Saturday, 13 April, 2024

वायब्रेंट की मीनल जेईई-एडवांस्ड गर्ल्स केटेगरी में अव्वल

सफलता की हैट्रिक:
जेईई-एडवांस्ड ‘आंसर की’ से कोटा की छात्रा मीनल पारख को गर्ल्स केटेगरी में मिले सर्वाधिक 313 अंक
– छात्र साहिल जैन ने 324 अंकों से टॉप-10 में जगह बनाई
– कोटा में लगातार तीसरे वर्ष वायब्रेंट संस्थान का टॉप-10 में दबदबा

न्यूजवेव कोटा

Sahil Jain

एजुकेशन सिटी में वायब्रेंट एकेडमी के विद्यार्थी लगतार तीसरे वर्ष जेईई-एडवांस्ड,2018 में सर्वाधिक अंकों के साथ टॉप-10 रैंक पर कब्जा करेंगे। वायब्रेंट के निदेशक एमएस चौहान ने गुरूवार को प्रेसवार्ता में दावा किया कि वेबसाइट पर अधिकृत ‘आंसर की’ जारी होने के बाद संस्थान के क्लासरूम छात्र साहिल जैन ने 360 में से सर्वाधिक 324 (90 प्रतिशत) अंक हासिल किए हैं, उसे टॉप-5 में रैंक मिलने की उम्मीद है।

Meenal

इसी के साथ वायब्रेंट की क्लासरूम छात्रा कोटा की मीनल पारख ने देश में गर्ल्स केटेगरी में सर्वोच्च 313 अंक प्राप्त कर ऑल इंडिया टॉपर एवं दिल्ली जोन टॉपर बनने की राह प्रशस्त कर दी। कोटा की छात्रा मीनल कक्षा-9 से वायब्रेंट संस्थान में क्लासरूम कोचिंग ले रही है। गौरतलब है कि 10 जून को जेईई-एडवांस्ड का रिजल्ट घोषित होने पर विद्यार्थियों को प्राप्त अपने स्कोर के आधार पर ऑल इंडिया रैंक मिलेगी।

निदेशक नरेंद्र अवस्थी ने बताया कि इस वर्ष जेईई-मेन,2018 में संस्थान के 3092 में से 1923 विद्यार्थी शीर्ष रैंक से सफल हुए। अर्थात् 62.19 प्रतिशत स्टूडेंट सलेक्ट हुए। वायब्रेंट एकेडमी से जेईई-एडवांस्ड में वर्ष 2015, 2016 व 2017 में क्रमशः 1318, 1404 व 1513 विद्यार्थी आईआईटी में चयनित हुए। सफलता का ग्राफ प्रतिवर्ष बढ़ता जा रहा है। इस वर्ष यह संख्या और बढ़ सकती है।

निदेशक पंकज जोशी व नितिन जैन ने कहा कि वायब्रेंट एकमात्र ऐसा संस्थान है, जहां सभी निदेशक अनुभवी शिक्षक के रूप में स्वयं विद्यार्थियों को जेईई-मेन एवं जेईई-एडवांस्ड की क्लासरूम कोचिंग देते हैं। संस्थान ने अत्याधुनिक कम्प्यूटर लैब स्थापित कर परीक्षा से पूर्व जेईई ऑनलाइन पेपर के मॉक टेस्ट करवाए जिससे विद्यार्थियों का आत्मविश्वास बढ़ा और वे अच्छा स्कोर कर सके।

संस्थान सेे 100 से अधिक गर्ल्स आईआईटीयन


निदेशक विमल कुमार जायसवाल ने बताया कि संस्थान ने 2009 से अब तक प्रतिवर्ष जेईई-एडवांस्ड में कोटा से टॉप-10 से टॉप-100 रैंक में सफलता का इतिहास रचा है। इस वर्ष गर्ल्स के लिए 14 प्रतिशत सीटें आरक्षित होने से गर्ल्स की सफलता और बढे़गी। कोटा की गर्ल्स को अच्छे इंस्टीट्यट व मनपसंद ब्रंाच में एडमिशन मिल सकेगा।

संस्थान के निदेशक विकास गुप्ता एवं नील कुमार सेठिया ने बताया कि वायब्रेंट संस्थान जेईई-एडवांस्ड के लिए अलग पहचान रखता है। एग्जाम के बदलते पैटर्न के अनुसार, विद्यार्थियों को तुरंत मानसिक रूप से तैयार किया जाता है।

इससे पहले भी वायब्रेंट एकेडमी से छात्रा अदिति लढ्डा 2013 में एवं रिया सिंह 2014 में गर्ल्स केटेगरी में ऑल ऑल इंडिया टॉपर रही। संस्थान की छात्राएं रिया बूबना, अदिति गर्ग, पूर्वा दीक्षित, नेहा अग्रवाल, श्रुति जैन, गार्गी शर्मा, मृणालिनी शर्मा, अंकिता शुक्ला, समिधा पारोहा, हिमानी सिंघल, हर्षिता सिंह, मृणाल जोशी, शशि महाजन, सुगंधा सिंगला, एकता यादव व नेहा यादव सहित विभिन्न राज्यों की छात्राएं शीर्ष-1000 रैंक पर सलेक्ट हुई। संस्थान से 100 से अधिक छात्राएं आईआईटी से बीटेक कर देश-विदेश में उच्च पदों पर जॉब कर रही हैं।

(Visited 264 times, 1 visits today)

Check Also

सोशल मीडिया की फेक न्यूज पर निर्वाचन विभाग कसेगा नकेल

फेक न्यूज एवं हेट स्पीच मॉनिटरिंग पर निर्वाचन विभाग की पैनी नजर, 80 पुलिस अफसर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!