Monday, 18 October, 2021

कोयला संकट से राजस्थान में 3400 MW बिजली उत्पादन ठप

न्यूजवेव @ जयपुर
राज्य में इस महीने मानसून वर्षा की कम होने एवं अधिक तापमान के कारण औसत बिजली की माँग  में  800 लाख यूनिट की बढ़ोतरी हो गई है। अगस्त में औसत 2000 लाख यूनिट प्रतिदिन बिजली की माँग होती है जोकि इस वर्ष बढ़कर 3100 लाख यूनिट तक पहुँच गयी है। 19 अगस्त को प्रदेश में अधिकतम माँग 14,690 मेगावॉट दर्ज हुई, जो प्रदेश के इतिहास में किसी भी वर्ष में सर्वाधिक है।
प्रतिवर्ष बरसात के मौसम में थर्मल स्टेशनों का वार्षिक शटडाउन लिया जाता है। क्योंकि बरसात में विद्युत माँग एवं कोयला आपूर्ति कम होती है। इस समय, पूरे देश में लगभग 74,800 MW क्षमता के थर्मल एवं गैस प्लांट बंद चल रहे हैं जो कि कुल क्षमता 2.30 लाख  MW का 33 प्रतिशत है।
राजस्थान में कोयले की कमी के कारण सूरतगढ़ की 6 इकाइयां ( प्रत्येक 250 MW) 25-26 अगस्त से एवं कालीसिंध इकाई 2  (600 MW) 11 अगस्त से व कालीसिंध इकाई 1 (600 MW) 15 अगस्त से तथा कवाई स्थिति अडानी के थर्मल प्लांट की एक इकाई (600 MW) 24 अगस्त से बन्द है। इस तरह कुल 3400 मेगावॉट बिजली उत्पादन नहीं हो पा रहा हैं। इसके साथ ही कोटा की 6 इकाइयां भी अपनी पूर्ण क्षमता के विरूद्ध 70 प्रतिशत क्षमता पर ही कार्य कर पा रही है।
उत्पादन निगम की 3240 मेगावॉट की इकाईयों हेतु कोयले की आपूर्ति कोल इंडिया (NCL एवं SECL) द्वारा होती है। इस हेतु SECL से 170 लाख मीट्रिक टन वार्षिक कोयले की आपूर्ति हेतु अनुबंध है जो कि लगभग 11.5 रैक प्रतिदिन बनती है। जबकि वर्तमान में केवल 3 रैक प्रतिदिन की आपूर्ति हो रही है।

बिजली की माँग बढ गई


पूरे देश में विद्युत उत्पादन की कमी एवं उत्तर भारत में कम वर्षा होने से विद्युत माँग बढ गई है। जिससे विद्युत एक्सचेंज में बिजली की दरों में अत्यधिक वृद्धि हो गयी हैं। सामान्य दिनों में विद्युत एक्सचेंज में बिजली की अधिकतम दर 6-7 रूपये प्रति यूनिट रहती है, जो कि वर्तमान में बढ़कर 20 रूपये प्रति यूनिट तक पहुँच गयी हैं एवं एक्सचेंज से खरीद की औसत दर 3-4 रूपये से बढ़कर 10  रूपये तक पहँच गयी है। विद्युत विभाग द्वारा बिजली की मांग को पूरा करने हेतु प्रचलित महंगी दरों पर भी बिजली एक्सचेंज से अधिकतम बिजली खरीदने के प्रयास किये जा रहे है, लेकिन समस्त उत्तर भारत में बिजली की खपत बढ़ने के कारण एक्सचेंज से भी पर्याप्त मात्र में बिजली नहीं मिल पा रही है। एक्सचेंज में विद्युत उपलब्धता की कमी के कारण ग्रिड की सुरक्षा बनाये रखने के लिए राष्ट्रीय लोड डिस्पेच सेन्टर द्वारा किसी भी राज्य को ग्रिड से बिजली को ओवर ड्रा करने की अनुमति नहीं दी जा रही है।

पूरे उत्तर भारत में बिजली संकट
ऊर्जा विभाग द्वारा कोल इंडिया के अधिकारियों एवं भारत सरकार के संबंधित मंत्रालय से समन्वय स्थापित कर कोयले की आपूर्ति को बढ़ाने के प्रयास किये जा रहें है, लेकिन राज्य की विद्युत मांग को देखते हुये वर्तमान मे आपूर्ति अपर्याप्त है। ऊर्जा मंत्री डॉ.बी.डी.कल्ला एवं प्रमुख शासन सचिव दिनेश कुमार ने दिल्ली जाकर प्रदेश में कोयले की समुचित आपूर्ति सुनिश्चित करने हेतु भारत सरकार के अधिकारियों से बातचीत की।
कालीसिंध परियोजना की 600 मेगावॉट प्रथम इकाई से विद्युत उत्पादन 29 अगस्त से सुचारू रूप से प्रारम्भ हो चुका है। परन्तु दूसरी इकाई को चालू करने के लिए कोयला आपूर्ति आवश्यक है। बिजली का यह संकट केवल राजस्थान में ही नहीं हैं बल्कि उत्तर भारत के अधिकतम राज्यों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात तथा पंजाब में भी है। सितंबर के प्रथम सप्ताह में यदि पर्याप्त वर्षा नहीं होगी तो यह समस्या सितंबर माह में भी पूरे उत्तर भारत में रह सकती है। क्योंकि कोल इंडिया केन्द्र सरकार का उपक्रम है। केन्द्र सरकार से अनुरोध किया गया है कि इस समय किसानों की आवश्यकता को देखते हुए समयबद्ध तरीके से कोयले की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करावें।

(Visited 64 times, 1 visits today)

Check Also

केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह का कनवाडी गांव में दौरा

न्यूजवेव @ कनवाडी/कोटा केंद्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेंद्र सिंह शेखावत रविवार सुबह एक दिवसीय …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: