Saturday, 15 May, 2021

सदन को जवाबदेह व पारदर्शी बनाएं – ओम बिरला

राजस्थान विधानसभा के प्रबोधन कार्यक्रम में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला का संबोधन
न्यूजवेव जयपुर
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सदन की मर्यादा और अनुशासन को बनाये रखना निर्वाचित सांसदों व विधायकों की सामूहिक जिम्मेदारी है। आज जनता ऐसे जनप्रतिनिधियों को पसंद करती है जो अपने क्षेत्र की समस्या को सदन में अच्छे संवाद के साथ प्रस्तुत करें। लोकसभा या विधानसभा जितने अधिक दिन चलेगी, सरकार उतनी ही जवाबदेह बनेगी। मंत्री जितने अधिक सवालों के जवाब देेंगे, उतना ही अपने विभाग को बेहतर समझ सकेंगे।

रविवार को 15वीं विधानसभा के निर्वाचित विधायकों के प्रबोधन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बिरला ने कहा कि राजस्थान विधानसभा की पाठशाला से उन्हें स्वस्थ संसदीय परम्पराओं की सीख मिली है। इन्हीं स्वस्थ परम्पराओं को लोकसभा में लागू करने का प्रयास करेंगे।
बिरला ने कहा कि निर्वाचित सदस्य अलग-अलग पार्टी और विचारधारा से चुनकर आते हैं। उन्हें सदन में अपनी विचारधारा से बोलने का अधिकार है किन्तु सदन में इससे ऊपर उठकर राष्ट्रहित में चर्चा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि बजट की तरह अन्य बिलों पर भी समितियों में गहनता से चर्चा होनी चाहिये।
लोकसभा अध्यक्ष ने कहा सदन पक्ष या प्रतिपक्ष का नहीं होता है। यह सभी सदस्यों का सदन है। सदन के पीठासीन अधिकारी होने के नाते अध्यक्ष की यह जिम्मेदारी है कि वह पक्ष और विपक्ष के सभी सदस्यों का संरक्षण करे और उन्हें अपने क्षेत्र की समस्याओं को उठाने का अवसर दे। सांसद व विधायक सदन की कार्यवाही में अधिक हिस्सा लंे ताकि उन्हें देश-प्रदेश की समस्याओं एवं अभावों का पता चल सके।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी ने कहा कि राजस्थान के लिए गर्व की बात है कि विधायक रहे बिरला अब देश के सर्वोच्च सदन के पीठासीन अधिकारी हैं। अब लोकसभा में हो रहे सभी नवाचारों का राज्य को अधिकतम लाभ मिलेेगा।
हम सभी जनता के ट्रस्टी हैं- मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि विधायक के रूप में हम सभी जनता के ट्रस्टी हैं। हर विधायक जनता के ट्रस्टी के रूप में सदन में गरीब, पिछडे़ व आदिवासियों सहित हर वर्ग की समस्याओं को उठाएं। सदन जनता की आवाज को बुलन्द करने का मंच है। राजस्थान विधानसभा का गौरवशाली इतिहास रहा है। प्रदेश के कई वरिष्ठ नेताओं ने देश की संसदीय प्रणाली को मजबूत करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। देश के सर्वोच्च सदन में भी राजस्थान विधानसभा की नजीर दी जाती है।
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि लोकसभा अध्यक्ष की उपस्थिति इस कार्यकम में लोकतंत्र को सुदढ करने का सफल प्रयोग है। कानून बनाते समय हम दलगत राजनीति से उपर उठकर सभी की बात को स्वीकार करें। उद्घाटन सत्र में संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने आभार जताया।
उद्घाटन सत्र में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने राजस्थान विधानसभा की नवीन वेबसाइट, एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म पर विधानसभा की मोबाइल एप्लीकेशन तथा विधानसभा सचिवालय के डैश बोर्ड ‘‘ग्रीन असेम्बली‘‘ का उद्घाटन किया। उन्होंने पहली विधानसभा से नौंवी विधानसभा (1952 से 1998 तक) के डिजिटाइज्ड कार्यवाही को नवीन वेबसाइट पर लॉन्च किया।

(Visited 32 times, 1 visits today)

Check Also

 कोरोना से मौत होने पर पत्रकारों के परिवार को मिलेगी 15 लाख रुपये की सहायता

उडीसा में कामकाजी पत्रकार फ्रंटलाइन कोविड वारियर्स घोषित न्यूजवेव @ भुवनेश्वर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: