लाई शीघ्र सुचारू की जावे। पानी भराव से आवासों की क्षति एवं जन-धन के नुकसान का सर्वे करवाकर आपदा नियमों के तहत समय पर राहत प्रदान करें। उन्होंने कहा कि SDRF, सिविल डिफेंस एवं सेना द्वारा तालमेल से राहत कार्य किये जाये। आवश्यकता पडने पर उन्हें अतिरिक्त दल एवं संसाधन उपलब्ध कराये। जिला कलक्टर ने बताया कि 14 अगस्त से ही एसडीआरएफ एवं सिविल डिफेंस का दल पानी भराव वाले स्थानों में तैनात है। प्रशासन द्वारा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुचाया गया है। भोजन की व्यवस्था भी जारी है।

कोटा शहर में प्रभावित क्षेत्रों को देखा

लोकसभा अध्यक्ष बिरला शुक्रवार शाम को कोटा नगर निगम क्षेत्र की सोगरिया, रेलवे स्टेशन क्षेत्र, पुरोहितजी की टापरी एवं प्रेम नगर आवासीय क्षेत्रों में पहुंचे तथा अतिवर्षा से प्रभावित परिवारों से मिले। उन्होंने नगर निगम एवं नगर विकास न्यास के अफसरों को त्वरित पानी निकासी के लिए अतिरिक्त इंतजाम करने के निर्देश दिये।

वार्डों में महापौर व पार्षद नहीं पहुंच रहे
शहरवासियों ने बताया कि एक ओर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ट्रेक्टर पर बैठकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं, दूसरी ओर कोटा शहर के 60 वार्डों में जलप्लावन होने से सड़कों, नालों व नालियों की बदइंतजामी के कारण कई क्षेत्रों में घरों व प्रतिष्ठानों में पानी भरा रहा। कच्ची बस्तियों में लोगों को भोजन के लिये तरसना पड़ा। लेकिन शहर के महापौर, उपमहापौर तथा वार्ड पार्षद जनता के बीच नहीं पहुंच रहे हैं। स्वतंत्रता दिवस समारोह में फोटो खिंचवाने से बेहतर होता कि प्रभावित क्षेत्रों में जाकर राहत कार्य शुरू करवाते।

मौसमी बीमारियों का अंदेशा

चिकित्सकों ने कहा कि शहर में अतिवृष्टि होने से आवासीय कॉलोनियों के खाली गड्डों में पानी भरा रहेगा। शहर में नालियां, सीवरेज लाइनें व नाले अवरूद्ध होने से आने वाले दिनों में मच्छरों का प्रकोप बढ जायेगा। यदि इसके निकास की व्यवस्था नहीं की गई तो मलेरिया, वायरल, डेंगू व स्वाइन फ्लू जैसी मौसमी बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।

(Visited 33 times, 1 visits today)

Check Also

वर्चुअल संसद में चलाया जा सकता है मानसून सत्र

राज्यसभा के सभापति व लोकसभा अध्यक्ष ने विकल्पों पर किया मंथन, समितियों की वर्चुअल बैठकें …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: