Tuesday, 1 December, 2020

चिकित्सकों की संवेदनशीलता व चुनौतियों पर नई पुस्तक ‘ए हिप्पोक्रेटिक ओडिसी’

कोटा के वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ सुरेश पांडेय व डॉ. विदुषी पांडेय ने कोरोना वारियर चिकित्सकों के मर्म को साझा किया
न्यूजवेव @ कोटा

वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ.सुरेश पाण्डेय एवं डॉ. विदुषी शर्मा ने अपनी नई पुस्तक ‘ए हिप्पोक्रेटिक ओडिसीः लेसन फ्रॉम ए डॉक्टर कपल ऑन लाइफ इन मेडिसिन, चैलेंजेज एंड डॉक्टर प्रेन्योरशिप’ पुस्तक में कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान कोरोना वारियर डॉक्टर्स की संवेदनशलता को बखूबी चित्रित किया है। देश के भावी युवा चिकित्सकों के लिये सफलता के सूत्र देते हुये चिकित्सक पेशे की चुनौतियों का भी उल्लेख किया गया है। ब्लमस्बरी,नई दिल्ली द्वारा प्रकाशित यह पुस्तक अमेजॉन पर बेस्ट सेलर बुक रही।
डॉ. पांडेय ने बताया कि पुस्तक में मेडिकल स्टूडेन्ट्स एवं ट्रेनी चिकित्सकों को कम्पेशन (दयालुता) कम्यूनिकेशन (सम्प्रेषण) कॉम्पीटेंस (मेडिकल नॉलेज में दक्षता) पर जोर देते हुए उन्हें सफल व संवेदनशील डॉक्टर बनने के सूत्र दिये गये हैं। कोविड-19 महामारी के बाद भारत चिकित्सा क्षेत्र में महाशक्ति कैसे बनें, बदलते परिवेश में डॉक्टर-मरीज के संबंध कैसे मधुर हों, महंगे इलाज का खर्च कैसे कम हो, मेडिकल ट्यूरिज्म कैसे बढ सकता है जैसे विषयों पर वैज्ञानिक चर्चा की गई हैं।
अमेरिका एवं आस्ट्रेलिया में 7 वर्ष सेवाएं देने वाले सुवि नेत्र चिकित्सालय, कोटा के निदेशक नेत्र सर्जन डॉ.सुरेश पाण्डेय एवं डॉ.विदुषी शर्मा ने एम्स, नईदिल्ली एवं पीजीआई, चंडीगढ़ में अपनी मेडिकल ट्रेनिंग के बारे में अनुभव साझा किये हैं। पुस्तक में डॉक्टर्स डे, डिफेन्सिव मेडिसिन, डॉक्टरों में बढ़ती आत्महत्या, फर्स्ट डू नो हार्म आदि महत्वपूर्ण विषयों के बारे में जानकारी दी गई है। इसमें आस्ट्रेलिया के डॉ. फ्रेंक बिलसन, अमेरिका के डॉ.एडवर्ड विलसन, भारत के हार्ट सर्जन पद्मभूषण डॉ. नरेश त्रेहान, पदमभूषण डॉ.देवी शेट्टी, प्रसिद्ध नेत्र सर्जन पद्मश्री डॉ.जगतराम,निदेशक, पी.जी.आई. चण्डीगढ़, वरिष्ठ फिजिशियन पद्मश्री डॉ.रनदीप गुलेरिया निदेशक, एम्स, नई दिल्ली, राजस्थान के वरिष्ठ न्यूरोलाोजिस्ट पद्मश्री डॉ.अशोक पनगड़िया, पद्मश्री डॉ. नटराजन सुन्दरम, मुम्बई आदि चिकित्सकों ने प्रस्तावना लिखी है।
डॉ. पांडेय ने कहा कि समूचा विश्व इस समय कोविड-19 नामक वैश्विक महामारी से जूझ रहा है। डॉक्टर्स, पेरामेडिकल स्टाफ, सफाईकर्मी, पुलिस कर्मी एवम् प्रशासनिक अधिकारी कोरोना वारियर्स बनकर इस अद्श्य शत्रु (विषाणु) से मुकाबला कर रहे है। कई डॉक्टर्स व हैल्थ वर्कर कोविड 19 से संक्रमित रोगियों को बचाते हुए अपने प्राणों की आहुति दे चुके है। कोरोना महामारी के दौरान विश्व भर में हेल्थ, हाईजिन, हेल्थ केयर, हॉस्पिटल की महत्ता फिर से साबित हो चुकी है। ऐसे में लेखक डॉ. सुरेश पाण्डेय एवं डॉ विदुशी पाण्डेय ने पुस्तक को विश्व के कोरोना वॉरियर्स डॉक्टर्स को समर्पित की है।

(Visited 44 times, 1 visits today)

Check Also

सरकारी ब्लड बैंक के लिए किया 51 यूनिट रक्तदान

कोटा में मुस्लिम रक्तवीरों ने दिखाया रक्तदान उत्साह न्यूजवेव@ कोटा कोटा सम्भाग के सबसे बड़े …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: