Sunday, 16 June, 2024

पत्रकारों के पुरोधा हुकुमचंद जैन नहीं रहे

समूचे हाडौती संभाग में शोक की लहर,विभिन्न संगठनों ने दी श्रद्धाजंलि
न्यूजवेव @ कोटा

हिंदी दैनिक ‘देश की धरती’ के प्रधान संपादक हुकुमचंद जैन का शुक्रवार को आकस्मिक निधन हो गया। उनके निधन की सूचना पाकर समूचे हाड़ौती एवं सवाईमाधोपुर क्षेत्र से पत्रकारों ने गहरा शोक जताते हुये उन्हें पत्रकारों का पुरोधा बताया।

उन्होने सन् 1974 में झालावाड़ से हिंदी दैनिक ‘देश की धरती’ समाचार पत्र की शुरूआत की थी। उस समय से लघु समाचार पत्रांे में ‘देश की धरती’ सबसे अग्रणी रहा। झालावाड़ जिले में लोकप्रियता के बाद इस समाचार पत्र ने आम जनता की आवाज बनकर कोटा-बूंदी झालावाड़-बारां एवं सवाईमाधोपुर में अलग पहचान बनाई। देश की धरती ने जयपुर तक अपने कदम बढ़ाए। समूह के दैनिक ‘हाडोती की हलचल’ ने कोटा-बूंदी, झालावाड़-बारां एवं सवाईमाधोपुर तक सभी जिलों की समस्याओं को प्रमुखता से उजागर किया, जिसपर राज्य सरकारों ने आवश्यक कदम उठाकर नागरिकों को राहत पहुंचाई।
संस्थापक संपादक हुकुमचन्द जैन ने कोटा शहर में लाडपुरा कार्यालय पर दिन रात मेहनत करते हुये कई नये पत्रकारों को प्रशिक्षण दिया। वे प्रत्येक जिले की खबरें स्वयं देखते थे। ग्रामीण संवाददाताओं से संवाद करते हुये वे उनके दुखदर्द में भी सहभागी बनते थे। जनसमस्याओं की सच्चाई जानने के लिये वे गांव-कस्बों में स्वयं प्रवास करते थे। उनके सिखाये हुये पत्रकार देशभर में उच्च पदों तक पहुंचे हैं।
कोटा के लिये अपूरणीय क्षति
हाडौती संभाग के सभी समुदायों के प्रबुुद्ध नागरिकों एवं सामाजिक-धार्मिक संगठनों ने उनके निधन पर शोक जताया है। कोटा-बूंदी के सांसद ओम बिरला, नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल, खनन व गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया, विधायक संदीप शर्मा, कल्पना देवी कोटा दक्षिण के महापौर राजीव अग्रवाल, कोटा उत्तर की महापौर मजू मेहरा, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पंकज मेहता सहित प्रमुख राजनेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुये कोटा के लिये अपूरणीय क्षति बताया। पत्रकार संगठनों ने वरिष्ठ पत्रकार दिवंगत हुकुमचंद जैन को पत्रकारों के पुरोधा बताते हुये उन्हें सादर भावांजलि दी।

(Visited 469 times, 1 visits today)

Check Also

‘कामयाब कोटा’ अभियान में जिला कलक्टर ले रहे हैं क्लास

न्यूजवेव @कोटा जिला कलक्टर डॉ.रविंद्र गोस्वामी इन दिनों ‘कामयाब कोटा’ मिशन के तहत कोचिंग संस्थानों …

error: Content is protected !!