Sunday, 24 January, 2021

राजस्थान में कांग्रेस के हाथ सत्ता का सिंहासन

राजस्थान विधानसभा चुनावः कांग्रेस-100, भाजपा-73, बसपा-6, सीपीएम-2, अन्य-6 व निर्दलीय-12 सीटों पर विजयी
न्यूजवेव जयपुर
15वीं राजस्थान विधानसभा के लिए घोषित 199 सीटों के चुनाव नतीजों में कांग्रेस ने 100 सीटें जीत कर राज्य में  सरकार बनाने का दावा पक्का कर लिया। प्राप्त परिणामों के अनुसार, कांग्रेस ने 100, भाजपा ने 73, बसपा ने 6, माकपा ने 2, अन्य ने 6 एवं 12 सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीत पक्की कर ली  है।

इस चुनाव में सत्तारूढ भाजपा के 11 मंत्रियों को हार का मुंह देखना पड़ा। खास बात यह कि पहली बार 26 सीटों पर निर्दलीय व क्षेत्रीय दलों के प्रत्याशी विजयी रहे। रामगढ़ सीट पर उपचुनाव बाद में होंगे। निर्दलीय में अधिकांश कांग्रेस व भाजपा के बागी प्रत्याशी विजयी हुए हैं।


राज्य में जयपुर संभाग की 49 सीटों में से भाजपा केवल 11 सीटें ही जीत सकी, जबकि कांग्रेस ने 28 सीटों पर भाजपा के दिग्गज प्रत्याशियों को हराकर चौंका दिया। 10 सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशी विजयी रहे।
इसी तरह, भरतपुर संभाग में भी भाजपा को करारी शिकस्त मिली। संभाग में भाजपा को एक सीट व कांग्रेस को 14 सीटों पर जीत मिली। 4 सीटों पर निर्दलीय विजयी रहे।
बीकानेर संभाग में भाजपा को 10 व कांग्रेस को 11 सीटें मिली। 3 पर निर्दलीयों ने जीत दर्ज की। जोधपुर संभाग में 14 पर भाजपा व 16 पर कांग्रेस प्रत्याशी विजयी रहे। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरदारपुरा से विजयी रहे। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने टौंक विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के मंत्री यूनूस खान को सर्वाधिक 54, 179 मतों से शिकस्त दी है। जबकि प्रतिपक्ष के नेता रामेश्वर डूडी नोखा सीट पर चुनाव हार गए।
अजमेर संभाग में भाजपा व कांग्रेस ने 13-13 सीटों पर कब्जा किया जबकि 3 सीटों पर निर्दलीय जीते। उदयपुर संभाग में भाजपा को 15 व कांग्रेस को 10 सीटें मिली, जबकि 3 पर निर्दलीय विजयी रहे। यहां पूर्व केबिनेट मंत्री गिरिजा व्यास भाजपा के गुलाबचंद कटारिया से हार गईं।
हाड़ौती में भाजपा को 10 व कांग्रेस को 7 सीटें
हाडौती के चार जिलों कोटा, बूंदी, बारां व झालावाड़ में मुख्यमंत्री सहित कई मंत्रियों व पूर्व मंत्रियों के बीच कडा मुकाबला होने से नतीजों पर देशभर की नजरें टिकी रही। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे सिंधिया ने झालापाटन क्षेत्र से कांग्रेस के मानवेंद्र सिह को 34,980 मतों से पराजित किया। साथ ही झालावाड जिले की चारों विधानसभा सीटों पर भाजपा ने कांग्रेस प्रत्याशियों को हराया। झालरापाटन में मुख्यमंत्री वसुुंधरा राजे, डग में कालूराम मेघवाल, खानपुर में नरेंद्र नागर व मनोहरथाना में गोविंद प्रसाद रानीपुरिया विजयी रहे।

*कोटा जिले में मुकाबला बराबरी पर*
कोटा जिले में भाजपा को 3 व कांग्रेस को 3 सीटें मिली। कोटा दक्षिण पर भाजपा के संदीप शर्मा ने कांग्रेस की राखी गौतम को 7534 वोटों से हराया। कोटा उत्तर में कांग्रेस के पूर्व मंत्री शांति धारीवाल ने भाजपा के प्रहलाद गुंजल को 16,499 मतों से पराजित किया। लाडपुरा सीट पर भाजपा की कल्पना देवी ने कांग्रेस की गुलनाज को 21,656 मतों से हराया।

रामगंजमंडी में भाजपा के पूर्व मंत्री मदन दिलावर ने कांग्रेस के रामगोपाल बैरवा को 12,879 के बडे़ अंतर से हराया। पीपल्दा में कांग्रेस के रामनारायण मीणा ने भाजपा की प्रत्याशी ममता शर्मा को 14905 मतों से हराया। सांगोद में कांग्रेस के पूर्व मंत्री भरतसिंह ने भाजपा के हीरालाल नागर को अंतिम राउंड में 1926 मतों से हराया।
अंता सीट पर कांग्रेस की बड़ी जीत
बारां जिले में अंता से कांग्रेस के पूर्व मंत्री प्रमोद जैन भाया ने भाजपा के मंत्री प्रभूलाल सैनी को करारी शिकस्त देते हुए 34,063 वोटों से हराया। जिले की बारां-अटरू सीट पर कांग्रेस के पानाचंद मेघवाल व किशनगंज में कांग्रेस की निर्मला सहरिया विजयी रही। छीपाबडौद सीट पर भाजपा के प्रताप सिंह सिंघवी ने कांग्रेस के कर्णसिंह को सीधे मुकाबलेे में हराया।
बूंदी जिले में बूंदी सीट पर भाजपा के अशोक डोगरा ने कांग्रेस के पूर्व मंत्री हरिमोहन शर्मा को 910 वोटों से पराजित किया। हिंडौली में कांग्रेस के अशोक चांदना विजयी रहे जबकि केशवरायपाटन में भाजपा की चंद्रकांता मेघवाल ने जीत दर्ज की।

 

(Visited 50 times, 1 visits today)

Check Also

20 माह की मासूम धनिष्ठा ने 5 लोगों को दी नई जिंदगी

बेटी की असमय मृत्यु होने पर माता-पिता ने उसके हार्ट, किडनी, लीवर व दोनो कॉर्निया …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: