Monday, 27 June, 2022

कोटा विश्वविद्यालय में दो गुना गोल्ड मेडल बेटियों के नाम

सप्तम् दीक्षान्त समारोह में कुल 61,978 डिग्रियों को वितरित करने की घोषणा

न्यूजवेव @कोटा
कोटा विश्वविद्यालय का सप्तम् ऑनलाइन दीक्षान्त समारोह 23 जनवरी को कृषि विश्वविद्यालय, कोटा स्थित सभागार में हुआ। समारोह की अध्यक्षता कुलाधिपति एवं राज्यपाल कलराज मिश्र ने की तथा मुख्य अतिथि तेजपुर विश्वविद्यालय, असम के कुलपति प्रो.वी.के. जैन रहे। दीक्षान्त समारोह में वर्ष 2018 की पीजी एवं यूजी परीक्षाओं में विभिन्न संकायों व विषयों में मेरिट में स्थान प्राप्त करने वाले 53 विद्यार्थियों को स्वर्णपदक एवं वर्ष 2018 मे कुल 59 पीएच.डी. धारकों को डॉक्टरेट की उपाधि प्रदान की गयी।

तीन सर्वोच्च पदक भी बेटियों के नाम


गत 6 वर्षो में वाणिज्य संकाय में अधिकतम अंक अर्जित करने वाली पीजी विद्यार्थी चंचल ज®शी व दिव्या सेतिया को कुलाधिपति पदक एवं शिक्षा संकाय में अधिकतम अंक अर्जित करने वाली यूजी विद्यार्थी कामिनी गुप्ता को कुलपति पदक दिये गये।

पीएचडी में भी बेटियां आगे


कोटा यूनिवर्सिटी में 6 संकायों की उपाधियों में सर्वाधिक 37 गोल्ड मेडल पर छात्राओं ने कब्जा किया जबकि 16 गोल्ड मेडल छात्रों को दिये गये। इतना ही नहीं, पीएचडी में भी छात्राओं ने लगभग दोगुना सफलता अर्जित की। कुल 39 छात्राओं को पीएचडी में गोल्ड मेडल दिये गये जबकि छात्रों की संख्या 20 रही।  दीक्षांत समारोह में यूजी एवं पीजी कोर्सेस की कुल 61,978 उपाधियों का वितरण संबंधित कॉलेजों के माध्यम से किया जायेगा। इनमें सर्वाधिक 35,806 डिग्रियां कला संकाय में तथा सबसे कम 204 डिग्री विधि संकाय में रही।
कुलाधिपति कलराज मिश्र ने कहा कि मुझे बहुत खुषी है कि विश्वविद्यालय के दीक्षान्त समारोह में बेटियां उपाधियां और पदक प्राप्त करने में आगे हैं। लडकियां हर क्षेत्र में आगे निकल रही हैं। अवसर मिलने पर वे बेहतर से बेहतर करके दिखाती हैं।
मुझे विष्वास है कि कोटा विश्वविद्यालय नई राष्ट्रीय षिक्षा नीति के अनुरूप हाड़ौती क्षैत्र में रोजगारोन्मुखी नवीन कोर्सेस प्रारम्भ करने के साथ ही विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए कार्य करेगा।  तेजपुर विश्वविधालय, आसाम के कुलपति प्रो. वी.के. जैन ने कहा कि कोटा विश्वविद्यालय के शिक्षक का अकादमिक-स्तर बहुत अच्छा हैं। आज सम्पूर्ण विष्व की निगाहें हमारे राष्ट्र की गतिविधियों की ओर हैं। हमने अपनी दक्षता से विभिन्न क्षेत्रों मे कीर्तिमान स्थापित कर पूरे विष्व को आष्चर्यचकित किया है।

इस वर्ष नये वोकेशनल कोर्सेस खोलने की योजना
कुलपति, प्रो नीलिमा सिंह ने कहा कि राजस्थान सरकार के स्तर पर प्रस्तावित ‘‘आनन्दम्‘‘ पाठ्यक्रम को भी इसी सत्र से विश्वविद्यालय और इसके सम्बद्ध महाविद्यालयों में एक अनिवार्य विषय के रूप में शुरु किया गया है। नई शिक्षा नीति के तहत हर विश्वविद्यालय को ळम्त् बढ़ाना है। विश्वविद्यालय में इस वर्ष से कई वोकेषनल कोर्सेस खोलने की योजना है। विदेषी स्टूडेंट्स को प्रवेष देना भी प्रस्तावित है। रिसर्च के क्षेत्र में विश्वविद्यालय द्वारा विभिन्न विषयों में विद्या-वाचस्पति की उपाधि भी प्रदान की जा रही है जिनकी संख्या में वर्ष दर वर्ष वृद्धि ह®ती जा रही है। इस वर्ष विभिन्न विषयों के 26 नये गाइड रजिस्टर हुये हैं इससे रिसर्च को बढ़ावा मिलेगा। सत्र 2019-20 में लगभग 55 राष्ट्रीय/अन्तर्राष्ट्रीय शोध-पत्र एवं पुस्तकें विभिन्न विभागों के शिक्षकों द्वारा प्रकाशित किये गये। विश्वविद्यालय अपने सीमित साधनों के बावजूद अथक प्रयास®ं से इसी प्रकार प्रगति के स®पान पर उत्तर®त्तर आगे बढ़ता रहेगा। कुलसचिव, डॉ. आर.के. उपाध्याय ने धन्यवाद जताया।

(Visited 233 times, 1 visits today)

Check Also

कर्नाटक 12वीं बोर्ड रिजल्ट घोषित, टॉप-10 रैंक पर रेजोनेंस-बेस के विद्यार्थियों का कब्जा

कर्नाटक 12वीं बोर्ड (PUC 2) परीक्षा 2022 में रेजोनेंस – बेस के विद्यार्थियों का टॉप …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: