Monday, 6 July, 2020

आदर्श क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी में निवेशकों के 8000 करोड़ रू. फंसे

निवेशकों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को ज्ञापन देकर जमा धन दिलवाने की मांग की

न्यूजवेव@ कोटा
आदर्श क्रेडिट कॉॅपरेटिव सोसायटी (मल्टी स्टेट) ने राजस्थान सहित देश के अन्य राज्यों में अपने कारोबार बंद कर दिये है। सोसायटी देश में 807 शाखाओं के माध्यम में अपने सदस्यों के बीच लेनदेन का कार्य कर रही थी लेकिन किसी अनियमितता के कारण सोसायटी ने अपने कार्यालय बंद कर दिए हैं।

गुरूवार को आदर्श कॉपरेटिव क्रेडिट सोसायटी के प्रतिनधिमण्डल ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को ज्ञापन देकर कहा कि कुछ स्वार्थी तत्वों द्वारा षडयंत्रपूर्वक 21 लाख निवेशकों के 8 हजार करोड़ रूपये हड़पने का प्रयास किया गया है। कोरोना महामारी के समय निवेशकों को अपनी फंसी रकम वापस दिलावाने में सरकार कोई रास्ता निकाल कर मदद करे। इस पर लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने भरोसा दिलाया कि निवेशकों का धन वापस लौटाने के लिए केंद्रीय स्तर पर प्रयास कर एक डेढ़ माह में कोई सकारात्मक समाधान निकालने का प्रयास किया जाएगा। प्रतिनिधिमण्डल ने बहादुरसिंह हाड़ा, ओमप्रकाश श्रीवास्तव, मोहनमुरारी सोनी ,सुरभि झामनानी आदि शामिल रहे। हाड़ा ने बताया कि सोसायटी के संचालक अनियमितताओं के आरोप में पिछले डेढ़ वर्ष से जेल में बंद है। कुछ संचालक जमानत पर छूट गए है। एसएफआईओ या न्यायालय प्रक्रियाऐ जटिल होने से निवेशकों को राहत मिलने के लिये लंबा इंतजार करना पड़ सकता है।

उन्होंने बताया कि केंद्रीय सहकारिता विभाग ने सोसायटी पर लिक्विडेटर नियुक्त कर दिया है। निवेशकों ने आग्रह किया कि लिक्विडेटर के स्थान पर प्रशासक नियुक्त किया जाए। सरकार सोसायटी के सीज खातों को खोलकर लोगों की देनदारी के लिए बोर्ड बना कर संचालक मंण्डल नियुक्त करे जिससे सोसायटी पूर्व की स्थिति में संचालित हो सके। ऐसी प्रक्रिया अपनाई जा सके जिससे निवेशकों को उनकी देय राशि का शीघ्र भुगतान हो सके।

(Visited 1,651 times, 1 visits today)

Check Also

कोरोना वायरस के उपचार में संभावित विकल्प हैं चाय और हरड़

IIT दिल्ली के शोधकर्ताओं ने चाय और हरितकी में ऐसे तत्व का पता लगाया है …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: