Sunday, 7 June, 2020

RSS ने कोटा में 475़6 परिवारों को राशन सामग्री व 36000 भोजन पैकेट पहुंचाये

522 संघ कार्यकर्ता शहर की 12 बस्तियों में नियमित पहुंचा रहे राशन सामग्री
न्यूजवेव @ कोटा

कोरोना वैश्विक महामारी के संकट में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) द्वारा कोटा शहर की कच्ची बस्तियों में गरीब व वंचित वर्ग के लोगों की मदद करने का अभियान चलाया जा रहा है। लॉकडाउन से प्रभावित निर्धन व दिहाडी मजदूरों को नियमित राशन भोजन सामग्री पहुंचाने का सिलसिला जारी है।


संघ के संभागीय प्रमुख ने बताया कि स्वयंसेवक जब-जब देश पर आपदा या विपत्ति आई, तुरंत जरूरतमंदों की सेवा के लिए कंधे से कंधा मिलाकर सेवाकार्यों में जुट जाते हैं। कोरोना महामारी में ‘नर सेवा नारायण सेवा’ का लक्ष्य लेकर संघ के कार्यकर्ता रोजाना खाना बनाकर, उनकी पैकिंग और वितरण में सोशल डिस्टेंसिंग का खास ध्यान रख रहे हैं।

उन्होंने बताया कि आरएसएस द्वारा शहर में चिन्हित 12 सेवा स्थानों में 522 स्वयंसेवी कार्यकर्ता नियमित सेवा करने में जुटे हुए हैं। इस सेवा अभियान में अब तक 4756 परिवारों को सूखी राशन सामग्री उपलब्ध कराई जा चुकी हैं। साथ ही 36 हजार 550 भोजन पैकेट वितरित किये गए हैं। कोरोना वायरस से बचाव के लिये लोगों को 3600 मास्क भी बांटे गए हैं। इस अभियान में 13 अन्य संस्थाओं का सहयोग मिल रहा है। स्वयंसेवकों ने 25 स्थानों पर संक्रमणरोधी केमिकल का छिड़काव करने के साथ ही 20 स्थानों पर काढ़ा भी पिलाया। कुछ मरीजों को एम्बुलेंस से अस्पताल पहुंचाने की व्यवस्था की गई।
पुलिसकर्मियों की पेयजल सेवा भी

उन्होंने बताया कि आपदा में कोरोना वारियर्स के रूप में सेवायें दे रहे पुलिस एवं प्रशासनिक कर्मचारियों को नियमित चाय, पेयजल एवं जलजीरा पिलाने की व्यवस्था की जा रही है। उन्हें सेनिटाईजर एवं मास्क भी उपलब्ध कराए गए।
गोवंश व पक्षियों की मिटा रहे भूख
उन्होंने बताया कि संघ के कार्यकर्ता लॉकडाउन के दौरान पक्षियों, बंदरों, निराश्रित गौवंश और श्वानों को प्रतिदिन रोटी, बिस्किट, केले, एवं दाना खिला रहे हैं। गौसेवा के लिए 20 गाड़ी हरे चारे की व्यवस्था की गई। पक्षियों के लिये पानी के परिंडे बांधे जा रहे हैं।

(Visited 68 times, 1 visits today)

Check Also

राजस्थान में कोरोना से सिर्फ 2.2 प्रतिशत मौतें

न्यूजवेव @ जयपुर राजस्थान में कोरोना संक्रमण के प्रभावी नियंत्रण एवं पॉजिटिव मरीजों के इलाज …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: