Monday, 22 July, 2024

जीवन में कोई दुख आये तो समझ लेना महादेव आपको जिताना चाहते हैं- पं.प्रदीप मिश्रा

कोटा में शिव महापुराण कथा सुनने पहुंचे 2 लाख से अधिक श्रद्धालु, बच्चों व बुजुर्गो के साथ महिलाओं ने पूर्वजों के चित्र लेकर कथा श्रवण किया।
न्यूजवेव@ कोटा 

श्राद्व पक्ष में आयोजित पंचदिवसीय शिव महापुराण कथा में अलौकिक कथावाचक आचार्य प्रदीप मिश्रा ने भक्ति ज्ञान का अमृत मंथन कर लाखों श्रद्धालुओं को महादेव भोलेबाबा की दिव्य भक्ति और शक्ति से जोड़ दिया। चारों ओर शिवभक्तों से खचाखच भरे दशहरा मैदान में बाबा के जयकारों से आस्था का महासागर हिलौरें ले रहा था।
अलौकिक कथावाचक आचार्य पंडित प्रदीप मिश्रा ने गुरूवार को अंतिम सोपान में कहा कि भगवान शंकर देव नहीं महादेव हैं। उन्होंने विषपान करके सबको अमृत दिया है। धतूरे, आंकडे, कनेर के फूल जिसे कोई नही छूता है, दुनिया जिसे ठोकर मार देती है, महादेव उसे भी अपना लेते हैं। वो लेने वाला नहीं, देने वाला महादेव है।
पं. मिश्रा ने कहा कि कोटा में हजारों बच्चे पढाई के लिये बाहर से आते हैं। किसी टेस्ट, परीक्षा या इंटरव्यू में फेल हो जायें तो रोने लगते हैं, जीवन से हार जाते हैं। लेकिन घोडे़ की दौड़ से सीख लेना। घोडे को नहीं मालूम होता है कि मैं यहां जीत के लिये आया हूं। रेस में जब वह धीरे-धीरे दौडता है तो मालिक उसे चाबुक मारकर तेज दौडाता है। कष्ट पाकर भी वह दौड़ के अंत में सबसे आगे निकल जाता है। विद्यार्थियों, तुम्हे भी जीवन में कोई दुख आये, असफलता आये तो समझ लेना महादेव तुम्हें जिताना चाहते हैं। यदि राम वन में तपस्या नहीं करते तो राम नहीं बन पाते। कृष्ण पर भी बाधाओं के पहाड टूटे हैं। बचपन में मां से बिछोह हुआ, कारागृह में रहे, माखनचोर कहलाये, मामा से भी तकलीफें उठाई लेकिन कृष्ण ने गीता उपदेश देकर भक्तों को अच्छे कर्म करके जीना सिखाया है।


एक प्रसंग सुनाते हुये आचार्य पं. मिश्रा ने कहा कि एक बार शिव ने गणेश व कार्तिकेय से कहा, बहुत प्यास लगी है, जल लेकर आओ। गणेश बोले, आपके सिर पर तो गंगा है। फिर भी गणेश चूहे को लेकर आगे बढे़। जगह-जगह कुआ खोदा लेकिन जल नहीं निकला। उधर, कार्तिकेय एक ही जगह कुए को गहरा करते गये। मोर ने कहा, प्रभू अभी कुछ ओर गहरा करो, जल अवश्य निकलेगा। अंत में कार्तिकेय जल लेकर शिव के पास पहुंच ही गये। भक्तों, जीवन में हम बहुत जल्द हार मान लेते हैं। आपकी निरंतर मेहनत, कर्म और मनोबल के साथ एक लौटा जल आपको अंत में जीत अवश्य दिलायेगा। इसलिये हमें जगह-जगह भटकने से कुड नही मिलेगा। ‘मुझे तेरा ही सहारा है…भोले बाबा’ यह भरोसा लेकर रोज शिव की पूजा करोगे तो आपको खाली हाथ नहीं जाने देगा।

वे आगे भी ऐसा कर्म करते रहें


पं.प्रदीप मिश्रा ने कहा कि आज सनातन धर्म को चारों ओर से घेरा जा रहा है। भारत की पवित्र देव भूमि पर देवालय और शिवालय तोडे़ जा रहे हैं। यह अधर्म पल में प्रलय कर सकता है। हमारे कर्मों के फल से ही भाग्य प्रबल होगा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला एवं कोटा के विधायक संदीप शर्मा ने इस धरती पर श्राद्ध प़क्ष में शिव महापुराण कथा का लाभ देकर आम जनता को जो धर्मलाभ पहुंचाया है, उसका पुण्य अवश्य मिलेगा। विधायक संदीप शर्मा को भोलेनाथ ने सनातन धर्म की रक्षा करने का अवसर दिया है, वे आगे भी ऐसा कर्म करते रहें।
कोटा में अगले वर्ष लगेगी शिव की महाप्रतिमा


लोकसभा अध्यक्ष व कोटा-बूंदी के सांसद ओम बिरला ने कहा कि इस विराट शिवमहापुराण कथा ने लाखों भक्तों को जोडकर कोटा में हमारा विशाल शिव परिवार बना दिया है। कोटा नीलकंठ महादेव और चार चौमा महादेव की धरती है। हमारा संकल्प है कि शिव आराधना के लिये कोटा शहर में अगले वर्ष महादेव की महाप्रतिमा स्थापित की जायेगी। जिसका अभिषेक करने के लिये पं. प्रदीप मिश्रा को फिर से कोटा आने का आमंत्रण दिया। ऐसे वातावरण से शहर के घर-घर में हर-हर महादेव की गूंज सुनाई देने लगी है। यही आस्था, संस्कृति, आध्यात्म की प्रवृत्ति देश में सनातम धर्म को नई उंचाइयों तक ले जायेगी।
एक लाख से अधिक ने ली महाप्रसादी
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की पहल पर कथा समाप्ति के बाद दशहरा मैदान में उपस्थित हजारों शिव भक्तो ने शांतिपूर्वक महाप्रसादी ग्रहण की। कथा आयोजक विधायक संदीप शर्मा एवं उनकी पत्नी गीता शर्मा ने लाखों भक्तो के साथ शिव महाआरती कर कथा को सफल बनाने के लिये सभी भक्तों का आभार जताया।

(Visited 5,286 times, 1 visits today)

Check Also

हॉस्टल्स से यूडी टैक्स की वसूली आवासीय श्रेणी में हो

जयपुर में विधायक संदीप शर्मा के साथ यूडीएच मंत्री झाबर सिंह खर्रा से मिला प्रतिनिधिमंडल …

error: Content is protected !!