Monday, 22 April, 2024

35 गरीब विद्यार्थियों को कोटा में मिलेगी निःशुल्क कोचिंग

– समराथल फाउंडेशन व एलन की साझा पहल से 25 विद्यार्थी मेडिकल व 10 इंजीनियरिंग की निःशुल्क कोचिंग लेगे।
– फाउंडेशन में 40 एलुमिनी डॉक्टर्स ने यह अनूठी मुहिम शुरू की।

न्यूजवेव @ कोटा

गावों के गरीब व जरूरतमंद परिवारों के होनहार बच्चों को कॅरिअर में आगे बढाने के लिए राज्य के एनजीओ समराथल फाउंडेशन ने अनूठी पहल की है। फाउंडेशन ने राज्य के 7 जिलों सेे चयनित 35 विद्यार्थियों को भविष्य में डॉक्टर व इंजीनियर बनाने के लिए निःशुल्क कोचिंग दिलवाने की बीडा उठाया।

फाउंडेशन के पदाधिकारी डॉ.धर्मपाल व ओमप्रकाश एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के निदेशक नवीन माहेश्वरी व बृजेश माहेश्वरी से मिले। संस्थान ने उनकी पहल का स्वागत करते हुए कोचिंग फीस में 50 प्रतिशत छूट देने की घोषणा की। फाउंडेशन द्वारा कोटा में इन बच्चों के लिए आवास एवं भोजन की निःशुल्क व्यवस्था करने की जिम्मेदारी भी ली है।

उन्होंने बताया कि इस सत्र में जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर, जालौर, सिरोही, पाली व नागौर के चयनित 35 विद्यार्थियों को एलन में इंजीनियरिंग व मेडिकल प्रवेश परीक्षा की कोचिंग के लिए प्रवेश दिलाया है। इसमें 25 छात्र 10वीं पास, 9 बारहवीं पास तथा एक छात्र 12वीं में अध्ययनरत है। इनमें से 25 विद्यार्थी मेडिकल एवं 10 इंजीनियरिंग के लिए कोचिंग लेंगे।

बच्चों में कक्षा-12वीं के कमल सारण के पिता दुनिया में नहीं रहे, मां आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के रूप में परिवार चला रही है। होनहार छात्रा सुषमा व वसुंधरा के माता-पिता अनपढ़ व गरीब हैंं। जयप्रकाश के पिता दुर्घटना में दोनों पैर गंवा चुक हैंे, आय नहीं होने से परिवार चलाना मुश्किल हो रहा है।

बौद्धिक क्षमता व परिवार की आय से परखा
फाउंडेशन के सदस्यों नेे बताया कि ग्रामीण विद्यार्थियों का चयन उनकी बौद्धिक क्षमता एवं परिवार की स्थिति के आधार पर किया गया है। दोनों परिस्थितियों को अंको में विभाजित कर बच्चों के इंटरव्यू लिए गए। शैक्षणिक प्रमाण पत्रों की जांच कर उनका चयन निःशुल्क कोचिंग के लिए किया है। खास बात यह कि इनमें 14 विद्यार्थी बीपीएल परिवार से हैं, 6 बच्चों के पिता नहीं हैं, 3 विद्यार्थियों के परिजन विकलांग हैं, 5 लड़कियां हैं। सभी विद्यार्थी ग्रामीण परिवेश से राजस्थान बोर्ड के स्कूलों में पढकर निकले हैं। इस योजना में आवेदन करने के लिए मोबाइल एप बनाया। फिर गांवांे के स्कूलों में सेमिनार की। शिक्षकों को मोबाइल एप के जरिए आवेदन करने की जानकारी दी। विद्यार्थियों के आवेदन के आधार पर प्रारंभिक चयन किया गया।

लीक से हटकर है समराथल फाउंडेशन
पश्चिमी राजस्थान में ग्रामीण व निर्धन परिवार की प्रतिभाओं को आगे लाने के लिए विश्नोई समाज के समाजबंधुओं द्वारा अगस्त 2017 में समराथल फाउंडेशन शुरू किया गया। इसमें डॉक्टर्स, प्रशासनिक अधिकारी, इंजीनियर्स, पत्रकार, लेक्चरर व अन्य समाजसेवी शामिल हैं। फाउंडेशन में 125 से अधिक सदस्य हैं, जिसमें 40 डॉक्टर्स हैं जो एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के एलुमनी हैं। एलन ने चयनित विद्यार्थियों को फीस में 50 प्रतिशत छूट देने की घोषणा की।

ग्रामीण प्रतिभाओं को तराशना हमारा कर्तव्य
ग्रामीण प्रतिभाओं को उच्च शिक्षा के लिए तराशना हमारा कर्तव्य है। हमें गर्व है कि समराथल फाउंडेशन ने अपने संस्थान पर विश्वास जताया। जरूरतमंद बच्चों को बेहतर शिक्षा के अवसर देना अनुकरणीय है। संस्थान इन विद्यार्थियों के सपने साकार करने में हर संभव सहयोग करेगा।
– बृजेश माहेश्वरी, निदेशक, एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट

(Visited 654 times, 1 visits today)

Check Also

नारायणा ई-टेक्नो स्कूल में किया 30 यूनिट रक्तदान

थैलेसिमिया बच्चों के लिये स्कूल शिक्षकों ने पहली बार दिया रक्त न्यूजवेव@कोटा श्रीनाथपुरम-ए स्थित नारायणा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!