Monday, 30 March, 2020

देशवासियों ने 5 मिनट ताली व थाली बजाकर डॉक्टर्स, नर्स, सेना,पुलिस व बिजलीकर्मियों की सेवाओं का सम्मान किया

कोटा संभाग में स्वैच्छिक ‘जनता कर्फ्यू’ से छाया रहा सन्नाटा, कोरोना वायरस को हराने के लिये नागरिकों ने दिखाया संयम व संकल्प  
न्यूजवेव@ कोटा
प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर रविवार सुबह से शाम तक स्वैच्छिक ‘जनता कर्फ्यू’ का एतिहासिक असर देखने को मिला। हाडौती अंचल में शिक्षा नगरी कोटा सहित बारां, बूंदी व झालावाड़ जिले में रविवार सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक हर शहर, कस्बे व गांव में सड़कों व मौहल्लों में सन्नाटा छाया रहा।

संभाग की लगभग 50 लाख से अधिक आबादी ने जनता कर्फ्यू का पूरी तरह समर्थन किया। शाम 5 बजते ही अधिकांश घरों में लोगों ने बालकनी व छतों पर आकर तालियों व थाली की गूंज से अनिवार्य सेवाओं में जुटे डॉक्टरो, नर्सिंग स्टाफ, सेना, पुलिस व बिजलीकर्मियों की सेवाओं का आभार जताया। रविवार को देश के करोडों लोगों ने संयम और संकल्प से महामारी को हराने के लिये एकजुटता दिखाई।

एक्सप्रेस ट्रेनें रद्द, कोचिंग विद्यार्थी चिंतित

एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के निदेशक नवीन माहेश्वरी ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के लिये जनता कर्फ्यू के दौरान कोचिंग विद्यार्थियों को भोजन की असुविधा न हो, इसके लिये एलन स्टूडेंट वेलफेयर सोसायटी व हॉस्टल एसोसिएशन ने मिलकर हॉस्टलों में रोजाना टिफिन पहुंचाने की जिम्मेदारी ली है।  1.50 लाख कोचिंग विद्यार्थियों में से 75 प्रतिशत विद्यार्थी सिलेबस पूरा होने के बाद जनवरी-फरवरी माह में अपने घरों के लिये रवाना हो गये थे लेकिन शेष 25 प्रतिशत विद्यार्थी 12वीं बोर्ड परीक्षा एवं जेईई-मेन की तैयारी के लिये कोटा के रिहायशी हॉस्टलों में रूके हुये हैं। उनकी निगरानी व देखभाल के लिये कई कदम उठाये जा रहे हैं। कोटा कलक्टर ओम कसेरा ने शनिवार को शहर के सभी हॉस्टल संचालकों को निर्देश दिये कि वे बाहर के विद्यार्थियों पर हॉस्टल खाली करने का दबाव नहीं बनायें अन्यथा उनके विरूद्व कार्रवाई की जाएगी।
बिहार, उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा व झारखंड के कोचिंग विद्यार्थियों ने बताया कि कोटा से सभी एक्सप्रेस ट्रेनें रद्द हो जाने से वे घरों की ओर रवाना नहीं हो सके। परिजनों में बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर बहुत चिंता है। हालांकि कोटा में सभी कोचिंग संस्थान व हॉस्टल संचालक उनकी पूरी देखभाल व सहायता कर रहे हैं।

आरटीयू में 22 से 31 मार्च तक अवकाश 

राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आर.ए.गुप्ता ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव पर जिला प्रशासन द्वारा जारी एडवाइजरी एवं राज्य सरकार के निर्देश पर आरटीयू से जुडे़ राज्य के सभी इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट कॉलेजों में 22 से 31 मार्च तक अवकाश घोषित कर दिया गया है। कोटा व्यापार महासंघ के अध्यक्ष क्रांति जैन व महासचिव अशोक माहेश्वरी ने बताया कि आगामी 25 मार्च तक कोटा शहर के सभी मार्केट में दूध, मेडिकल व किराना आदि आवश्यक सेवाओं को छोडकर अन्य दुकानें बंद रहेंगी। कोटा भामाशाह कृषि उपज मंडी में भी रविवार को कारोबाद पूरी तरह बंद रहा। सरकारी दफ्तरों में भी 31 मार्च तक अवकाश घोषित होने से अधिकांश कार्यालयों, कॉलेज व स्कूलों में भी ताले लगे रहे।

(Visited 94 times, 1 visits today)

Check Also

बीटीयू द्वारा बीटेक प्रथम सेमेस्टर का रिजल्ट घोषित

बीटेक के रिजल्ट में इस वर्ष रिलेटिव मार्किंग के स्थान पर वास्तविक अंक दिये गये …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: