Thursday, 4 March, 2021

फूलों से हासिल करें कुदरती खूबसूरती

शहनाज हुसैन
न्यूजवेव @ नईदिल्ली
फूलों की पंखुड़ियां आज भी खूबसूरती में चार चांद लगा देती हैं। भारत में फूलों की पंखड़ियों से हर्बल सौंदर्य उत्पाद बनाये जा रहे हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियों के सौंदर्य प्रसाधन से पहले सौंदर्य निखारने में फूलों का उपयोग चलन में रहा है। आजकल रासायनिक सौन्दर्य प्रसाधनों के दौर में नेचुरल फूल त्वचा तथा बालों के सौन्दर्य को निखारने में कारगर साबित हो रहे हैं। दमकती त्वचा तथा चमकीले बालों के लिये भले ही फूलों के सौंदर्य उत्पाद महंगे दामों पर बाजार में उपलब्ध हैं लेकिन इन उत्पादों को लम्बे समय तक जिन रासायनिक पदार्थों से सुरक्षित रखा जाता है, वह फायदे की बजाय नुकसान ज्यादा करते हैं। ऐसे में घर में फूलों के सत से हर्बल उत्पाद तैयार कर हम सौंदर्य निखारने का प्रयोग करें तो इससे आपकी आभा में चार चाँद लगेंगे।
गुलाब, लेवेन्डर, जैसमिन, गुडहल आदि फूलों से प्राकृतिक सौन्दर्य प्राप्त किया जा सकता है। फूलों से वातावरण में वनस्पतिक उर्जा मिलती है। फूलों की सुगन्ध तथा रंगों से न केवल हम आनन्दित होते हैं बल्कि फूलों में ताकतवर गुणकारी तत्व भी विद्यमान होते हैं।

गुलाब, चमेली, लवेन्डर से मानसिक शांति


अनेक फूलों की खूशबू से ही मानसिक शांति मिलती है। गुलाब, चमेली, लवेन्डर तथा नारंगी फूलों से मानसिक विकारों से ग्रस्त रोगियों का इलाज होता रहा है। सौन्दर्य से जुड़ी समस्यायें जैसे बालों का गिरना, गंजापन, कील-मुहांसे आदि मानसिक तनाव की देन माने जाते हैं। फूलों की सुगन्ध से तनाव से मुक्ति के साथ शरीर में शांतिदायक तथा ताजगी के पलों का एहसास मिलता है।
ब्यूटी विशेषज्ञ सौन्दर्य उपचार के लिए सौन्दर्य उत्पादों में फूलों के सत्त तथा सुगन्धित तेल का व्यापक उपयोग करते हैं। तिल, नारियल, जैतून तथा बादाम आदि का प्रेस्ड ऑयल सुगन्धित तेल से बिल्कुल भिन्न है। सुगन्धित तेल प्राकृतिक रूप में काफी जटिल होते हैं तथा सुगन्धित तेल पौधों के सुगन्धित हिस्से से संघटित होते हैं। यह पौधे की प्राण शक्ति माने जाते हैं। सुगन्धित तेलों को औषधीय तेलों के साथ-साथ सुगन्ध के लिए जाना जाता है। गुलाब, चन्दन, मोंगरा, चमेली, लवेन्डर आदि फूलों की महक सुगन्धित तेलों की वजह से होती ह। सुगन्धित तेलों को दूसरे बादाम, तिल, जैतून तथा गुलाब जल लोशन से मिश्रित करके ही उपयोग में लाना चाहिए तथा सुगन्धित तेलों को विशुद्ध रूप से कभी उपयोग में नहीं लाना चाहिए।
गुलाबजल है बेहतरीन टोनर
गुलाबजल को त्वचा का बेहतरीन टोनर माना जाता है। थोड़े से गुलाबजल को एक कटोरी में ठंडा करें। काटनवूल की मदद से ठंडे गुलाब जल से त्वचा को साफ करें तथा त्वचा को हल्के-हल्के थपथपायें। इससे त्वचा में यौवनता तथा स्वास्थ्यवर्धक बनाये रखने में मदद मिलती है। यह गर्मियों तथा बरसात ऋतु में काफी उपयोगी साबित होता है।
तैलीय त्वचा के लिएः एक चम्मच गुलाबजल में दो-तीन चम्मच नींबू का रस मिलायें तथा इस मिश्रण में कॉटनवूल पैड डुबोकर इससे चहरे को साफ करें। इससे चेहरे पर जमा मैल, गन्दगी, पसीने की बदबू को हटाने में मदद मिलेगी।
ठंडा सत्त तैयार करने के किए जपा पुष्प के फूल तथा पत्तियों को एक तथा छह के अनुपात में रात्रिभर ठण्डे पानी में रहने दें। फूलों को निचोड़कर प्रयोग करने से पहले पानी को बहा दें। इस सत्त को बालों तथा सिर को धोने के लिए प्रयोग में ला सकते हैं। इस सत्त या फूलों के जूस में मेहंदी मिलाकर बालों पर लगाने से बालों को भरपूर पोषण मिलता है तथा यह बालों की कंडीशनिंग उपचार के लिए प्रयोग में लाया जाता है।
गेंदे के फूलों से बाल व त्वचा चमकायें


गेंदे या केलैन्डयुला के ताजा या सूखे पत्तों का भी प्राकृतिक सौन्दर्य में उपयोग किया जा सकता है। चार चम्मच फूलों को उबलते पानी में डालिये लेकिन इसे उबालें नहीं। फूलों को 20 या 30 मिनट तक गर्म पानी में रहने दीजिए। इस मिश्रण को ठंडा होने के बाद पानी को निकाल दें तथा मिश्रण को बालों के संपूर्ण रोगों के उपचार के लिए प्रयोग में लाया जा सकता है। ठंडे पानी से चेहरे को धोने से चेहरे में प्राकृतिक निखार आ जायेगा। इस मिश्रण से तैलीय तथा कील-मुहांसों से प्रभावित त्वचा को अत्यधिक फायदा मिलता है।

(लेखिका ख्यातिप्राप्त सौन्दर्य विशेषज्ञ हैं)

(Visited 113 times, 1 visits today)

Check Also

कोटा में एलन आरोग्यम हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर का उद्घाटन

प्रथम निशुल्क योग एवं चिकित्सा शिविर में 151 विद्यार्थियों व नागरिकों को दिया परामर्श न्यूजवेव …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: