Monday, 30 March, 2020

दकनिया रेलवे स्टेशन पर ठहरेंगी फास्ट ट्रेनें

– लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने की कोटा के रेलवे विकास कार्यो की समीक्षा
– सेटेलाईट स्टेशन की तरह विकसित होगा दकनिया रेलवे स्टेशन
– ग्वालियर-श्योपुर कलाॅ रेल लाईन के लिए 100 करोड एवं कोटा बीना रेल लाईन के डबलीकरण के लिए 300 करोड मंजूर
न्यूजवेव @ कोटा
दकनिया रेलवे स्टेशन पर फास्ट ट्रेनों के ठहराव की राह खुल गई है। रेल मंत्रालय ने डकनिया स्टेशन पर लूप लाइन बिछाने तथा अन्य कार्यों के लिए 24 करोड़ रूपए जारी किए हैं। इस कार्य के पूर्ण होने के बाद नए कोटा के वाशिंदों और हजारों कोचिंग विद्यार्थियों को घर के पास से ही ट्रेन की सुविधा मिलने लगेगी। बिरला ने बताया कि डकनिया रेलवे स्टेशन के विकसित होने के बाद यहाॅ पर फास्ट यात्री गाडियों का संचालन व गाडियों का ठहराव हो सकेगा। जिससे नये कोटा शहर के लोगो और देशभर से आने वाले कोचिंग विधार्थियों एवं उनके परिजनों को सुविधाऐं मिलेगी वहीं शहर में यातायात के दबाव में भी कमी आऐगी। बिरला ने कहा कि कोटा मण्डल में रेल सुविधाओं के विस्तार से न सिर्फ यहां के नागरिकों को लाभ होगा बल्कि क्षेत्र में व्यापारिक व वाणिज्यिक गतिविधियों को भी बल मिलेगा।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने दिसम्बर माह में रेल मंत्री पीयूष गोयल तथा रेलवे बोर्ड और कोटा मंडल अधिकारियों की बैठक में कोटा-बूंदी संसदीय क्षेत्र में रेल सुविधाओं के विस्तार के संबंध में विभिन्न विषयों पर चर्चा की थी। इसके सकारात्मक नतीजे अब सामने आने लगे हैं। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव के साथ बैठक कर बजट में कोटा बूंदी संसदीय क्षेत्र में रेलवे सबंधी कार्यो से जुडी जानकारी ली। लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने बताया कि रेल मंत्रालय ने दकनिया स्टेशन को सैटेलाइट स्टेशन के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया है। इसमें दकनिया स्टेशन पर दो लूप लाइन बिछाई जाएंगी एवं हाइलेबल प्लेटफार्म बनाने के साथ ही बजट होटल भी बनाया जाएगा।इसके लिए जगह चिन्हिकरण किया जा रहा है।

कोटा स्टेशन पर होंगे 25 करोड़ के कार्य
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बताया कि रेल मंत्रालय ने कोटा स्टेशन के लिए भी 10 करोड़ रूपए स्वीकृत किए हैं। इससे पूर्व कोटा स्टेशन के लिए 15.5 करोड़ रूपए स्वीकृत किए गए थे। ऐसे में कुल 25.5 करोड़ रूपए की लागत से कोटा स्टेशन का बाहरी स्वरूप निखारने, सर्कुलेटिंग एरिया में सुधार, वेटिंग हाॅल, बुकिंग एरिया, दिव्यांग सुविधाओं को बेहतर बनाने, प्लेटफाॅर्म का स्तर ऊंचा उठाने, कोच गाइडेंस सिस्टम में सुधार आदि के कार्य होंगे। इसके अलावा आरएलडीए के माध्यम से कोटा रेलवे स्टेशन के निकट बजट होटल का निर्माण भी होगा।

कोटा-ग्वालियर के बीच नई लाइन
बिरला ने बताया कि रेल मंत्रालय ने श्योपरकलां के रास्ते कोटा-ग्वालियर के बीच नई रेल लाइन बिछाने के लिए भी 100 करोड़ रूपए जारी किए हैं। इस परियोजना के तहत ग्वालियर से श्योपर कलां के बीच गाॅज परिवर्तन किया जाएगा जबकि कोटा से श्योपरकलां के बीच नई रेल लाइन बिछाई जाएगी। इस रेल लाइन के पूरा होने के बाद कोटा से ग्वालियर की दूरी काफी कम हो जाएगी जिसका लाभ रेल यात्रियों को मिलेगा। वर्तमान में कोटा से ग्वालियर जाने के लिए अशोक नगर बीना आदि स्टेशनो से होते हुऐ 12 धण्टे का समय लगता है लेकिन ग्वालियर-श्योपुर कलाॅ लाईन कार्य पूर्ण होने के बाद कोटा से ग्वालियर का सीधी ट्रेन मिलेगी वही दूसरे स्टेषनो के लिऐ लिंक ट्रेनों का विस्तार होगा इससे कोटा से नई ट्रेनों के संचालन व विस्तार की संभावना बढेगी।

कोटा-बीना दोहरीकरण के लिए 300 करोड़

बिरला ने बताया के कोटा-बीना रेलपथ दोहरीकरण परियोजना को गति देने के लिए भी 300 करोड़ रूपए जारी किए गए हैं। इस रेलखण्ड के कुछ हिस्से में दोहरीकरण का कार्य पूरा किया जा चुका है। शेष बचे कार्य को भी जल्द से जल्द पूरा करने के प्रयास किए जा रहे हैं। रेलपथ दोहरीकरण के बाद न सिर्फ गाड़ियों की गति में सुधार होगा बल्कि इस रेल मार्ग पर कुछ नई रेलगाड़ियां भी प्रारंभ की जा सकेंगी।

कोटा को मिलेगीे मेमो ट्रेन
लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने बताया कि बजट में कोटा को एक मेमो ट्रेन भी दी गई है।

(Visited 299 times, 1 visits today)

Check Also

MHRD की ऑनलाइन डिजिटल एजुकेशन में तीन गुना वृद्धि

लॉकडाउन के दौरान लाखों विद्यार्थी ऑनलाइन एजुकेशन प्रोग्राम पर कर रहे हैं एक्सेस न्यूजवेव@ नईदिल्ली …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: