Thursday, 20 June, 2024

5 लाख लोगों की मौजूदगी में एक साथ 2222 जोडे़ परिणय सूत्र में बंधे

सर्वधर्म महाकुंभ – बारां के एतिहासिक सर्वधर्म वैवाहिक महाकुंभ में साधू-संतों सहित सीएम गहलोत, राजस्थान प्रभारी रंधावा, विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी, गोविंद सिंह डोटासरा सहित कई जनप्रतिनिधि साक्षी बने
न्यूजवेव@बारां

कोटा-बारां नेशनल हाईवे पर जैन तीर्थ के सामने श्री महावीर गौशाला कल्याण संस्थान द्वारा एतिहासिक सर्वधर्म निःशुुल्क सामूहिक विवाह सम्मेलन में शुक्रवार को 2222 वर-वधुओं ने एक साथ परिणय सूत्र में बंधकर नया विश्व रिकॉर्ड बनाया।

समारोह के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि उन्होने प्रमोद भाया जैसा गौभक्त नही देखा, इसीलिये उन्हें गोपालन मंत्रालय बनाकर दायित्च सौंपा। उनके प्रयासों से हमने प्रदेश में पंचायत स्तर पर नंदीशाला और गौशालायें खोलने की योजना बनाई ताकि गौवंश सडकों पर नही भटके। छोटे-बडे प्रति पशुओं के लिए सरकार ने अनुदान राशि बढाकर इसकी अवधि भी 9 माह कर दी है। आगे अनुदान 12 माह तक करने की तैयारी है।
गहलोत ने कहा कि मनुष्यों के लिए तो हॉस्पिटल खुलते हैं लेकिन पशु-पक्षियों के लिए प्रमोद भाया की प्रेरणा से श्री महावीर निशुुल्क पशु-पक्षी हॉस्पिटल एवं ट्रोमा सेन्टर बारां में खोला गया जिसका उदघाटन करने का अवसर मुझे मिला। ऐसी जीव सेवा सबके लिये अनुकरणीय है। मुख्यमंत्री गहलोत ने हेलीपेड से नवनिर्मित जैन तीर्थ पहुंचकर जैन मंदिर में दर्शन भी किए।
वर-वधु खिचड़ी की तरह मिलकर रहें- संत नागर
मालवा के गौसेवक संत पं. कमल किशोर नागरजी ने कहा कि वर-वधु को राम कृष्ण की तरह प्रेम व मर्यादा में जीवन बिताना चाहिए। राम सीता के विवाह में 56 व्यंजन बन सकते थे परंतु राजा जनक ने बारातियों व राजा दशरथ को भी दाल चावल की खिचड़ी खिलाई थी। तब उनसे पूछा गया कि आपने किस भाव से बारात को खिचडी खिलाई। इस पर राजा जनक बोले कि मैं चाहता हूं कि मेरी पुत्री व दामाद दाल चावल की तरह ही अपना जीवन व्यापन करे। हमेशा खिचड़ी की तरह मिल कर रहें।
गायत्री परिवार ने कराया पाणिग्रहण संस्कार
हिन्दू धर्म के वर-वधुओं का शांतिकुज हरिद्वार के गायत्री परिवार के 2 हजार सेवकों द्वारा वैदिक मंत्रो के साथ पाणिग्रहण संस्कार हुआ। समाजसेवी जीडी पटेल ने बताया कि कोटा से 400 सेवक बारां पहुंचे। वहीं मुस्लिम समाज के 111 वर-वधुओं की शहर काजी व अन्य काजियों द्वारा निकाह पढवा कर विवाह करवाया गया। इस महासम्मेलन में गौसेवक संत पं.कमल किशोर नागर, प्रभूजी नागर, संत रामप्रसाद महाराज, , महंत दिनेश गिरी, महंत रघुनाथ भारती, महंत हीरापुरी महाराज, महामण्डलेवर लक्ष्मणदास महाराज, मण्डलेश्वर बनवारी दास, बालकदास महाराज, परशुुराम दास महाराज सहित समाज के भामाशाहा ने वर-वधुओं को सुखी गृहस्थ जीवन के लिये आशीर्वाद दिये।
जब गरीब जेवर भी गिरवी रख देते हैं- भाया

महाकुंभ के प्रेरणास्त्रोत राज्य के खान एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया ने कहा कि सर्वधर्म निःशुुल्क विवाह सम्मेलन की शुरूआत 2002 में पूज्य गुरूदेव संत पं.कमलकिशोेर नागरजी द्वारा जालेडा गौशाला में श्रीमद् भागवत कथा के दौरान की थी। तब से यह सर्वधर्म सेवा जारी है।
भाया ने कहा कि गरीब परिवार बच्चों की शादी के लिए मां-बहनों के जेवर गिरवी रखने या जमीन बेचने पर विवश हो जाते है। कई बच्चों का विवाह आर्थिक संकट के कारण नही हो पाता है। इस कमी को महसूस करते हुये यह आयोजन करने का संकल्प लिया था जो बारां जिले की जनता के सहयोग से आज पूरा हुआ। उन्होंने पर्यावरण बचाने के लिए एक-एक पौधा लगाने तथा गौसेवा के लिए प्रतिदिन एक रोटी गौमाता को देने की शपथ लेने का आग्रह किया। जिला प्रमुख उर्मिला जैन ने मुख्यमंत्री गहलोत की प्रेरणा से खान एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया अविरल जीवसेवा व मानव सेवा कर रहे हैं। आज का यह महाआयोजन देश में बारां को नई पहचान देगा। श्री महावीर गौशाला कल्याण संस्थान के अध्यक्ष गौतम कुमार जैन ने बताया कि इस सर्वधर्म महाकुंभ में पडौसी राज्यों सहित प्रदेश के कई जिलों व बारां, कोटा, बूंदी, झालावाड से लाखों नागरिक परिवार सहित पहुंचे।


समारोह में कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी सुखजिन्दर सिंह रंधावा, विधानसभा अध्यक्ष सी.पी.जोशी, प्रदेशाध्यक्ष गोविन्दसिंह डोटासरा, मंत्री राजेन्द्र सिंह यादव, अशोक चांदना, विधायक पानाचन्द मेघवाल, विधायक निर्मला सहरिया सहित जनप्रतिनिधी मौजूद रहे। संस्थान के मंत्री सतीष गोयल ने सहयोग के लिये अतिथियों, मेहमानों, मीडिया, जिला व पुलिस प्रशासन सहित आम जनता का आभार व्यक्त किया।

(Visited 649 times, 1 visits today)

Check Also

कारगिल युद्ध में वीर शहीदों के शौर्य पर एलन द्वारा परिजनों का सम्मान

 शौर्य वंदन : कारगिल विजय के 25वें वर्ष पर एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट द्वारा देश में …

error: Content is protected !!