Monday, 15 August, 2022

पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना घोषित किया जाए

13 जिलों को पेयजल आपूर्ति करने वाला महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट

न्यूजवेव @ जयपुर
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर राज्य की महत्वाकांक्षी पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ERCP) को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने की मांग की है। लगभग 37,247 करोड़ रुपए लागत के इस प्रोजेक्ट से राज्य के 13 जिलों में पेयजल तथा 2.8 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई के लिए पानी की उपलब्धता सुनिश्चित होगी।

गहलोत ने लिखा कि ERCP की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (DPR) नवम्बर 2017 में आवश्यक अनुमोदन के लिए केन्द्रीय जल आयोग को भेजी जा चुकी है। उन्होंने पीएम से आग्रह किया कि इस योजना को जल्द राष्ट्रीय परियोजना घोषित किया जाए। बीते दिनों हुई मंत्रिमंडल की बैठक में इस महत्वाकांक्षी परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा दिए जाने के लिए प्रस्ताव का अनुमोदन भी किया गया है।
केन्द्र सरकार ने पूर्व में 16 विभिन्न राज्यों में पेयजल तथा सिंचाई परियोजनाओं को राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा दिया है, लेकिन राजस्थान की किसी भी जल परियोजना को यह दर्जा प्राप्त नहीं है। प्रदेश के कई जिलों में पेयजल की गंभीर समस्या के चलते इस प्रोजेक्ट को राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा देना और इसकी जल्द क्रियान्विति सुनिश्चित करना आवश्यक है।
उल्लेखनीय है कि ERCP परियोजना से झालावाड़, बारां, कोटा, बूंदी, सवाई माधोपुर, अजमेर, टोंक, जयपुर, दौसा, करौली, अलवर, भरतपुर एवं धौलपुर सहित 13 जिलों मेें वर्ष 2051 तक पीने तथा सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। ERCP की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट के अनुसार, परियोजना से मानसून के दौरान कुन्नू, कुल, पार्वती, कालीसिंध एवं मेज नदियों के सब-बेसिन के अधिशेष जल को बनास, मोरेल, बाणगंगा, गंभीर तथा पार्बती नदियों के सब-बेसिन में पहुंचाया जाना है।

(Visited 1,322 times, 1 visits today)

Check Also

Three days online Certified Trainer’s Program on “POSH”

Newswave@ New Delhi It was the concluding day of 3 days online Certified Trainer’s Program on “POSH: …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: