Monday, 22 April, 2024

स्वाद के लिये सेहत से समझौता मत करो – राधाकृष्ण महाराज

नानी बाई रो मायरो कथा का समापन, भवानीमंडी वेलफेयर ट्रस्ट ने टॉपर्स को किया सम्मानित
न्यूजवेवभवानीमंडी
गौवत्स संत राधाकृष्ण महाराज ने कहा कि युवा स्वाद के लिये अपनी सेहत को दांव पर लगा रहे हैं। फास्टफूड में केवल स्वाद है, पौष्टिकता नहीं। इसलिए पारंपरिक व्यंजनों का सेवन करे। उन्होने मस्तक पर तिलक लगाने का वैज्ञानिक महत्व बताते हुये कहा कि मस्तक पर जहां तिलक लगाते हैं, वहां भगवान विष्णु स्वयं निवास करते हैं।


मानधना परिवार के पूर्वजों की स्मृति में नवनिर्मित भवन परम्परा के लोकार्पण पर तीन दिवसीय ‘नानी बाई रो मायरो’ कथा का समापन 14 फरवरी को हुआ। राधेश्याम बगीची स्थित गोकुल धाम में कथा के अंतिम दिन भगवान श्रीकृष्ण नानी बाई के भाई बनकर आए और ठाठ से मायरा भरने की रस्म अदा की तो श्रद्धालुओं के नेत्र सजल हो उठे। इस दौरान ‘सांवरियो है सेठ म्हारो, राधा रानी सेठानी है’ सरीखे मारवाड़ी शैली के मधुर भजनों पर श्रद्धालु झूम उठे।

भवानीमंडी वेलफेयर ट्रस्ट गठित

इस पावन अवसर पर मानधना परिवार के गोविन्द माहेश्वरी ने भवानीमंडी वेलफेयर ट्रस्ट की घोषणा की। उन्होंने बताया कि ट्रस्ट द्वारा शिक्षा एवं मेडिकल के क्षेत्र में आर्थिक मदद, बुर्जुगों की मदद एवं भवानीमंडी में खेल सुविधाओं को बढ़ावा देने जैसे प्रयास किए जाएंगे। समारोह में भवानीमंडी के 9 प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को प्रमाणपत्र एवं नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया। विभिन्न समाजों के प्रतिनधियों ने महाराज का अभिनंदन किया।
समारोह में मानधना परिवार के ईश्वरलाल माहेश्वरी, कृष्णकुमार, चंद्रप्रकाश, रामेश्वर प्रसाद, बालकृष्ण, गोविन्द माहेश्वरी, राजेश माहेश्वरी, नवीन माहेश्वरी, ललित माहेश्वरी, अशोक लोढा, यशवंत, प्रमोद नागौरी, प्रसन्न लोढ़ा, पारस गोटावाला, राजस्थान टेक्सटाइल मिल के प्रमुख सुरेश जी खंडेलिया एवं भवानीमण्डी वेलफेयर ट्रस्ट के सचिव डॉ. मोहन मंत्री सहित गणमान्य नागरिक मौजूद रहे।

(Visited 522 times, 1 visits today)

Check Also

राजस्थानी मसाले औषधि गुणों से भरपूर, एक्सपोर्ट बढाने का अवसर – नागर

RAS रीजनल बिजनेस मीट-2024 : मसाला उद्योग से जुड़े कारोबारियो ने किया मंथन, सरकार को …

error: Content is protected !!