Monday, 18 October, 2021

हर बच्चे में है टेंलेंट, समय पर उसे पहचानें

ओरिएंटेशन सत्र :  नए शैक्षणिक सत्र 2018-19 में स्टूडेंट्स के साथ पेरेंट्स ने भी जानी कॅरिअर पाॅइंट की शैक्षणिक प्रणाली।

न्यूज वेव @ कोटा

“टेलेंट तो हर बच्चे में होता है, उसे सही समय पर पहचानने की जरूरत है। स्कूल से बच्चे जब कोचिंग लेने आते हैं तो यहां आकर पहली बार वे नेशनल काॅम्पिटिशन को महसूस करते हैं और उसी के अनुसार निरंतर मेहनत करने के लिए खुद को तैयार कर लेते हैं।”

सोेमवार को सीपी टाॅवर आॅडिटोरियम में कॅरिअर पाॅइंट के निदेशक श्री प्रमोद माहेश्वरी ने शैक्षणिक सत्र 2018-19 के प्रथम ओरिएंटेशन सत्र को संबोधित करने हुए यह बात कही।
उन्होंने विद्यार्थियों को कोच करते हुए कहा कि जीवन में कामयाबी चाहिए तो चुनौतियों से सामना करना सीख लो। हर स्टूडेंट पहले दिन से अपना लक्ष्य सामने रखकर चले। क्लास में डाउट पूछने में कभी शरमाएं नहीं। सफलता चाहिए तो टारगेट पाने की जिद करों और रोज सवाल पूछने की आदत डालों।

कॅरिअर पाॅइंट स्टूडेन्ट वेलफेयर सेल द्वारा जेईई मेन, जेईई एडवांस्ड, प्री-मेडिकल एवं प्री-फाउंडेशन विद्यार्थियों के लिए आयोजित पहले ओरिऐन्टेशन सेशन में विभिन्न राज्यों से बडी संख्या में विद्यार्थी अभिभावकों के साथ पहुंचे। उन्होंने दुनियां के कामयाब इंसानों के विडियो प्रजेंटेशन दिखाकर बच्चों को मोटिवेट किया। साथ ही, कॅरिअर पाॅइंट संस्थान के विश्वसनीय एजुकेशन सिस्टम की बारीकियों से अवगत कराया।

श्री माहेश्वरी ने कहा कि अभिभावक बच्चे को हर स्थिति में मोटिवेट करें। बच्चे भगवान का उपहार है। सबसे पहले ये समझना जरूरी है कि हम जो याद कर रहे है आखिर वो है क्या। शुरू से ही टाइम प्रेशर में काम करने की आदत डालें, ताकि परीक्षा के दिनों में कोई तकलीफ न हो।

आज के दौर में स्मार्ट हार्ड वर्क की जरूरत है। प्रवेश परीक्षा देने से पहले उसे जानना जरूरी है। सीपी का एजुकेशन सिस्टम स्कूल सिस्टम पर आधारित है, जो स्टूडेंट की परमानेंट मैमोरी में फीड करता है।

कोटा में खुद को कभी अकेला ना समझे

उन्होंने कहा कि मेहनत का कोई विकल्प नही है। बिना मेहनत के सफलता नही मिलती। मेहनत करेंगे तो टेलेंट अपने आप आ जायेगा। घर से दूर रहते हुए अपने रूम को मैनेज रखें। रूम में एकेडेमिक माहौल हो। टेबल को खाली ओर साफ रखो। एक टेबल पर दो ना पढ़े। जो याद हो चुका उसे बार बार रिपीट ना करें। फेकल्टी जो बताए उसको फॉलो करे। हर विषय को समय दें। स्टूडेंट की सफलता ही हमारी सफलता है। स्टूडेंट के मन मे जो भी बात हो वो खुलकर शिक्षकों को बताए, कभी खुद को अकेला न समझें।

मोबाइल से दूर, पुराने पेपर हल करने की आदत डाले
आईआईटीयन श्री प्रमोद माहेश्वरी ने सही पढ़ाई करने के लिए उपयोगी टिप्स बताए। उन्होंने कहा कि एक्सरसाइज शीट को मिस ना करें। पुराने पेपर हल करने की आदत डालें। डाउट क्लास में टीचर से हर सवाल पूछे। अच्छे स्टूडेंट के लिए यह जानना जरूरी है कि दूसरे स्टूडेंट से आखिर हल क्यों नही हुआ। डाउट सेशन महत्त्वपूर्ण होता है इसको मिस ना करें। आगामी एग्जाम को टारगेट करके टेस्ट सीरीज को ध्यान से देखे। अपनी कमजोरी व गलतियों को जाने और दूर करें। परीक्षा के दौरान मानसिक संतुलन जरूरी है। आठ घंटे तो कम से कम पढ़ें। जीवन मे बहुत कुछ है इसे समझें। सबसे खास, टाइम मैनेज करना सीखें।

अभिभावकों ने जानी सीपी की कोचिंग प्रणाली
कार्यक्रम के अंत में देशभर के अभिभावकों ने कॅरिअर पाॅइंट की शैक्षणिक प्रणाली को विस्तार से समझा। निदेशक प्रमोद माहेश्वरी ने बताया कि कॅरिअर पाॅइंट में सर्वश्रेष्ठ व अनुभवी फैकल्टी क्लास में पढ़ाते है। वैज्ञानिक तरीके से तैयार स्टडी मैटेरियल बच्चों को दिया जाता है। बच्चे हर सब्जेक्ट के माॅड्यूल पढ़कर खुद को मजबूत कर लेते हैं।

संस्थान में स्टूडेंट वेलफेयर सेल की टीम बच्चों की कॅअरिंग करते हुए पढाई के साथ हाॅस्टल, मैस व अन्य बाहरी समस्याओं का समाधान भी करती है। ताकि बच्चा घर से दूर सुरक्षित वातावरण में रहकर पढाई कर सके।

(Visited 88 times, 1 visits today)

Check Also

Global CYberPeace Challenge 3.0 announced

5 lakh students & educators across India to be trained Newswave @ New Delhi The …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: