Tuesday, 23 April, 2024

हैल्थ चेकअप कैम्प में पहले दिन 500 पुलिसकर्मियों की जांच हुई

मेडकॉर्ड्स, हैप्पीनेस इनीशिएटिव व कोटा हार्ट हॉस्पिटल के तत्वावधान में पुलिस लाइन में शुरू हुआ निशुल्क मेगा कैम्प, मोबाइल पर मिली हैल्थ कुंडली।

न्यूजवेव कोटा

‘शहर में पुलिसकर्मियों की ड्यूटी ही कुछ ऐसी है कि उन्हें पर्याप्त नींद व समय पर सही भोजन दोनो नहीं मिल पाते हैं। 24 घंटे ड्यूटी देते हुए उन्हें अगले 24 घंटे के बारे में भी अनिश्चितता रहती है। ऐसे में उम्र के साथ उनकी स्वास्थ्य समस्याएं भी बढ़ती जाती है। इसे देखते हुए पहली बार कोटा पुलिस लाइन में निःशुल्क मेगा हैल्थ चेकअप कैम्प आयोजित किया गया है, जिससे उनमें हैल्थ अवेयरनेस रहे।

यह बात मुख्यालय एएसपी उमेश ओझा ने शिविर के पहले दिन बुधवार को अपनी ईसीजी जांच करवाते हुए कही। दोपहर बाद शिविर में पहुंचे एसपी दीपक भार्गव ने भी हैल्थअप करवाकर मेडकॉर्ड्स से अपना डिजिटल रिकॉर्ड बनवाया। उन्होंने कहा कि एक ही स्थान पर जांच व सही परामर्श मिलने से पुलिसकर्मियों में अवेयरनेस आएगी। इलाज से पहले रोगों से बचाव ज्यादा जरूरी है। यह शिविर 30 नवंबर तक नियमित चलेगा, जिसमें करीब 5000 पुलिसकर्मियों एवं उनकी पत्नी व माता-पिता की निःशुल्क स्वास्थ्य जांच होगी।

मेडकॉर्ड्स सीईओ श्रेयांस मेहता ने बताया कि राज्य में पहली बार हो रहे इस मेगा शिविर में मेडकॉर्ड्स, हैप्पीनेस इनीशिएटिव, कोटा हार्ट हॉस्पिटल, रामदुलारी जिंदल मैमोरियल एंड हैल्थ केअर सोसायटी, श्रीजी हॉस्पिटल व महावीर ईएनटी, माडर्न डायग्नोस्टिक आदि के सहयोग से पुलिसकर्मियों व उनके माता-पिता की रक्त जांच, आंख, ईएनटी, किडनी, एसजीपीटी, ईसीजी जांच की गई। हृदय रोग व स्त्री रोग विशेषज्ञ ने निःशुल्क परामर्श दिया।

श्रीजी हॉस्पिटल में नेत्र विशेषज्ञ डॉ. सोनल अग्रवाल ने एक 70 वर्षीय महिला भंवरी बाई की जांच में बताया कि शुगर व बीपी के रोगियों को आंख के परदे की जांच करवाना चाहिए। शिविर में कालापानी व मोतियाबिंद की स्क्रीनिंग भी की गई।

पुलिस लाइन में कार्यरत हनुमान सिंह व नंद किशोर ने सारी जांचें करवाने के बाद कहा कि पहली बार हमें इतनी सारी जांच एक साथ करवाने का मौका मिला, शहर पुलिस प्रशासन ने हमारे परिजनों के लिए यह अच्छा कदम उठाया। हमें डिजिटल रिकॉर्ड मिलने से जीवनभर लाभ होगा।

Health checkup team members

पुलिसकर्मी इनका रखें ध्यान

– 40 वर्ष की उम्र में वर्ष में एक बार ब्लड शुगर, बीपी व ईसीजी जांच करवा लें।
– धुम्रपान से हार्ट व फेफडों पर असर होता है, इससे बचें।
– काम के दबाव में नशाप्रवृत्ति से बचें।
– फैमिली हिस्ट्री वाले रेेगुलर चेकअप करवाते रहें।
– टीएमटी व स्ट्रेस इको टेस्ट से हृदय रोग की स्थिति का पता कर सकते हैं।
– थायराइड से ब्लड प्रेशर व हार्ट प्रॉब्लम हो सकती है, इसकी जांच करवा लें।
– सब्जी व सलाद ज्यादा लें। नमक, तली हुई चीजें व घी का सेवन कम करें।

(जैसा हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ.कार्तिक जायसवाल ने बताया )

(Visited 233 times, 1 visits today)

Check Also

एक माह की नवजात की सांसें थमी तो ENT डॉक्टर ने बचाई जान

न्यूजवेव @ कोटा  कोटा में महावीर ईएनटी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक माह की नवजात …

error: Content is protected !!