Sunday, 27 September, 2020

अब भारतीय स्टूडेंट्स मोबाइल एप बनाना सीखेंगे

  • नीति आयोग के अटल इनोवेशन मिशन (AIM) ने स्कूली छात्रों के लिए ATL App डेवलपमेंट मॉड्यूल लॉन्च किया
  • मॉड्यूल का उद्देश्य- स्कूली छात्रों को एप डवलपर्स बनने के लिये प्रोत्साहित करना

न्यूजवेव @ नईदिल्ली
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘आत्मनिर्भर भारत’ का लक्ष्य अर्जित करने के उद्देश्य से नीति आयोग के अटल इनोवेशन मिशन (AIM) ने 12 जुलाई को देशभर के स्कूली विद्यार्थियों के लिए एटीएल एप डेवलपमेंट मॉड्यूल लॉन्च किया है। स्टूडेंट्स में भारतीय मोबाइल एप डेवलपमेंट सिस्टम की जागृति पैदा करने की दिशा में यह बडा कदम है। भारतीय स्टार्टअप प्लेज्मो के सहयोग से यह ATL एप डेवलपमेंट मॉड्यूल लॉन्च किया गया है। इसके जरिये AIM के प्रमुख कार्यक्रम अटल टिंकरिंग लैब्स के तहत आने वाले समय में स्कूली छात्रों के स्किल्स में सुधार करना और उन्हें एप यूजर्स से एप डवलपर्स बनाना है।

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि कोविड-19 महामारी से स्टूडेंट्स की पढाई में बहुत व्यवधान रहा उन्हें रोजमर्रा की जिंदगी में टेक्नोलॉजी का उपयोग करना सिखाना होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नागरिकों को #AatmaNirbhar भारत के लिए टेक्नोलॉजी का उपयोग करने और नवाचार के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। कम उम्र में युवाओं द्वारा स्किल सीखकर उन्हें अगली पीढ़ी के टेक्नोलॉजी निर्माण के लिए सक्षम बनाना है। एआईएम के अटल टिंकरिंग लैब के तहत, भारत के युवा छात्रों के लिए एटीएल ऐप डेवलपमेंट मॉड्यूल लॉन्च करने पर नीति आयोग को गर्व है।

ATL एप डेवलपमेंट ऑनलाइन कोर्स

एटीएल एप डेवलपमेंट मॉड्यूल एक निःशुल्क ऑनलाइन कोर्स है। 6 प्रोजेक्ट आधारित लर्निंग मॉड्यूल और ऑनलाइन कोर्स विभिन्न सेशन के माध्यम से, युवा छात्र नवाचार के साथ विभिन्न भारतीय भाषाओं में मोबाइल एप बनाना सीख सकते हैं और अपनी प्रतिभा को साबित कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, स्कूल के शिक्षकों में एप डेवलपमेंट की क्षमता और स्किल निर्माण के लिए एआईएम एप विकास पाठ्यक्रम पर निश्चित समय के टीचर्स ट्रेनिंग सेशन आयोजित किये जायेंगे।

मॉड्यूल का वर्चुअल लॉन्च करते हुये अटल इनोवेशन मिशन, नीति आयोग के मिशन निदेशक आर रमणन ने कहा, “हमें अपने देश का आबादी घनत्व देखते हुये विश्वस्तरीय टेक्नोलॉजी सॉल्यूशन और एप की आवश्यकता है। आत्मनिर्भर भारत ऐप इनोवेशन चेलेंज स्कूल, यूनिवर्सिटी व इंडस्ट्री स्तर पर समान रूप से युवा छात्रों को प्रेरणा दे रहा है। नीति आयोग का एआईएम अब देशभर के अटल टिंकरिंग लैब्स के युवा टिंकरों के लिए ऐप डेवलपमेंट के कौशल ला रहा है ताकि वे अपने टिंकरिंग लैब इनोवेशन को मोबाइल ऐप के साथ जोड़कर नवाचारों की पहुंच को बढ़ा सकें। यह किसी भी देश में स्कूल स्तर पर एप सीखने और स्किल डेवलपमेंट की सबसे बड़ी पहल होगी।

Tinker from Home अभियान

उन्होंने कहा, ‘‘एटीएल #TinkerfromHome अभियान के रूप में युवाओं में सीखने और रचनात्मकता को बढ़ावा देने के लिए, नीति आयोग के  AIM ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस सहित गेम डिजाइन और विकास, 3-D डिजाइन, खगोल विज्ञान, डिजिटल रचनात्मकता कौशल, आदि नवीनतम तकनीकों को सीखने और अनुप्रयोग करने के लिए देश के छात्रों और शिक्षकों को घर से सीखने की सुविधा दी है।

प्लेज्मो के सीईओ अमोल पलशिकर ने कहा कि प्लेज्मो का मिशन सभी को 21वीं सदी के तकनीक-कौशल को सीखने में सक्षम बनाना है जैसे कोडिंग, कम्प्यूटेशनल थिंकिंग, डिजाइन थिंकिंग और समस्या का समाधान आदि। यह पहल, भारत को वैश्विक प्रौद्योगिकी की महाशक्ति बनाने के लिए हमारी युवा पीढ़ी को सशक्त बनाएगी और #MakeinIndia के लक्ष्य के प्रति योगदान देगी। अब तक, पूरे देश के 660 से अधिक जिलों में अटल इनोवेशन मिशन द्वारा 5100 से अधिक ATL स्थापित किए गए हैं। 2 मिलियन से अधिक छात्रों की टिंकरिंग लैब्स तक पहुँच है।

(Visited 57 times, 1 visits today)

Check Also

स्मार्टफोन से पता चलेगा- ‘कौन है कोरोना संक्रमित’

बेंगलुरु के स्टार्टअप एक्यूली लैब्स ने तैयार किया मोबाइल एप ‘Lyfas’ कोविड स्कोर,  DST की …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: