Sunday, 16 June, 2024

नीट-यूजी,2024 के टॉप-100 में एलन के 40 स्टूडेंट्स

NEET-UG 2024 : एलन के सभी कैम्पस में स्टूडेंट्स-टीचर्स ने मनाया विक्ट्री सेलिब्रेशन
न्यूजवेव@ कोटा
नीट-यूजी,2024 के रिजल्ट में एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के स्टूडेंट्स ने टॉप-100 में से 40 शीर्ष रैंक पर सफलता का परचम लहराया। इस शानदार सफलता पर एलन कोटा के राजीव नगर, जवाहर नगर, लैंडमार्क सिटी व कोरल पार्क के सभी कैम्पस में स्टूडेंट्स ने फैकल्टी के साथ जश्न मनाया। इस दौरान ऑल इंडिया टॉपर्स भी शामिल हुये।
एलन निदेशक डॉ.बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि एनटीए द्वारा कुल 67 स्टूडेंट्स को विभिन्न केटेगरी में ऑल इंडिया रैंक-1 दी गई है। सभी टॉपर्स ने 720 अंक प्राप्त किए हैं। इन 67 स्टूडेंट्स में एलन क्लासरूम स्टूडेंट वेद शिंदे ने आल इंडिया टॉप किया है। टॉप 100 में 40 स्टूडेंट्स एलन से हैं, जिसमें 28 क्लासरूम तथा 12 दूरस्थ शिक्षा से हैं।
AIR-1 पर चमके एलन के 26 सितारे
एलन के 26 स्टूडेंट्स को आल इंडिया रैंक-1 (AIR-1) प्राप्त हुई है। इनमें 17 क्लासरूम तथा 9 स्टूडेंट्स डिस्टेंस लर्निंग से हैं। इन 17 एलन क्लासरूम स्टूडेंट्स में वेद शिंदे, माजिन मंसूर, रूपायन मंडल, प्राचिता, खुशबू, शैलजा, दिव्यांश, शशांक शर्मा, आर्यन शर्मा, कहकशा परवीन, कृष्णमूर्ति पंकज सिवाल, वेद पटेल, माने नेहा कुलदीप, रितिक राज, तेजस सिंह, अभिनव किसना और जाहन्वी शामिल हैं। साथ ही अर्गदीप दत्ता, इशा कोठारी, तथागत अवतार, उम्यमा मालबारी व मानव प्रियदर्शी एलन ऑनलाइन टेस्ट सीरीज से तथा अंजलि, आदर्श सिंह, दर्श पगधर, शिखिन गोयल ने एलन से डिस्टेंस लर्निंग से जुड़कर आल इंडिया रैंक-1 प्राप्त की।

मां की बीमारी देख डॉक्टर बनने का सपना-परवीन

पिताः मोहम्मद अब्बास (व्यापारी) व मांः इबराना बानो
AIR-1 हासिल करने वाले कहकशां परवीन ने 720 में से 720 स्कोर हासिल किया। जमशेदपुर की कहकशां ने बताया कि मैं इंजीनियर बनना चाहती थी लेकिन बचपन में मम्मी की तबियत खराब हुई। तब मम्मी को सही इलाज नहीं मिल सका। मम्मी को पापा चेन्नई लेकर गए। आज तक उनका इलाज वही से चल रहा है। मम्मी-पापा का संघर्ष बचपन से देखा है। उनको देख मुझे डॉक्टर बनने की प्रेरणा मिली। मेरे भाई कोटा से सलेक्ट होकर एमबीबीएस कर रहे हैं। उन्होनें एलन कोटा से पढ़ने की प्रेरणा की। मेरा ड्रीम कॉलेज एम्स दिल्ली है।

पापा का सपना साकार किया- ऋतिक राज

पिताः अर्जुन कुमार (भारतीय सेना), मांः रेणु कुमारी (टीचर)

बिहार के जेहानाबाद निवासी ऋतिक ने नीट यूजी में 720 में से 720 स्कोर कर AIR-1 हासिल की है। पापा आर्मी में हैं। पहले इंजीनियर बनने की इच्छा थी लेकिन पापा का मन था कि मैं डॉक्टर बनूं। उनका सपना पूरा करने के लिए एलन कोटा में एडमिशन लिया। एलन के मार्गदर्शन और पेरेन्ट्स के आशीर्वाद से डॉक्टर बनने का सपना पूरा होने जा रहा है। मैंने 10वीं एवं 12वीं कक्षा में 97 प्रतिशत अंक हासिल किए थे। कोटा आना मेरे लिए बेस्ट साबित हुआ। मैं एम्स दिल्ली से एमबीबीएस करूंगा।

मैं क्वालिटी में विश्वास रखती हूं- प्रचिता

पिताः विनोद कुमार, प्रिसीपल, मांः उमा कुमारी, सुपरिटेंडेंट, आईटीआई
राजस्थान के झुंझुनू निवासी प्रचिता ने नीट में 720 में से 720 अंक हासिल किए हैं। वहा एलन के स्कूल इंटीग्रेड प्रोग्राम की रेगुलर क्लासरूम स्टूडेंट है। प्रचिता 10वीं में 99.8 प्रतिशत अंकों से झुंझुनू में सिटी टॉपर रही। नीट के साथ उसने 12वीं 96.6 प्रतिशत अंको से पास की। उसने नीट के साथ जेईई मेन व जेईई एडवांस दिया है। जेईई मेन्स में 99.338 परसेन्टाइल स्कोर किया।
प्रचिता की मां उमा कुमारी एलन में आरपीईटी स्टूडेंट रही है। पेरेन्ट्स का सपना था कि मैं डॉक्टर बनूं। एलन के टेस्ट में कई बार मार्क्स कम आए लेकिन पेरेन्ट्स ने सपोर्ट किया। मैं पुरानी गलतियों से सीख लेकर अगले टेस्ट की तैयारी में जुट जाती थी। मैं क्वांटिटी से ज्यादा क्वालिटी में विश्वास रखती हूं। रोज टारगेट बनाकर 2 या 4 घंटे पढ़ाई करती थी । अब एम्स दिल्ली से एमबीबीएस करूंगी।

कोटा आकर टारगेट पूरे होते हैं- माजिन


पिताः डॉ. मंसूर बख्त (पीडियाट्रीशियन), मांः सहाला कौसर

एलन कोटा के क्लासरूम स्टूडेंट माजिन मंसूर दरभंगा (बिहार) से हैं। उसने नीट में 720 में से 720 स्कोर हासिल कर एआईआर-1 प्राप्त की। परिवार में कई सदस्य डॉक्टर हैं। इसलिए नीट की तैयारी के लिये एलन कोटा में एडमिशन लिया। पिता डॉ. मसूर बख्त पीडियाट्रीशियन हैं। बड़े भाई बीडीएस कर रहे हैं। मैंने 10वीं 96.4 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण की। जबकि इस वर्ष 12वीं 87.2 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण की। मैंने कभी भी टाइम के अनुसार पढ़ाई नहीं की। कोशिश करता था कि जो भी कंसेप्ट है, वो सॉलिड हो जाए। एनसीईआरटी पर फोकस रखा और कंसेप्ट बिल्डिंग पर ध्यान दिया। एग्जाम से पहले पूरी तरह से रिलैक्स था। सिर्फ छोटी-छोटी गलतियों पर फोकस किया ताकि नीट के पेपर में उन गलतियों को नहीं कर दूं। अब एम्स दिल्ली से एमबीबीएस करूंगा।

खुद पर पूरा विश्वास रखो- तेजस सिंह


पिताः डॉ. मनदीप सिंह (भारतीय वायु सेना), मांः डॉ. गोल्डी छाबड़ा (पैथोलॉजिस्ट)
एलन क्लासरूम स्टूडेंट तेजस चंडीगढ़ से हैं। नीट में 720 में से 720 स्कोर हासिल किया है। 10वीं कक्षा 97.2 एवं 12वीं 95.4 प्रतिशत अंकों से पास की है। तेजस ने नीट के साथ जेईई मेन भी दी, जिसमें उसने 99.73 परसेन्टाइल एवं फिजिक्स में 100 परसेन्टाइल स्कोर किया।
मेरे माता-पिता दोनों डॉक्टर हैं, मैं भी उनके जैसा बनना चाहता हूं। नीट की तैयारी के लिए देश में एलन ही बेस्ट है। फैकल्टीज काफी सपोर्ट करती है। जो क्लास में पढ़ाया जाता था, उस पर गंभीरता से फोकस करता था। रोजाना होमवर्क के साथ रिवीजन करता था, ताकि रोजाना के डाउट्स रोजाना क्लीयर कर सकूं। क्योंकि यदि आप डाउट्स के साथ आगे बढ़ोगे तो आपकी फाउंडेशन मजबूत नहीं बन पाएगी। एलन का स्टडी मैटेरियल नीट की तैयारी के लिए पर्याप्त होता है। एलन में मॉक टेस्ट काफी होते हैं और उनका लेवल काफी अच्छा होता है। अब एम्स दिल्ली से MBBS करूंगा। मन है कि डॉक्टर बनने के बाद समाज की निःस्वार्थ भाव से सेवा करूं।

(Visited 58 times, 1 visits today)

Check Also

स्वयंसेवकों में हो कर्तव्य पालन की प्रतिबद्धता – निम्बाराम

– कोटा में राजस्थान क्षेत्र के 20 दिवसीय संघ कार्यकर्ता विकास वर्ग-प्रथम का समापन न्यूजवेव@कोटा …

error: Content is protected !!