Saturday, 15 May, 2021

साइंस-मैथ्स के अलावा दुनिया में बहुत कुछ है-अंजली बिरला

UPSC चयनित अंजली बिरला ने कहा- अपने दिल और दिमाग की अवश्य सुनें क्योंकि सिर्फ कोटा में ही साइंस-मैथ्स को तवज्जो

न्यूजवेव @ कोटा

यूपीएससी में पहले ही प्रयास में सफल होने वाली कोटा की अंजली बिरला ने बुधवार को नान्ता स्थित बीएसएन सीनियर सैकेंडरी स्कूल के  स्टूडेंट्स से भेंट की। इस दौरान करियर बनाने का मंत्र बताते हुए अंजली ने कहा कि कोटा में सिर्फ साइंस और मैथ्स को तवज्जो दी जाती है जबकि दुनिया में साइंस-मैथ्स के अलावा भी बहुत कुछ है। इसलिए विषय का चयन करते समय अपने दिल और दिमाग की अवश्य सुने।

कोटा के बाहर आर्ट्स या काॅमर्स का महत्व ज्यादा

प्रेरक संवाद के दौरान अंजली ने कहा कि अक्सर आर्ट्स या काॅमर्स लेने वाले विद्यार्थियों के लिए कहा जाता है कि नम्बर कम आए इसलिए यह विषय मिले। वहीं 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक होने पर भी आर्ट्स लेने पर उन्हें टोका गया कि साइंस या मैथ्य क्यों नहीं ली। यह धारणा बिल्कुल गलत और अवैज्ञानिक है। हर विषय का अपना महत्व और खूबसूरती है। कोटा के बाहर जाएंगे तो पता चलेगा कि अन्य विषयों और उनके विद्यार्थियों को भी पूरा सम्मान दिया जाता है। यहां तक कि इंजीनियर और डाॅक्टर भी UPSC परीक्षा में भाग लेने के लिए आर्ट्स के ही विषय लेते हैं।

नॉलेज के साथ अपना इंट्रेस्ट भी देंखें

उन्होंने विद्यार्थियों को ज्ञान के साथ अभिरूचि पर भी ध्यान और समय देने का सुझाव दिया। अंजली ने कहा कि अभिरूचि व्यक्ति में सृजन क्षमता और सोच को बढ़ावा देती है। UPSC या अन्य परीक्षाओं के इंटरव्यू में भी अक्सर अभ्यर्थियों से उनकी हॉबी के बारे में पूछा जाता है। इससे इंटरव्यू बोर्ड आपके व्यक्तित्व का पता लगाने का प्रयास करते हैं।

अंजली ने विद्यार्थियो को दृढ़ तथा आत्मविश्वासी बने रहने की भी सलाह दी। उन्होंने कहा कि कई बार परिस्थितियां हमें ऐसे मोड पर ले आती हैं, जहां हम कमजोर पड़ने लगते हैं। ऐसे समय पर लिया गया सही फैसला हमारे जीवन को निर्णायक दिशा पर ले जाता है। यह फैसले दृढ़ता और आत्मविश्वास के बल पर ही लिए जा सकते हैं।  इससे पूर्व बीएसएन ग्रुप के अध्यक्ष महावीर विजय, निदेशक नकुल विजय, राउंड टेबल क्लब के अध्यक्ष अभिनंदन सेठी ने अंजली बिरला का सम्मान किया।

(Visited 68 times, 1 visits today)

Check Also

राज्य की इंजीनियरिंग शिक्षा में क्वालिटी इम्प्रूवमेंट की कार्ययोजना नही

राज्य के 11 कॉलेजों में 250 असिस्टेंट प्रोफेसर्स की नियुक्तियां अधर में अटकी न्यूजवेव@ कोटा …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: