Friday, 19 July, 2024

तुष्टिकरण के खिलाफ जयपुर में सर्व हिन्दू समाज का महाप्रदर्शन

जयपुर बचाओ संघर्ष समिति ने संतों की अगुवाई में बड़ी चौपड़ पर दिया महाधरना
न्यूजवेव @ जयपुर
एक दुर्घटना को सांप्रदायिक रंग देने और असामाजिक तत्वों द्वारा चारदीवारी के बाजारों में लूटपाट के विरोध में जयपुर बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले सर्व हिन्दू समाज ने संतों की अगुवाई में बुधवार को बड़ी चौपड़ पर महाधरना दिया। इसमें हिन्दू समाज के हजारों लोगों ने तेज धूप में सडकों पर बैठकर शांतिपूर्वक धरना दिया।
कार्यक्रम शुरू होने से पूर्व भगवा ध्वज और तिरंगा झंडा लहराते हुए लोगों के समूह बड़ी चौपड़ की ओर बढने लगे। धरने में शामिल लोग तुष्टिकरण बंद करो, आंतकियों को बाहर भगाओ, आवाज दो हम एक है, छोटीकाशी की पहचान सौहार्द, संस्कृति और नारी सम्मान लिखी तख्तियां लेकर पहुंचे। भारत माता और जय श्रीराम के नारों ने माहौल में जोश बनाए रखा।
कार्यक्रम का शुभारंभ संतों के उद्बोधन और देशभक्ति गीतों के साथ हुआ। मंच से पीड़ित परिवार की आर्थिक सहायता करने और विधिक मदद उपलब्ध करवाने की घोषणा के साथ चेतावनी दी गई कि सात दिन में बाजारों में उपद्रव मचाने वाले और सड़क दुर्घटना को मॉब लिचिंग का रूप देने वालों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो जयपुर बंद का आह्वान किया जाएगा।

शांति और सौहार्द्र सामूहिक जिम्मेदारी


मुख्य वक्ता समाजसेवी हेमंत सेठिया ने कहा कि जयपुर में हमेशा से सामाजिक सौहार्द का वातावरण रहा है। सभी समुदाय और वर्ग सदियों से मिलजुल कर रहते आए हैं। लेकिन दूसरे शहरों और राज्यों से लोग आकर यहां का माहौल बिगाड़ रहे है। भारत की संस्कृति वसुधैव कुटुंबकम और सर्वे भवंतु सुखिनः की है। यहां सर से तन जुदा और खून का बदला खून जैसी कट्टरता को सहन नहीं किया जाएगा। मुस्लिम समुदाय के प्रबुद्ध लोग ऐसे लोगों को सही राह दिखाए, उन्हें संस्कारित करें, किसी के बहकावे में आकर गुंडागर्दी पर उतारू नहीं हो। यह किसी के भी लिए अच्छा नहीं है। शांति और सौहार्द्र सभी समुदायों और समाजों की सामूहिक जिम्मेदारी है।
जयपुर व्यापार महासंघ के अध्यक्ष सुभाष गोयल ने कहा कि व्यापारी समाज कमजोर नहीं है। मुस्लिम समुदाय के समूहो में आपसी झगड़े के बाद दूसरे दिन पुरोहितजी के कटले और दड़ा बाजार को जबरन बंद करवाने, सामान फैंकने की घटना में लिप्त लोगों को गिरफ्तार कर सजा नहीं दी गई तो पूरे जयपुर को बंद किया जाएगा।
गुर्जर समाज के देवनारायण गुर्जर ने कहा कि समाज के वातावरण को खराब करने वाले और ऐसे तत्वों को संरक्षण देने वाले लोगों को सबक सिखाना होगा। भारत के टुकड़े करने और सनातन का विरोध करने वालों का अस्तित्व मिटाना होगा। वाल्मीकि समाज के मनोज चांवरिया ने कहा कि आज प्रशासन और हिंदुओं और समुदाय विशेष में भेदभाव बरत रहा है। हिंदुओं के त्योहार मनाने पर अंकुश लगाया जा रहा है।
इन्होंने किया संबोधित
सिख समाज के सरदार जसवीर सिंह, मातृशक्ति से मंजू वैष्णव, जयपुर व्यापार महासंघ के अध्यक्ष सुभाष गोयल, रावणा राजपूत समाज के रणजीत सिंह सोडाला ने भी महाधरने को संबोधित किया। सर्व समाज हिंदू महासभा के अध्यक्ष चंद्रप्रकाश भाड़ेवाला, सिंधी समाज से चंद्र प्रकाश खेतानी, साहू समाज के श्याम साहू, मेहरा समाज से हनुमान सहाय मेहरा, यादव समाज से मुकेश यादव, श्रीराजपूत करणी सेना के प्रताप कालवी, विप्र सेना के अध्यक्ष सुनील तिवाड़ी सहित विभिन्न समाजों से जुड़े लोग अपने समाज के लोगों के साथ महाधरने में शामिल हुए।
संत समाज का मिला सान्निध्य
महाधरने में विभिन्न मठ-मंदिरों के संत-महंत-पीठाधीश्वर मंचीसीन रहेे। कौशल्या दास की बगीची के कानादास महाराज, सांवल दास बगीची के सियाराम दास महाराज, पापड़ के हनुमानजी के रामसेवक दास महाराज, अमरनाथ महाराज, राम कुटिया के कृष्णदास महाराज, हाथोज के दक्षिणमुखी बालाजी मंदिर के स्वामी बालमुकुंदाचार्य महाराज, सरना डूंगर के परशुराम दास महाराज, बाल व्यास महाराज, आचार्य भावनाथ, मनीष दास, साध्वी समदर्शी के अलावा गीता गायत्री मंदिर के पंडित राजकुमार चतुर्वेदी, सरस निकुुंज के प्रवक्ता प्रवीण बड़े भैया काले हनुमान मंदिर के योगेश शर्मा सहित अनेक संत-महंत उपस्थित रहे।

राज्य सरकार से की ये मांगे
1. दुर्घटना के बाद वीडियो में हरे कपड़े में एक युवक खुद को मंसूरी बताते हुए दिख रहा है। उसी व्यक्ति ने इकबाल की हथियार से हत्या की है, उसे गिरफ्तार किया जाए।
2. हिंदू युवक गुंडा तत्वों से आत्मरक्षा के लिए संघर्ष कर रहे हैं। उन पर हत्या की धारा हटाकर आत्म रक्षा की धारा लगाई जाए।
3. संपूर्ण मामले की निष्पक्ष जांच कर आठ निर्दोष लोगों को रिहा किया जाए।
4. इस प्रकरण में दो जनप्रतिनिधियों की संलिप्तता की जांच हो।
5. इकबाल के परिजनों को मॉब लिचिंग के नाम पर 50 लाख का मुआवजा दिया गया जबकि यह सत्य नहीं है। जांच रिपोर्ट नहीं आने तक या तो मुआवजा राशि वापस ली जाए या दुर्घटना और मॉब लिचिंग में मारे गए हिंदुओं के परिजनों को भी 50 लाख रूपए दिए जाए।
6. जयपुर से बाहर आकर फुटकर व्यवसाय कर रहे थड़ी-ठेला वालों, ई रिक्शाचालकों के बैकराउंड की जांच करते हुए पहचान पत्र जारी किए जाए।
7. शहर में रात्रि साढ़े दस बजे के बाद समूह में बैठने, तेज गति से बाइक चलाकर भय का माहौल बनाने वालों से जुड़ी सख्त गाइडलाइन बनाकर पालना करवाई जाए।

(Visited 162 times, 1 visits today)

Check Also

चारू जैन इनरव्हील क्लब कोटा की नई प्रेसीडेंट

न्यूजवेव @कोटा इनरव्हील क्लब की संयुक्त कार्यकारी बैठक मंगलवार को होटल इटोस में क्लब प्रेसिडेंट …

error: Content is protected !!