Sunday, 7 June, 2020

श्री पीपलेश्वर महादेव के द्वितीय प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव पर अनूठा भंडारा

अब तक 4500 जरूरतमंदों को पहुंचाया भोजन। 8 दिनों से रोजाना 551 भोजन पैकेट का वितरण
न्यूजवेव@ कोटा
महावीर नगर में कॉम्पिटिशन कॉलोनी स्थित भगवान श्री पिपलेश्वर महादेव मंदिर के द्वितीय प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव पर लॉकडाउन के दौरान शहर के 4500 जरूरतमंदों को भोजन पहुंचाया गया है।
मंदिर पुजारी पं.शीतल प्रसाद ने बताया कि इससे पहले 21 अप्रैल को भजन संध्या एवं 22 अप्रैल को 20000 भक्तों के लिए विशाल आम भंडारा प्रस्तावित था। जिसमे वृन्दावन, मथुरा, काशी और हरिद्वार से लगभग 50 संतो का आगमन,संतों के सान्निध्य में संकीर्तन ,भजन के माध्यम से शहरवासियों को धर्म लाभ देना प्रस्तावित था। लेकिन विश्वव्यापी कोराना महामारी के कारण लॉक डाउन लागू होने से भक्तजनों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए विराट प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव को निरस्त कर संकट के समय निराश्रितों, जरूरतमंदों, गरीब व मजदूर वर्ग के परिवारों को 22 अप्रैल से भगवान श्री पिपलेश्वर महादेव के आशीर्वाद एवं लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के दिशा निर्देशानुसार प्रांगण में प्रतिदिन 551 भोजन पैकेट तैयार कर वितरण कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि हरिकृष्ण बिऱला के मार्गदर्शन से विभिन्न संस्थाओं व कार्यकर्ताओं के सहयोग से कच्ची बस्तियों में रहने वाले मजदूर व निराश्रितों को प्रतिदिन 551 भोजन के पैकेट ‘‘साफ थाली अभियान‘‘’ के तहत वितरित किये जा रहे हैं। ‘‘साफ थाली अभियान‘‘ के प्रेरक गजेन्द्र गुप्ता व जगदीश जिंदल के नेतृत्व में सहयोगी कार्यकर्ता बालचंद शर्मा (फौजी), विभाकर जोशी, दिलीप सिंह चौहान, गिरिराज गौतम ,दिनेश खंडेलवाल, सी पी माहेश्वरी, विष्णु शर्मा, दिनेश शर्मा, कुलदीप माहेश्वरी, जागेश्वर सिंह चौहान, ओम राठौर, अशोक यादव, योगेश विजय, महेंद्रसिंह सिसोदिया, निर्मल शर्मा, विजय नामा, मुकेश नागर, दिलीप शर्मा, छोटूसिंह, रमेश नागर, राजू कुशवाह आदि टीम भावना से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करत हुये भोजन व पैकेट तैयार करने से उनका वितरण करने तक सभी कार्य निस्वार्थ सेवाभाव से नियमित कर रहे हैं। यह सेवा आगे भी निरंतर जारी रहेगी ताकि कोरोना के चलते शहर में कोई भूखा ना सोये।

(Visited 51 times, 1 visits today)

Check Also

जैन समाज ने पांच मंजिला जनउपयोगी भवन मेडिकल कॉलेज को सौंपा

कोरोना वायरस से जंग में आगे आया जैन समाज, डॉक्टर व नर्सिंग स्टाफ के रहने …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: