Monday, 22 April, 2024

कठपुतली का खेल बन गई नीट की काउंसलिंग

राजस्थान में दूसरे राउंड की काउंसलिंग फिर रोक दी गई

न्यूजवेव@ कोटा
राजस्थान में एमबीबीएस/बीडीएस की 85 प्रतिशत सीटों के लिए दूसरे राउंड की काउंसलिंग फिर से कानूनी उलझनों में फंस गई है।

काउंसलिंग की शुरूआत बुधवार को एमएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर से होनी थी लेकिन इस बीच मंगलवार को एक और याचिका पर सुनवाई करते हुए राजस्थान हाई कोर्ट ने राज्य में नीट की सेकंड राउंड की काउंसलिंग को फिलहाल रोकने के निर्देश दे दिए।

मंगलवार शाम को नीट की विभागीय वेबसाइट पर काउंसलिंग के स्थगित होने की सूचना जारी कर दी गई जिससे हजारों मेडिकल विद्यार्थी एक बार फिर से असमंजस की स्थिति में खड़े हो गए।

कॅरिअर पॉइंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट देव शर्मा ने बताया कि आदेश में कहा गया है कि हाईकोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्णय लिया है कि केंद्रीय काउंसलिंग के सेकंड राउंड की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है और अधिशेष सीटों की संख्या भी राज्यों को आवंटित नहीं हुई, ऐसे में केंद्रीय काउंसलिंग के सेकंड राउंड के पूर्ण होने से पहले राज्यों में सेकंड राउंड की काउंसलिंग शुरू करना न्यायोचित नहीं होगा। इससे विद्यार्थियों के हितों पर कुठाराघात हो सकता है। इसलिए राजस्थान हाईकोर्ट ने छात्र हित में निर्णय देते हुए राज्य की सेकंड राउंड की काउंसलिंग को रोक दिया है।

क्वालिफाई विद्यार्थी यह नहीं समझ पा रहे हैं कि विवाद केवल नीट पेपर में तमिल भाषा के अनुवाद को लेकर है, लेकिन अचानक राज्यों में दूसरे राउंड की काउंसलिंग रोककर हजारों चयनित विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड क्यों किया जा रहा है।

अभिभावकों का कहना है कि काउंसलिंग में देरी होने से मेडिकल स्टूडेंट्स को एक वर्ष का नुकसान उठाना पड़ सकता है। जिनको अंतिम राउंड तक सीट नही मिलेगी, वे दोबारा तैयारी समय पर शुरू नही कर पाएंगे। ऐसे में निर्धारित काउंसलिंग शेड्यूल में बार-बार अवरोध पैदा करना न्यायोचित नही है।

(Visited 173 times, 1 visits today)

Check Also

नारायणा ई-टेक्नो स्कूल में किया 30 यूनिट रक्तदान

थैलेसिमिया बच्चों के लिये स्कूल शिक्षकों ने पहली बार दिया रक्त न्यूजवेव@कोटा श्रीनाथपुरम-ए स्थित नारायणा …

error: Content is protected !!