Monday, 6 July, 2020

भारत ग्लोबल पार्टनरशिप ऑन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में संस्थापक सदस्य बना

न्यूजवेव @ नईदिल्ली
भारत 15 जून से ग्लोबल पार्टनरशिप ऑन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (GPAI) को लॉन्च करने के लिए अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, मैक्सिको, न्यूजीलैंड, कोरिया गणराज्य, सिंगापुर सहित प्रमुख इकोनॉमी ताकतों की लीग में शामिल हो गया है।
GPAI एक इंटरनेशनल पहल है, जो AI का जिम्मेदारी से निर्वहन और मानवाधिकारों, समावेश, डायवर्सिटी, स्टार्टअप और आर्थिक विकास में उपयोग करने पर आधारित है। यह प्रतिभागी देशों के अनुभव और विविधता का उपयोग करते हुये एआई से जुड़ी चुनौतियों को नये अवसरों में बदलने का पहला प्रयास भी है। इस पहल के तहत एआई से संबंधित प्राथमिकताओं पर नये रिसर्च और गतिविधियों की सहायता करते हुए एआई से जुडे़ थ्योरी व प्रेक्टिकल पहलू के बीच खाई पाटने की कोशिश की जाएगी।
GPAI, एआई के जिम्मेदारी से विकास को बढ़ावा देने के लिए साझेदारों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के सहयोग से उद्योग, नागरिक, समाज, सरकारों और शिक्षाविदों के प्रमुख विशेषज्ञों को एक साथ लाएगा और ऐसी कार्यप्रणाली विकसित की जायेगी कोविड-19 के मौजूदा वैश्विक संकट से बेहतर ढंग से निबटने के लिए उच्च तकनीक का लाभ उठाया जा सकता है।

AI स्ट्रेटेजी और नेशनल AI पोर्टल लॉन्च
भारत ने हाल ही में नेशनल AI स्ट्रेटेजी और नेशनल AI पोर्टल लॉन्च किया है और साथ ही एजुकेशन, एग्रीकल्चर, हैल्थकेअर, ई-कॉमर्स, फायनेंस व दूरसंचार आदि जैसे विभिन्न क्षेत्रों में एआई का लाभ उठाना शुरू कर दिया है। GPAI में संस्थापक सदस्य के रूप में शामिल होने से भारत ओवरऑल डेवलपमेंट के लिये डिजिटल टेक्नोलॉजी के उपयोग का लाभ उठाते हुए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के वैश्विक विकास में सक्रियता निभायेगा। GPAI को पेरिस स्थित ऑर्गेनाइजेशन फॉर इकॉनोमिक कोऑपरेशन एंड डेवलेपमेंट (OECD) सचिवालय तथा मॉन्ट्रियल और पेरिस में एक-एक विशेषज्ञता केंद्र के माध्यम से सहायता की जाएगी।

(Visited 50 times, 1 visits today)

Check Also

कोरोना वायरस के उपचार में संभावित विकल्प हैं चाय और हरड़

IIT दिल्ली के शोधकर्ताओं ने चाय और हरितकी में ऐसे तत्व का पता लगाया है …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: