Saturday, 13 April, 2024

कोटा के हॉस्टल में लगी आग, 28 विद्यार्थी सुरक्षित निकले

  • शिक्षा नगरी में 4000 से अधिक हॉस्टल व 3000 पीजी रूम में 1 लाख कोचिंग विद्यार्थी रहते हैं
  • हॉस्टल्स में अग्निशमन सुरक्षा को लेकर उठ रहे हैं सवाल। 

न्यूजवेव कोटा

सूरत में एक कोचिंग संस्थान में आगजनी की घटना से 20 विद्यार्थियों की दर्दनाक मौत के बाद शिक्षा नगरी कोटा में सोमवार रात 10 बजे अचानक एक ब्वायज हॉस्टल में आग लग जाने से कोचिंग विद्यार्थियों में सुरक्षा को लेकर दशहत फैल गई।
शहर में तलवंडी क्षेत्र में राधाकृष्ण मंदिर के पास एक मकान पर बने तीन मंजिला हॉस्टल में लगभग 28 कोचिंग विद्यार्थी रहते हैं। देर रात अचानक भीषण आग की लपटों व धुएं से विद्यार्थियों में दम घुटने से भगदड़ मच गई। चीखों की पुकार सुनकर क्षेत्र के नागरिक दौड़ पडे़। विद्यार्थी आग की लपटें तेज हो जाने से कुछ विद्यार्थी हॉस्टल में ही फंस गए। दमकलें पहुंचने के बाद आग पर काबू पाने में काफी समय लगा, जब तक विद्यार्थियों का धुएं में दम घुटता रहा।

रस्सी के सहारे नीचे उतारा 

डीएसपी संजय शर्मा ने मौके पर पहुंचकर विद्यार्थियों को सुरक्षित बाहर निकालने में मदद की। अचानक हुए हादसे की सूचना मिलते ही जिला कलक्टर मुक्तानंद अग्रवाल व एसपी दीपक भार्गव भी मौके पर पहुंचे। पफायर ब्रिगेड के पास रस्सियां नहीं होने से छात्रों को नीचे उतारने में वक्त लगा। एक-एक विद्यार्थी को रस्सी के सहारे नीचे उतारा गया।
हॉस्टल संचालक हिम्मत सिंह हाड़ा ने बताया कि वे खुद हॉस्टल के नीचे मकान में रहते हैं। हॉस्टल के पास ट्रांसफार्मर होने से शार्ट सर्किंट होने का भय बना रहता था, शिकायत करने के बाद भी केईडीएल कंपनी द्वारा इसे नहीं हटाया गया। आगजनी के समय ट्रांसफार्मर से चिंगारी निकली जिससे केबल के जरिये आग उनके हॉस्टल तक पहुंची। जबकि केईडीएल अधिकारियों का कहना है कि आग हॉस्टल में अंदर से शार्ट सर्किंट या किसी फाल्ट के कारण लगी है। एसपी दीपक भार्गव ने कहा कि घटना की उच्चस्तरीय जांच की जाएगी एवं दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

नगर निगम द्वारा एनओसी देने पर सवाल
शिक्षा नगरी के कोचिंग क्षेत्रों में तेजी से हॉस्टल्स के निर्माण हो रहे हैं। निर्माण से पहले नगर निगम द्वारा अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी किये जाते हैं। लेकिन पिछले 5 वर्षों में जितने भी हॉस्टल के निर्माण किये गये हैं उनमें से 50 प्रतिशत में सेटबेक की कमी, सुरक्षा मापदंडों की अनदेखी जैसे मामले सामने आए हैं। जबकि संबंधित निगम अधिकारियों की मिलीभगत से हॉस्टल संचालकों को भौतिक सत्यापन किये बगैर एनओसी जारी कर दी जाती है। एक-एक ईंट पर बहुमंजिला हॉस्टलों का निर्माण होने से भूकम्प के हल्के झटके से ये धराशाही हो सकते हैं। इसी तरह, प्रत्येक हॉस्टल में एसी व अन्य उपकरणों के कारण बिजली की खपत निर्धारित क्षमता से अधिक रहती है, जिससे लाइनों में शार्ट सर्किंट होने का अंदेशा बना रहता है।

(Visited 192 times, 1 visits today)

Check Also

गांवों में 24 घंटे थ्री फेज बिजली हवाई सपना बनी- गुंजल

न्यूजवेव@ कोटा कोटा-बूंदी लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार प्रहलाद गुंजल ने गुरुवार को सांगोद विधानसभा …

error: Content is protected !!