Wednesday, 25 November, 2020

रनिंग चैलेंज फेस्टिवल को लेकर महिलाओं में दिखा जज्बा

उत्साह : 1 जून से शुरू होगी नियमित दौड, प्रतिभागी जून माह में 100 किमी से अधिक दौडेंगे

न्यूजवेव @ कोटा

सेहत की जागरूकता के लिये शहरवासी नए आयाम स्थापित कर रहे हैं। आगामी 1 से 30 जून तक कोटा में पहली बार आयोजित रनिंग चैलेंज फेस्टिवल-2019 को लेकर महिलाओं में खासा उत्साह है। फिटनेस स्क्वायर रनर्स क्लब (FSRC) के निदेशक अमित चतुर्वेदी ने बताया कि हर प्रतिभागी के लिये न्यूनतम 3.2 किमी नियमित दौड़ने की चुनौती होगी। 30 दिनों में उन्हें कम से कम 100 किमी दौडना है।

17 मैराथन कर चुकी रनिंग एम्बेसेडर अर्चना मूंदड़ा ने बताया कि रनिंग फेस्टिवल में शहर की महिलाएं मिलकर दौड़ने की चुनौती को पूरा करेंगी। वे रोज 6.7 किमी दौडते हुये 200 किमी रनिंग का रिकार्ड बनाएगी। मैराथन में दौड़ने से पॉजिटिव इनर्जी मिलती है। यह प्रतिस्पर्धा नहीं है, हम एक-दूसरे को प्रोत्साहित करेंगे। इस अवसर पर रनिंग फेस्टिवल के प्रतिभागियों के लिये टीशर्ट लांच किया गया।
सेहत के लिये बनेगे नये मित्र

Rakhi Sharma

ईएनटी विशेषज्ञ व रनिंग एम्बेसेडर डॉ.विक्रांत माथुर ने कहा कि हम दौडे़ और लोगों को इससे जोडे़ं। परिवार व प्रोफेशन की भागदौड़ के अलावा अच्छी सेहत के लिये आपको हर उम्र के धावक मित्र मिलेंगें। जो ज्यादा उम्र के हैं वे खुद दौडते हुये अपने बच्चों को भी मोटिवेट करें। पंचायत समिति में कार्यरत हरीश श्रंगी ने बताया कि वे 4 वर्ष से हाईब्लड प्रेशर की दवा लेते थे। डायबिटीज व थायराइड से ग्रसित भी रहे लेकिन डेढ़ माह से नियमित दौड़ना शुरू किया, जिससे अब खुद को स्वस्थ महसूस कर रहे हैं।
बेटियों के साथ दौड़ेंगी मां
एमडी मिशन कॉलेज की डॉ.रश्मि दाधीच (45) अपनी दो छोटी बेटियों राशि व राजवी के साथ पहली बार एक माह तक नियमित दौडेंगी। सीए दीपांशी जैन (23) ने बताया कि एक माह पहले से दौडना शुरू किया है, इससे स्टेमिना बढ़ गया है, वर्क एनर्जी मिलती है। 1 घंटा हमें खुद को देना ही होगा। ब्यूटीशियन नीता पारेख ने कहा कि लाइफस्टाइल व्यस्त होने से बीमारियां घेर लेती है। महिलाओं के स्वास्थ्य के लिये रनिंग फेस्टिवल अच्छा अवसर है। महावीर नगर की गृहिणी कृष्णा महावर (52) ने बताया कि इस उम्र में 5 किमी रोज दौड़ना चमत्कारिक लगता है। एक दूसरे को दौडते हुये देखकर उत्साह बढ़ रहा है।
दंपती सुरेश शर्मा व अल्पना शर्मा ने कहा कि वे रोज 3 किमी मॉर्निंग वॉक करते थे, 1 जून से रोज 3.2 किमी दौडना शुरू करेंगे। इससे बच्चे भी इंस्पायर होते हैं। स्टेशन निवासी टीचर रूपाली शर्मा (35) ने बताया कि वे पहली बार रनिंग करेंगी। परिवार के तीन सदस्य एक माह तक नियमित दौड़ लगाएंगे। हार्ट के लिये यह बेहतर है। इंटीरियर डिजाइनर आयूषी बंसल (23) ने लिगामेंट सर्जरी के बावजूद रनिंग फेस्टिवल में भाग ले रही हैं। इससे पैर की सूजन, पाचन शक्ति और हैल्थ को नई एनर्जी मिलेगी।
जो दौडेंगे उनकी दवाइयां बंद
जयपुर में नंगे पैर 10 किमी दौड़ने वाली कोटा की गुंजन गांधी ने कहा कि जो दौडना सीख लेंगे, उनकी दवाइयां बंद हो जायेगी। शरीर में लोचशीलता आएगी और उम्र से छोटे दिखाई देने लगेंगे। व्यवसायी विजय मूंदड़ा व पत्नी इंद्रा मूंदड़ा साथ दौडेंगे। उन्होंने नियमित रनिंग से 7 किलो वजन कम किया है। पहली बार दौडने वाले 22 वर्षीय राघव कहते हैं कि दौड़ने से मांसपेशियों की क्षमता बढ जाती है और बॉडी पॉश्चर की प्रॉब्लम नहीं होती है। शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. नीता जिंदल नेे बताया कि शहर में पहली बार 200 से अधिक महिलाएं नियमित दौडना प्रारंभ करेंगी। इससे उनके बच्चे भी सेहत के प्रति जागरूक होंगे।

(Visited 39 times, 1 visits today)

Check Also

चिकित्सकों की संवेदनशीलता व चुनौतियों पर नई पुस्तक ‘ए हिप्पोक्रेटिक ओडिसी’

कोटा के वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ सुरेश पांडेय व डॉ. विदुषी पांडेय ने कोरोना वारियर …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: