Sunday, 16 June, 2024

मुझे गर्व है कि मैं कोटा की बेटी हूं- कृतिका श्रीवास्तव

यूएसए से कोचिंग स्टूडेंट्स को मोटिवेट कर रही कोटा की बेटी कृतिका

न्यूजवेव @ कोटा
बार्कलेज इन्वेेस्टमेंट बैंक, न्यूयार्क (USA) में वाइस प्रेसीडेंस रही कृतिका श्रीवास्तव का मानना है कि स्टूडेंट लाइफ में यह महत्वपूर्ण नहीं कि मुझे आगे कौन बढ़ने देगा, बल्कि अहमियत इस बात की है कि मुझे आगे बढ़ने से कौन रोकेगा। ऐसा हौसला रखने वाले स्टूडेंट अपने कॅरिअर में कभी पीछे मुडकर नहीं देखते हैं।
कोटा प्रवास पर आई कृतिका ने एक इंटरव्यू में कहा कि मैं कोटा कोचिंग के माध्यम से आज आईआईटीयन हूं। देश में इस सबसे शांत व सुरक्षित शहर कोटा की माटी मंे हर कदम पर सफलता की खुशबू महकती है। इसीलिये सभी राज्यों के विद्यार्थी कोटा में आकर पढाई करने के लिये आतुर रहते हैं।
वर्तमान में एमेजॉन में उच्च पद पर सेवारत कृतिका श्रीवास्तव ने सेन्ट जोन्स स्कूल से स्कूली शिक्षा ली। एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट से क्लासरूम कोचिंग लेकर आईआईटी रुड़की से बीटेक एवं कोलंबिया यूनिवर्सिटी न्यूयार्क से एमएस किया।
कोचिंग स्टूडेंट्स से बातचीत में उन्होंने कहा कि कोरोना संकमण भी एक चुनौती है, अपने कॅरिअर के लिये लक्ष्य को हमेशा सामने रखें। भले ही कुछ समय के लिये कोटा में हलचल थम सी गई है लेकिन कोटा शहर हर कसौटी पर खरा उतरने में सक्षम है। यहां की आबोहवा में सिर्फ पढाई का वातावरण ही दिखाई देता है। यही वजह है कि विदेशों में कोटा का नाम सुनते ही क्वालिटी एजुकेशन और कोचिंग को याद किया जाता है। कई युवा देश-विदेश में उच्च पदों पर कार्य कर रहे हैं, वे कोटा कोचिंग में बिताये अपने दिनों को कभी भूल नहीं सकते। यहां की कोचिंग शिक्षा के साथ संस्कार देकर हमें एक अच्छा इंसान बना देती है।
अवसर को सफलता में बदलता है कोटा
मैने चुनौतियों का पूवार्नुमान कर स्वयं को लक्ष्य प्राप्ति के लिए तैयार किया। शैक्षणिक नगरी कोटा के शांत वातावरण ने मुझे बेहतर शिक्षा का अवसर दिया। एलन कोचिंग इंस्टीट्यूट में संस्कारों के साथ लक्ष्य प्रप्ति के गुर सीखने को मिले। कहते हैं, अवसर को सफलता में बदलने वाला ही विजेता बनता हैं। इस सफलता के पीछे कोटा की कोचिंग मन में नया विश्वास पैदा कर देती है। पढाई के दौरान और उसके बाद देश-दुनिया के कई शहरो में जाने का मौका मिला लेकिन कोटा सबसे लाजवाब है।
निराशा में जलाया आत्मविश्वास का दीप
कृतिका बोली, कई बार जीवन में ऐसे पल भी आते है जब हम खुद को निराशा से घिरा पाते है, ऐसे दौर में यदि हम खुद पर विश्वास रख सकें तो उम्मीद की किरणें दिखाई देती हैं। कोटा की कोचिंग ने ऐसे समय में मेरे भीतर आत्मविश्वास का दीप जलाया। यहां असफलता का नाम तक नहीं लिया जाता है। जीवन में सफलता का सोपान चढने की प्रबल इच्छा शक्ति हो तो नामुमकिन कुछ भी नहीं है। एलन ने सिखाया कि मेहनत इतनी करो कि सब कुछ मुमकिन हो जाये। कोटा की धरती मंे सफलता की खुशबू महकती है। इसलिये प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने स्वयं कहा है कोटा शिक्षा की काशी को चरितार्थ करता है। मुझे गर्व है कि मैं कोटा की बेटी हूं।

(Visited 423 times, 1 visits today)

Check Also

फिजिक्स वाला (PW) स्टूडेंट तथागत अवतार बने नीट-यूजी टॉपर

AIR-1 : घर पर रहकर ऑनलाइन क्लास में पढते हुये 720 में से 720 अंक …

error: Content is protected !!