Saturday, 15 June, 2024

एक टेस्ट की रैंकिंग तुम्हारे व्यक्तित्व का पैरामीटर नहीं

जिला कलक्टर ने कोचिंग विद्यार्थियों को लिखा मार्मिक पत्र
न्यूजवेव@कोटा
जिला कलक्टर ओ पी बुनकर ने कोचिंग विद्यार्थियों के घर से दूर कोटा शहर में एकाकी जीवन एवं शैक्षणिक तनाव को कम करने के लिए विद्यार्थियों के नाम खुला पत्र लिखा है। यह पत्र सभी प्रमुख कोचिंग संस्थानों एवं हॉस्टलों के माध्यम से विद्यार्थियों तक पहुंचाया जा रहा है।
जिला कलक्टर ने अपने मार्मिक पत्र में लिखा कि ‘आज मुझे जैसे ही सूचना मिली कि एक और छात्र ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली, मन व्यथित हो गया आंखे नम हो गई। मैं चिन्तित हूं कि ऐसा क्यों हुआ? हमने एक होनहार बच्चे को हमेशा के लिए खो दिया। तुम तो चले गये पर जाने से पहले काश यह तो सोच लेते कि तुम्हारे माता-पिता पर क्या गुजरेगी। जो तुम्हारे सपनों को पूरा करने के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर रहे हैं।
जब तुम अपने सपने को सच करने के लिए पहली बार मेरे कोटा शहर में आये तो यहां आकर मेरे परिवार के सदस्य बन गये। मैं शहर में आने वाले हर बच्चे का ख्याल रखूं और उन्हें एक खुशनुमा माहौल दूं यह प्रयास हर समय करता रहता हूं। मैने कई बार आपके बीच सुखद पल बिताये हैं। बच्चों, अपनी मंजिल को पाने के लिए तुम बहुत मेहनत कर रहे हो पर एक रास्ता बन्द होने पर कई और भी रास्ते तुम्हारा इंतजार कर रहे है। कभी-कभी तुम्हे लगता है कि इतनी मेहनत के बावजूद तुम वह हासिल नहीं कर पा रहे हो जो तुम्हे मिलना चाहिए। लेकिन यह भी सच है कि असफलता सफलता की पहली सीढ़ी होती है।
कोचिंग लेते हुये एक टेस्ट की रैंकिंग क्या गिरी तुमने अपने आप को टूटा हुआ मान लिया। हमेशा तनावग्रस्त रहने लगे। हॉस्टल की चारदीवारी में अपने आप को कैद कर लिया और बस यही सोचते रहे कि अब आगे कुछ नहीं हो सकता। याद रखें, कोई भी असफलता आपके व्याक्तित्व का पैरामीटर नहीं है। तनाव होने पर एक बार बाहर आकर तो देखो क्या नहीं है मेरे शहर में। दुनिया का खूबसूरत रिवर फ्रन्ट, चम्बल की हिलौरें लेती लहरें, खूबसूरत ग्रीन पार्क, हर चौराहे की रोशनी आपके स्वागत को आतुर है। कभी-कभी तो मैं खुद तुम्हारे चेहरे पर हंसी देखने के लिए संगीत में मस्त हो जाता हूँ। बाहर की आबोहवा, दोस्तों से मिलना और दिन के कुछ घंटे, कुछ मस्ती और फन में भी गुजारने चाहिए। इस शहर में तुम अकेले नही हो। मैं हूं ना, हर विद्यार्थी के लिए मेरा घर-मेरा ऑफिस हमेशा खुला है। मन में संकोच मत रखना। तनाव को साझा करना सीखो। आपके मन में किसी भी प्रकार का डर या तनाव है तो आकर मुझसे साझा करें।
आपके मानसिक दबाव को दूर करने के लिए मैने संडे को फन-डे बनाने का फैसला लिया है। इस दिन सिर्फ तुम्हारे साथ संगीत की सुरमई शाम होगी, दोस्तों से मिलने का मौका होगा। न कोई टेस्ट का डर बस मस्ती ही मस्ती…। अपने आपको तरोताजा रखने के लिये रोज सुबह कुछ देकर योगा कर सकते हो। कोचिंग संस्थान, हॉस्टल, कई सामाजिक संस्थायें एवं जिला प्रशासन की पूरी टीम हमेशा आपके चेहरे पर मुस्कराहट के लिए प्रयासरत है।
आपकी कोई भी समस्या हो चाहे फीस रिफंड से संबंधित, क्वालिटी भोजन एवं किसी भी प्रकार की शारीरिक परेशानी हो मुझे बेहिचक स्टूडेंट हेल्पलाईन कोटा पर लिखकर भेज दें, उसके बाद समस्या का समाधान करने की जिम्मेदारी मेरी और टीम की है। आपके पास बहुत सारी संभावनाएं हैं और आप अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। लेकिन पहले आपको अपनी मदद करनी होगी। आपको अपना आत्मविश्वास वापस पाना होगा और यह विश्वास करना होगा कि आपके जीवन में कुछ अच्छा हो सकता है। दबाव व तनाव से अपने आप को दूर रखें और जिन सपनों को लेकर आप इस शहर में आये है उन्हें शिद्दत से पूरा करने की कोशिश करें। मन में कभी भटकाव का विचार आये तो अपने गुरु माता-पिता व मुझसे जरूर शेयर करे। जब तुम अपनी मंजिल को पाकर इस शहर से जाओगे तो मुझे जरूर याद करना। तुम्हारा हंसता मुस्कुराता चेहरा मेरे लिए किसी सौभाग्य से कम नहीं है। मेरे प्यारे बच्चों, आप मजबूत रहो। आपके पास जीवन जीने के लिए बहुत कुछ है। आपमें हर कमजोरी या समस्या को दूर करने का हौसला है। यकीन मानिए जब तक आप खुद हार नहीं मानते तब तक दुनियां में आपको कोई नहीं हरा सकता।’

(Visited 124 times, 1 visits today)

Check Also

स्वयंसेवकों में हो कर्तव्य पालन की प्रतिबद्धता – निम्बाराम

– कोटा में राजस्थान क्षेत्र के 20 दिवसीय संघ कार्यकर्ता विकास वर्ग-प्रथम का समापन न्यूजवेव@कोटा …

error: Content is protected !!