Tuesday, 23 April, 2024

कारूणिक रूदन के साथ शहीद हेमराज मीणा को मार्मिक विदाई

राजस्थान के कोटा जिले में विनोदकलां खुर्द गांव में शहीद हेमराज के अंतिम संस्कार में उमडे हजारों नागरिक
न्यूजवेव@ कोटा

पुलवामा आतंकी हमले में कोटा जिले के विनोदकलां गांव निवासी शहीद हेमराज मीणा का तिरंगे में लिपटा पार्थिव शरीर जिस मार्ग से गुजरा, रास्ते में लोगों ने पुष्प बिछाकर उसे श्रद्धांजलि दी। जगह-जगह ग्रामीण महिलाएं फूट-फूट कर रो पड़ी। 16 फरवरी, शनिवार सुबह शहीद सीआरपीएफ में हेड कांस्टेबल हेमराज के पार्थिव शरीर को अंटाघर चौराहा स्थित शहीद स्मारक पर लाया गया, जहां सांसद ओम बिरला, पूर्व सांसद इज्जराज सिंह, विधायक मदन दिलावर, महापौर महेश विजय, एसपी शहर दीपक भार्गव सहित जनप्रतिनिधियों ने फूल अर्पित किए। कोटा में हजारों नागरिकों ने शहीद हेमराज को सेल्यूट किया।

यहां से शहीद का काफिला विनोदकलां खुर्द के लिये रवाना हुआ तो भारत माता की जय से आसमान गूंज उठा। मार्ग में शहीद का काफिला देख समूचा यातायात थम सा गया। जनता ने नम आंखों से उनकी शहादत हो याद किया।

शनिवार को सांगोद तहसील के छोटे से विनोदकलां खुर्द गांव में खेल मैदान के पास खाली जमीन पर शहीद हेमराज का अंतिम संस्कार हुआ। यहां बड़ी संख्या में राजनेता,प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी व ग्रामीणों ने भारत माता की जय बोलते हुये राजकीय सम्मान के साथ उनकी चिता को पूर्णाहूति दी।

70 वर्षीय गमगीन पिता हरदयाल मीणा की आंखों में बेटे के बिछोह का दर्द झलक रहा था, उन्होंने कहा कि कब तक हमारे सैनिक इसी तरह मारे जाते रहेंगे। इस घटना का मुंहतोड़ जवाब देंगे तभी मेरे दिल के घाव सूखेंगे। गांव के सरपंच ने कहा कि इसी खेल मैदान में गांव के शहीद हेमराज का स्मारक बनाया जाएगा।

वीरांगना मधु बिलखती रही

गांव में पति की देह का इंतजार कर रही वीरांगना मधु मीणा की तबीयत शुक्रवार से बिगडती चली गई, चिकित्सक उनको ड्रिप चढ़ाकर संभालते रहे। उसने बताया कि पति के रिटायर होने में सिर्फ 18 माह बाकी थे, उसे क्या मालूम था कि कुछ माह पहले ही उसे यह दिन देखना पडे़गा। उनके परिवार में 4 बच्चे हैं। दो बेटियां रीना व टीना एवं दो बेटे अजय व रिशू पिता का शव देख बिलख पडे़। 12 फरवरी को वे बच्चों से मिलकर ड्यूटी पर लौटे थे।

शहीद हेमराज के परिजनों व मित्रों ने बताया कि वह बचपन से ही सेना में जाने का उत्सुक रहा। वह बच्चों को सैनिकों की बहादुरी के किस्से सुनाता था। उसमें देशभक्ति का जज्बा कूट-कूट कर भरा था। उनके सबसे छोटे बेटे रिशू ने पापा के शव को देख बोला- मैं बड़ा होकर पुलिस में जाउंगा, आतँकवादियों के बंदूक से मार गिराउंगा। बच्चों की देशभक्ति देख ग्रामीणों की आंखों से आंसू नहीं रूके। शहीद के भाई रामविलास ने सरकार से पत्नी व बडी बेटी को नौकरी देने व बेटे के नाम पेट्रोल पम्प देने की आवाज उठाई है।शनिवार को सैनिक हेमराज के सम्मान में आधे दिन कोटा शहर पूरी तरह बंद रहा।

(Visited 444 times, 1 visits today)

Check Also

PHF Leasing Ltd. announces hiring of over 200 people

Openings will be across 10 states and Union Territories of Operations  Newswave @ Jallandhar PHF …

error: Content is protected !!