Saturday, 13 April, 2024

एक क्लिक पर मिलने लगे मरीजों के रिकॉर्ड्स, इलाज हुआ आसान

डिजिटल हेल्थकेअर – प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2022 में भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर न्यू इंडिया के रूप में देश के सामने नवनिर्माण की नींव रखी। मिशन से प्रभावित होकर आईआईटी एवं एनआईटी से निकले बीटेक ग्रेजुएट्स नए स्टार्टअप खोज रहे हैं। दो युवा आईटी विशेषज्ञ श्रेयांश मेहता एवं निखिल बाहेती ने व्यापक सर्वे एवं रिसर्च कर हेल्थकेअर को सस्ता-सुलभ बनाने के लिए डिजिटल मेडकॉर्ड्स सुविधा प्रारंभ की। इससे डॉक्टर्स के पर्चे व जांच रिपोर्ट का डाटाबेस मोबाइल पर आजीवन सुरक्षित रहेगा।

एक नजर में मेडकॉर्ड्स-
21 राज्यों के 10,000 से अधिक रोगी जुडे़
30 शहर व 250 से अधिक ग्रामीण क्षेत्रों में यह सुविधा
54.56 प्रतिशत पुरूष रोगियों के रिकार्ड डिजिटल
45.44 प्रतिशत महिलाओं ने कराया निशुल्क पंजीयन

आयुवर्ग डिजिटल रोगी (प्रतिशत)
1-7 वर्ष 8.2
14-18 वर्ष 10.9
18-50 वर्ष 14.6
50 वर्ष से अधिक 56.8

अरविंद
देश के 80 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों में बेसिक हेल्थकेअर सुविधाओं तथा मरीजों के डाटा को सुरक्षित रखने के लिए युवा आईटी विशेषज्ञों ने ‘मेडकॉर्ड्स’ हेल्थकेअर तकनीक विकसित की। अमेरिका के न्यू अरर्लिंयंस में हुई ‘फास्टेस्ट ग्रोइंग टीच कॉन्फ्रेंस’ में दवाओं के प्रेस्क्रिप्शन तथा रिकॉर्ड रखने के लिए मेडकॉर्डस को दुनिया के टॉप-10 स्टार्टअप में शामिल किया।

देश की यह पहली हेल्थकेअर डिवाइस है जो मरीज, डॉक्टर, लैबोरेट्री तथा केमिस्ट के बीच सेतु का काम कर रही है। इस इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में दुनिया के 1 लाख से अधिक स्टार्टअप के आवेदन मिले। मेडकॉर्ड्स को ग्रोथ पोटेंशियल, सोसायटी व मार्केट पर असर, प्रॉडक्ट क्वालिटी एवं टीम जैसे मापदंडों के आधार पर चुना गया। यूएसए की क्रिस सागा तथा एंट्री केपिटल जैसी प्रमुख कंपनियों ने इसमें निवेश करने में रूचि दिखाई।
मेडकॉर्ड्स सुविधा सबसे पहले कोटा के तीन सरकारी अस्पतालों के डिजिटलीकरण से प्रारंभ हुई। मोबाइल पर रोगी का कोड नंबर डालते ही उसकी हिस्ट्री डॉक्टर के सामने होती है। डिजिटल रिकॉर्ड पर हुए एक सर्वे के अनुसार, सरकारी अस्पतालों में त्वचा रोग, बुखार व एनीमिया के रोगी सर्वाधिक आते हैं। 7 से 14 वर्ष की उम्र में 15 फीसदी रोगी त्वचा रोग, 14.37 प्रतिशत बुखार से तथा 6 प्रतिशत एनीमिया से ग्रसित पाए गए। 14 से 18 आयुवर्ग में 16.46 प्रतिशत मौसमी बुखार, 9-9 प्रतिशत बुखार व एनीमिया से पीडि़त पाए गए। 18 से 50 वर्ष की महिलाओं में गायनिक समस्याएं सबसे ज्यादा रहीं।
हेल्थकेअर में बढे़गी अवेयरनेस

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने ‘न्यू इंडिया-2022’ के तहत देश के युवाओं को आव्हान किया था कि वे अपने नॉलेज व तकनीक से ऐसे प्रोजेक्ट तैयार करें, जिससे हम विदेशी तकनीक पर निर्भर न रहें। साइंस एंड टेक्नोलॉजी में रिसर्च कर रहे देश के युवा विभिन्न क्षेत्रों में मॉडर्न व स्मार्ट तकनीक विकसित कर रहे हैं। मेडकॉर्ड्स टीम ने बताया कि निकट भविष्य में देश के 10 लाख मेडिकल स्टोर्स को इस सुविधा से जोड़ा जाएगा। इससे उन्हें किस क्षेत्र में कब तथा कौनसी बीमारी के रोगी ज्यादा होते हैं, इसका पूर्वानुमान लगाकर दवाइयां उपलब्ध करा सकते हैं। अगले 5 वर्षों में विभिन्न राज्यों के सरकारी अस्पतालों में 5 करोड़ से अघिक मरीजों को इस डिजिटल सुविधा से जोड़ने की योजना है।
इसलिए हो रहा था इलाज महंगा
सीईओ श्रेयांस मेहता व निखिल बाहेती के अनुसार, अब तक देश के सरकारी अस्पतालों में हेल्थकेअर मैनेजमेंट सहीं नहीं होने से गरीब व अनपढ़ रोगियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। कभी डॉक्टर का पर्चा (प्रेस्क्रिप्शन) अथवा जांच रिपोर्ट (डायग्नोसिस) गुम हो जाने पर उन्हें दोबारा महंगी जांच करवानी पड़ती थी। रोगी का डाटाबेस सुरक्षित नहीं होने से प्राइवेट डॉक्टर को बार-बार फीस देना, दोबारा जांच व दवाइयों का खर्च कई गुना ज्यादा बढ़ गया था। मेडकॉर्ड्स डिवाइस से अब डॉक्टर, लैबोरेट्री व फार्मासिस्ट के पास रोगी का रिकार्ड आपस में शेअर हो सकेगा, जिससे ट्रीटमेंट खर्च में अप्रत्याशित कमी आएगी।
ग्रामीण क्षेत्रों में थमेंगी अकाल मौतें
भारत में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) दर 7.6 प्रतिशत है। लेकिन दो तिहाई ग्रामीण आबादी को समय पर हेल्थकेअर सुविघाएं नहीं मिलने से मृत्यु दर 4.1 प्रतिशत तक पहंुच गई है। 80 प्रतिशत ग्रामीण जनता में आधे लोग गरीबी की रेखा से नीचे जीवन बिताते हैं। मेडिकल साइंस में रिसर्च के बावजूद देश के ग्रामीण क्षेत्रों में जांच सुविधाएं बेहतर नहीं होने तथा डाटाबेस उपलब्घ नहीं रहने से प्रतिवर्ष हजारों मरीज मलेरिया, वाइरल, डेंगू, स्वाइन फ्लू, बर्ड फ्लू, चिकनगुनिया जैसी संक्रामक तथा टीबी, कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। मेडिकल डाटाबेस सुरक्षित रहने से प्रभावित क्षेत्रों में समय पर प्रभावी इलाज मिल सकेगा। विभागों को मौसमी बीमारियों का डाटाबेस मिल जाने से संबंधित प्रभावित क्षेत्रों में वायरस फैलने पर प्रभावी नियंत्रण हो सकेगा।

ऐसे तैयार करें मेडिकल प्रोफाइल
सरकारी अस्पताल में रोगी को एक बार मेडकॉर्ड्स पर लॉगइन करना है। जिसमें नाम, मोबाइल नंबर व क्षेत्र भरते ही वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) मोबाइल पर आएगा, उसे भरते ही रोगी का अकाउंट खुल जाएगा। वह अपने सारे मेडिकल रिकॉर्ड अपलोड कर सकता है। इससे भविष्य के लिए मरीज की मेडिकल प्रोफाइल बन जाएगी। जिसे देश-विदेश के विशेषज्ञों से परामर्श मिल सकेगा। उनमें बीमारी के समय डॉक्टर का पर्चा या जांच रिपोर्ट गुम होने का भय खत्म हो जाएगा। रोगी हेल्पलाइन नंबर 7816811111 पर अन्य जानकारी ले सकते हैं।

इनोवेशन से नई कंपनियों का सृजन
नीति आयोग के आंकड़ों के अनुसार, देश के 9 राज्यों में युवाओं ने विभिन्न क्षेत्रों में 2030 नए स्टार्टअप के पंजीयन करवाए। इनमें दिल्ली में 318, हरियाणा में 97, उŸारप्रदेश में 119, गुजरात में 118, महाराष्ट्र में 407, तेलंगाना में 92, तमिलनाडु में 143, कर्नाटक में 312 तथा केरल में 85 स्टार्टअप प्रारंभ हुए। केंद्र सरकार द्वारा स्टार्टअप के लिए करों में 50 प्रतिशत तक छूट तथा वित सहायता मुहैया कराने से इस ओर रूझान बढ़ा। केद्र द्वारा वर्ष 2017-18 में नवाचार के लिए 1800 करोड़ की मदद दी जाएगी। सरकार की प्रोत्साहन योजना के अनुसार, 2025 तक 10 हजार करोड़ की वित सहायता दी जाएगी। जिससे प्रतिवर्ष 1100 करोड़ की राशि आंत्रप्रिन्योर के क्षेत्र में दी जाएगी। पिछले 2 माह में आईआईटी, एनआईटी, आईआईएम व अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों से प्रशिक्षित युवाओं ने विभिन्न राज्यों में 1000 से अधिक स्टार्टअप चालू किए। ग्लोबल औंत्रप्रिन्योरशिप एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट द्वारा तैयार औंत्रप्रिन्योरशिप इंडेक्स,2017 में अमेरिका रैंकिंग में सबसे आगे हैं, उसके बाद स्विटजरलैंड, कनाडा, स्वीडन, डेनमार्क व आइसलैंड जैसे देश अग्रणी हैं। भारत इस वर्ष इंडेक्स में 69 स्थान पर है।
बीमारियों के विश्लेषण में मिलेगी मदद –
– देश के शहरी-ग्रामीण क्षेत्रों में हेल्थकेअर सुविधाएं सस्ती होंगी।
– इससे दवाओं की खपत एवं मांग पैटर्न का आकलन कर सकेंगे।
– सभी डेमोग्राफिक्स में बीमारियों की मॉनिटरिंग हो सकेगी।
– बीमारियों के विश्लेषण एवं मॉनिटरिंग के लिए डाटाबेस मिलेगा।
– डॉक्टर्स, लैबोरेट्री व केमिस्ट को रोगी का रिकॉर्ड तुरंत मिल जाएगा।

(Visited 278 times, 1 visits today)

Check Also

एक माह की नवजात की सांसें थमी तो ENT डॉक्टर ने बचाई जान

न्यूजवेव @ कोटा  कोटा में महावीर ईएनटी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक माह की नवजात …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!