Thursday, 25 April, 2024

किसान परेशान, सरसों के नहीं मिल रहे सही दाम

सांसद ओम बिरला ने कहा, समर्थन मूल्य किसानों का हक है, खरीद प्रक्रिया की कमियां दूर करे सरकार

न्यूजवेव@ कोटा
हाड़ौती संभाग में सरसों की बम्पर पैदावार होने के बावजूद किसान सही दाम नहीं मिलने से मायूस हैं। समर्थन मूल्य पर खरीद प्रक्रिया जटिल होने से गांवों के किसान पंजीयन के लिये चक्कर काट रहे हैं। कोटा-बूंदी सांसद ओम बिरला ने भामाशाह मंडी पहुंचकर राजफेड कांटों व तुलाई केंद्रों का जायजा लिया, तो वहां फसल बेचने के लिये किसान नहीं मिले। किसान अभी तक पंजीयन की जटिल प्रक्रिया में उलझे हुए हैं।
सांसद ओम बिरला, पूर्व विधायक हीरालाल नागर एवं देहात भाजपा जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह अमृतकुंआ ने मौके पर किसानों से बातचीत की तो उनका दर्द फूट पडा। दहीखेडा के किसान हरि नागर ने कहा कि तीन दिन के बाद भी उनका पंजीयन नही हुआ। हारकर उन्होंने समर्थन मूल्य से कम दाम पर मार्केट में फसल बेची है। देवपुरा के किसान रामलाल ने बताया कि उनके तीन भाईयों के पास भामाशाह कार्ड हैं लेकिन एक कार्ड से एक ही पंजीयन होने से परेशनी खडी हो गई है।
सांसद बिरला ने कहा कि केन्द्र सरकार ने राज्य सरकार को समर्थन मूल्य पर फसलों को खरीद करने के लिए अधिकृत किया है। इसके बावजूद खरीद जटिल प्रक्रियाओं से किसानों धक्के खाने पर मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि बाजार मूल्य एवं समर्थन मूल्य मेे 1000 रू. क्विंटल का अंतर है, जिससे किसानों को बडा आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। सांसद बिरला ने आरोप लगाया कि किसानों को सपने दिखाने वाले कांग्रेस नेता आज चुप क्यों हैं।
खरीद सीमा 40 क्विंटल की जाये

उन्होंने बताया कि वसुंधरा सरकार ने प्रति किसान खरीद सीमा 40 क्विंटल तय की थी जबकि कांग्रेस सरकार ने इसे घटाकर 25 क्विंटल कर दी है। इस साल सरसो की बम्पर पैदावार होने से प्रति बीधा 4 क्विंटल का उत्पादन हुआ है। ऐसे में सीमांत किसान के साढे 12 बीघा रकबे के हिसाब से 50 क्विंटल पैदावार होगी। राज्य सरकार तत्काल खरीद सीमा को 25 से बढाकर 50 क्विंटल प्रति किसान करें।

फसल की खरीद प्रक्रिया में विक्रय पर्ची में बायोमेट्रिक पहचान को भी समाप्त किया जाये। खरीद के लिये तहसील स्तर पर 5 केन्द्र बनाए गए हैं। भामाशाह मंडी में सिर्फ लाडपुरा तहसील की बजाय कोटा जिले के किसानोेे की फसल की खरीद की जाये। देहात जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह ने कहा कि पंजीयन नही होने से खरीद केन्द्रो पर किसान नही पहुंच रहे है। भामाशाह मंडी में रोजाना 20,000 बोरी सरसो आ रही है। इससे किसानों के नुकसान का अंदाजा लगाया जा सकता है। भाजपा नेताओं ने चेतावनी दी कि खरीद व्यवस्था नहीं सुधारी गई तो किसान आंदोलन करेगे। सांसद के साथ देहात भाजपा के उपाध्यक्ष ललित शर्मा, कोटा ग्रेन एंड सीड्स मर्चेंट एसोसिएशन अध्यक्ष अविनाश राठी आदि मौजूद रहे।

(Visited 363 times, 1 visits today)

Check Also

आपका एक-एक वोट देश को मजबूत करेगा – अमित शाह

न्यूजवेव @कोटा कोटा-बूंदी सीट पर चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में शनिवार को भाजपा के …

error: Content is protected !!