Wednesday, 2 December, 2020

जेईई-एडवांस्ड में कटऑफ कम रहने की उम्मीद

इम्तिहान: दोनों पेपर में मैथ्स व फिजिक्स में लम्बी गणना होने से केमिस्ट्री से होगी जीत की राह आसान
न्यूजवेव कोटा
आईआईटी की प्रतिष्ठित जेईई-एडवांस्ड,2019 का कम्प्यूटर बेस्ड पेपर सोमवार को दो सत्रों में हुआ। परीक्षा सुबह 9 से 12 एवं दोपहर 2 से 5 बजे तक आयोजित की गई। परीक्षा आईआईटी रुड़की द्वारा आयोजित की गई। इस वर्ष जेईई मेन से 2.45 लाख विद्यार्थियों को जेईई-एडवांस्ड के लिये चयनित किया गया था। जिनमें से 1.73 लाख विद्यार्थियों ने जेईई-एडवांस्ड के लिए पंजीयन करवाया। याद रहे कि रेजोनेंस से इस वर्ष कुल 12,483 वि़द्यार्थी जेईई (एडवांस्ड) के लिए क्वालीफाई हुए जो देश में किसी भी कोचिंग संस्थान में सर्वाधिक हैं।

रेजोनेंस के प्रबंध निदेशक श्री आर.के.वर्मा ने 27 मई को दोनों सत्रों में हुए पेपर के बाद संस्थान के विद्यार्थियों की याददाश्त के आधार पर प्रश्नों का क्रम तैयार कर विश्लेषण किया गया। उन्होंने बताया कि पेपर में केमिस्ट्री आसान रहा, फिजिक्स और मैथ्स में गणना काफी लम्बी रही। जिससे विद्यार्थियों को अधिक समय लगा। इस वर्ष पेपर में यह खास बात रही कि उसमें सब्जेक्टिव प्रश्नों में उत्तर को दशमलव के बाद दो अंकों तक सीमित करने या दो नजदीकी अंकों तक रखना था। संख्यात्मक प्रश्नों के दो उत्तर भी हो सकते है।
प्रश्नों का विश्लेषण करने के बाद निष्कर्ष में कहा गया कि इस वर्ष जेईई-एडवांस्ड के रिजल्ट में कटऑफ कम रह सकता है। साथ ही ऑल इंडिया मेरिट सूची में शीर्ष रैंक का कटऑफ भी कम रहने की उम्मीद है। इस बार एडवांस्ड के पेपर में गत वर्ष की तरह ही एक से अधिक टॉपिक्स को मिलाकर भी कुछ प्रश्न पूछे गए व पेपर का पैटर्न लगभग गत वर्ष जैसा ही रहा। बहुविकल्पी प्रश्नों में आंशिक अंक भी ज्यादा दिये गये।रेजोनेंस विशेषज्ञों द्वारा प्रश्नों का विश्लेषण व उनका हल विद्यार्थी रेजोनेंस की वेबसाइट www.resonance.ac.in पर देख सकते हैं।

(Visited 25 times, 1 visits today)

Check Also

आरटीयू के 10वें दीक्षांत समारोह में 21403 को मिलेगी डिग्रियां

राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय में 31वीं अकादमिक परिषद की वर्चुअल बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय न्यूजवेव @ …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: